For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

WHO की नमक पर सलाह, कहा दिनभर में 5 ग्राम से ज्‍यादा नमक खाने पर हो सकते है शरीर को ये द‍िक्‍कतें

|

नमक एक ऐसी चीज है जिसका उपयोग हम नियमित द‍िनचर्या में करे हैं। खाने में इसका इस्‍तेमाल करने के अलावा इसके कई फायदे हैं।
कोरोनाकाल में भी लोग गरारे से लेकर कुल्‍ला करने में गर्म पानी में नमक का इस्‍तेमाल क‍िया है। लेक‍िन हाल ही में विश्‍व स्‍वास्‍थय संगठन ( WHO) ने एक रिसर्च में कहा है क‍ि अधिक नमक के सेवन से प्रति वर्ष 3 म‍िलियन लोगों की मौत होती है। इस समस्‍या से बचने के ल‍िए WHO ने लोगों को द‍िनभर में सिर्फ 5 ग्राम नमक का सेवन करने की हिदायत दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि अधिक नमक खाने से हृदय रोगों और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। संगठन की पिछले साल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वयस्कों के लिए प्रति दिन पांच ग्राम से कम नमक का सेवन रक्तचाप, हृदय रोग, स्ट्रोक और कोरोनरी हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

इसके साथ खाद्य पर्यावरण में सुधार और जीवन को बचाने के लिए 60 से ज्यादा फूड कैटेगरीज में सोडियम लेवल के लिए नए मानदंड तैयार किए हैं। माना जा रहा है कि ये बेंचमार्क 2025 तक नमक की खपत में 30 प्रतिशत तक कमी लाया जा सकता है।

न‍िर्धारि‍त क‍िए नए मानक

न‍िर्धारि‍त क‍िए नए मानक

संगठन का मानना है क‍ि सरकारों को ऐसी नीतियां बनानी चाहिए जिनसे खाने में नमक की मात्रा कम हो सके और लोगों को ऐसी जानकारी दी जाए जिससे वो अपने खान पान को लेकर सही फैसले ले सकें। उन्होंने यह भी कहा की खाने-पीने की चीजें बनाने वाली कंपनियों को भी प्रोसेस्ड चीजों में सोडियम का स्तर कम करने की जरूरत है। संगठन ने खाने-पीने की चीजों की 64 श्रेणियों के लिए नए मानक बनाए हैं, जिनका उद्देश्य है उसके 194 सदस्य देशों को खाद्य कंपनियों से इस दिशा में बातचीत करके नमक के इस्‍तेमाल को कम किया जाएं। उदाहरण के तौर पर आलू के चिप्स में प्रति 100 ग्राम चिप्स में अधिकतम 500 मिलीग्राम सोडियम, पाई और पेस्ट्रियों में 120 मिलीग्राम और प्रोसेस्ड मांस में अधिकतम 360 मिलीग्राम सोडियम होना चाहिए।

न‍िर्धारि‍त क‍िए नए मानक

न‍िर्धारि‍त क‍िए नए मानक

संगठन का मानना है क‍ि सरकारों को ऐसी नीतियां बनानी चाहिए जिनसे खाने में नमक की मात्रा कम हो सके और लोगों को ऐसी जानकारी दी जाए जिससे वो अपने खान पान को लेकर सही फैसले ले सकें। उन्होंने यह भी कहा की खाने-पीने की चीजें बनाने वाली कंपनियों को भी प्रोसेस्ड चीजों में सोडियम का स्तर कम करने की जरूरत है। संगठन ने खाने-पीने की चीजों की 64 श्रेणियों के लिए नए मानक बनाए हैं, जिनका उद्देश्य है उसके 194 सदस्य देशों को खाद्य कंपनियों से इस दिशा में बातचीत करके नमक के इस्‍तेमाल को कम किया जाएं। उदाहरण के तौर पर आलू के चिप्स में प्रति 100 ग्राम चिप्स में अधिकतम 500 मिलीग्राम सोडियम, पाई और पेस्ट्रियों में 120 मिलीग्राम और प्रोसेस्ड मांस में अधिकतम 360 मिलीग्राम सोडियम होना चाहिए।

अधिक नमक खाने से हो सकती है ये समस्‍याएं

अधिक नमक खाने से हो सकती है ये समस्‍याएं

हड्डियों की कमजोरी

ज्यादा नमक का सेवन करने से वो नमक हमारी हड्डियों में मौजूद केल्शियम को धीरे धीरे घटाने लगता है जिसके चलते समय के साथ साथ हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती है और आगे चलकर यही कमजोरी ऑस्टियोपोरोसिस जैसी गंभीर बीमारी में तब्दील हो जात है।

किडनी की समस्या

किडनी की समस्या

ज्यादा नमक खाने से शरीर का पानी यूरिन और पसीने के रूप में ज्यादा तेजी से बाहर निकलने लगता है। इससे किडनी को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है और किडनी की परेशानी हो जाती है।

हाई ब्लड प्रेशर

हाई ब्लड प्रेशर

ज्यादा नमक खाने से रक्तचाप बढ़ जाता है। यदि आप उच्च रक्तचाप के मरीज हैं तो नमक की मात्रा अपने भोजन में तुरंत कम कर दें, जिससे ब्लडप्रेशर लो होने में मदद मिलेगी। हाई ब्लड प्रेशर के चलते ही सबसे ज्यादा लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियां होती हैं।

हार्ट अटैक

हार्ट अटैक

ज्यादा नमक के सेवन से दिल की बीमारिय़ां होती हैं और हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

गुर्दे की पथरी

गुर्दे की पथरी

ज्यादा नमक के सेवन से आपके शरीर में कैल्शियम हड्डियो से निकल कर यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है। जिसके चलते गुर्दे में पथरी होने की आशंका बढ़ जाती है।

English summary

WHO Tells How Much Salt You Should Consume In A Day

WHO said that despite its recommendation to limit daily salt intake to 5 grams, most people across the world consume double that amount, increasing the risk of developing heart diseases and strokes.