रोजाना क्रॉसवर्ड खेलने से आपका दिमाग होता है तेज

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

क्या आपको वर्ड पजल जैसे 'क्रॉसवर्ड' खेलना पसंद है? अगर हां, तो आपके लिए एक खुशखबरी है। इस तरह के खेल खेलने से आपके दिमाग के कामकाज में सुधार होता है और आपका दिमाग दस साल छोटा रहता है। इस बात का खुलासा हाल ही में किये गए एक अध्ययन में हुआ है।

परिणामों से संकेत मिलता है कि अधिक बार वर्ड पजल खेलने से जुड़े लोग, ध्यान, तर्क और स्मृति का आकलन करने वाले संज्ञानात्मक कार्यों पर बेहतर प्रदर्शन करते हैं, जिससे मनोभ्रंश के विकास में गिरावट हो सकती है। इसके अलावा, इस तरह के लोगों का ब्रेन फ़ंक्शन भी व्याकरणिक तर्क गति और अल्पकालिक स्मृति सटीकता के परीक्षण पर अपनी आयु से दस वर्ष की उम्र के बराबर है।

 Playing Crosswords Daily May Keep Your Brain Younger

ब्रिटेन में एथिस्टर यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर कीथ वेनेसस ने कहा के अनुसार, हम शब्द पहेली उपयोग की आवृत्ति और नौ संज्ञानात्मक कार्यों के प्रदर्शन की गति और सटीकता के बीच सीधे रिश्तों को देखते हैं, जिसमें ध्यान, तर्क और मेमोरी सहित कार्य के कई पहलुओं का मूल्यांकन किया जाता है।

लंदन में आयोजित अल्जाइमर्स एसोसिएशन इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस (एएआईसी) 2017 में प्रस्तुत अध्ययन के लिए, टीम ने विश्लेषण किया है कि पहेली में उलझाने और आमतौर पर पहेली उपयोग की आवृत्ति के साथ संवर्द्धित रूप से बेहतर प्रदर्शन करने वालों में प्रदर्शन लगातार बेहतर था। इस शोध में 50 से अधिक आयु वर्ग के 17,000 से अधिक स्वस्थ लोगों को एक ऑनलाइन परीक्षण में शामिल किया था।

शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया है कि मन को सक्रिय रखने, व्यायाम करने, धूम्रपान छोड़ने और स्वस्थ संतुलित आहार खाने से मनोभ्रंश विकसित होने के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    Read more about: brain health research
    English summary

    रोजाना क्रॉसवर्ड खेलने से आपका दिमाग होता है तेज | Playing Crosswords Daily May Keep Your Brain Younger

    Love to play word puzzles such as crosswords? It may improve brain function and keep your brain ten years younger, a study has found.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more