For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

हर बार छींकना नहीं होता है अशुभ, इन कामों में छींकना होता है शुभ

|

ह‍िंदू धर्म में छींक को शुभ और अशुभ से जोड़कर देखा जाता है। अक्‍सर हम छींक सुनकर अपने काम को रोक देते हैं, कुछ देर इंतजार करते है या फिर समाधान के तौर पर घर से पानी पीकर न‍िकलते हैं। लेकिन क्‍या आपको पता है क‍ि छींकना सिर्फ अशुभ नहीं होता है बल्कि कुछ मौको पर छींकना बहुत शुभ भी होता है। आइए जानते हैं छींक से जुड़े ऐसे ही शुभ और अशुभ मान्‍यताओं के बारे में।

ये होता है अशुभ

ये होता है अशुभ

यदि आप घर से किसी कार्य हेतु निकल रहे है और कोई सामने से छींकता है तो समझो कार्य में बाधा आयेगी और एक से अधिक बार छींकने से कार्य आसानी बनता है।

परीक्षा के दौरान

परीक्षा के दौरान

यदि आप परीक्षा देने जा रहें है या दे रहें है और उस समय कोई आपके पीछें से छींक रहा है तो परीक्षा में असफलता मिलने की सम्भावना रहती है।

Most Read : बालों पर गिरे छिपकली मतलब मुत्‍यु सामने खड़ी है, जानें छिपकली से जुड़े शकुन और अपशकुन

इस द‍िशा में छींकना होता है अशुभ

इस द‍िशा में छींकना होता है अशुभ

यदि कोई जातक सुबह 6 बजे से 10 बजे तक पूर्व की दिशा में छींकने की आवाज सुनता है तो उस दिन कई प्रकार कष्ट झेलने पड़ सकते है।

घर से न‍िकलते वक्‍त

घर से न‍िकलते वक्‍त

अगर आप किसी यात्रा में या किसी आवश्यक कार्य हेतु घर से जा रहे है और आपके बांयी ओर कोई छींकता है तो इसे अशुभ माना जाता है। हो सके तो घर से नहीं निकलना चाहिए। फिर भी अगर निकलना जरूरी है तो एक लौंग खाकर घर से निकलें।

इस समय में भी छींकने से बचें

इस समय में भी छींकने से बचें

सोने पूर्व और जागने के तुरन्त बाद छींक का सुनना अशुभ माना जाता है।

अगर नया घर बना रहे हैं तो

अगर नया घर बना रहे हैं तो

यदि आपने नया घर बनवाया है और उसमें गृह प्रवेश करते हुये कोई छींक दे तो कम से कम 4 घण्टे के लिए गृह प्रवेश को स्थगति कर दे उसके बाद गणेश जी को घर में प्रवेश करायें और फिर आप लोग घर में जायें।

Most Read : ये हैं बिल्लियों से जुड़े शगुन और अपशगुन की ऐसी मान्यताएं, जो उड़ा देंगी आपके होश

धार्मिक कार्यों के दौरान

धार्मिक कार्यों के दौरान

कोई धार्मिक कार्य या अनुष्ठान करते वक्त कोई छींकता है तो कार्य में बाधायें आती है।

इस समय छींकना होता है शुभ

इस समय छींकना होता है शुभ

सुबह 10 बजे से 01 बजे तक छींक सुनने पर शारीरिक कष्ट, अपरान्ह 01 बजे से 03 बजे तक छींक सुनने पर स्वादिष्ट भोजन प्राप्त होता है। दिन के चौथे पहर में 3 बजे से शाम 6 बजे तक जब कोई छींक सुनता है तो किसी मित्र से मिलने का अवसर मिलता है।

 जब कोई नई चीज खरीदें

जब कोई नई चीज खरीदें

यदि आप कोई वस्तु की खरीद्दारी कर रहें है और उसी समय आपको छींक आ जाये या कोई सामने छींक दें तो खरीदी गई वस्तु से लाभ होने की सम्भावना रहती है। इसी तरह नए वस्‍त्र पहनते समय कोई छींक दे तो यह दुगुनी खुशी मिलने का संकेत है। इसका अर्थ होता है क‍ि शीघ्र ही नए वस्‍त्र मिलने वाले हैं।

 नया व्‍यापार के शुभारंभ

नया व्‍यापार के शुभारंभ

अगर आप किसी नयें व्यापार का शुभारंभ कर रहें है और उस समय छींक आ जाये तो व्यापार में सफलता मिलने के संकेत रहते है।

अस्‍पताल जाते वक्‍त

अस्‍पताल जाते वक्‍त

किसी मरीज को अस्पताल ले जाते वक्त या दवा खरीदते समय छींक आ जाये तो समझो मरीज शीघ्र ही स्वस्थ्य होने वाला है।

 भोजन करने से पहले न छींके

भोजन करने से पहले न छींके

भोजन करने से पूर्व छींक आने पर अशुभ होता है। इसी समय यदि कोई दूसरा छींके तो किये हुये भोजन से स्वास्थ्य खराब हो सकता है।

इस समय छींकने से टाल जाती है बला

इस समय छींकने से टाल जाती है बला

अगर दुघर्टनावश कोई अशुभ प्राकृतिक संकेत को देखते समय छींक आ जाए तो इससे सभी अशुभ असर दूर हो जाते हैं।

कभी नहीं रोकना चाह‍िए छींक

कभी नहीं रोकना चाह‍िए छींक

छींक आने के दौरान हमारे नासा-छिद्रों से तेज रफ्तार में हवा बाहर आती है। अगर आप छींक रोकते हैं तो ये सारा दबाब दूसरे अंगों की ओर मुड़ जाता है। इससे सबसे अधिक नुकसान कान को हो सकता है। हो सकता है कि ऐसा करने से आपके ईयर-ड्रम्स फट जाएं और आपके सुनने की क्षमता चली जाए। छींक रोकने से स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ता है. छींकने के साथ हमारे शरीर में मौजूद खतरनाक बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। पर अगर आप छींक रोकते हैं तो ये शरीर में ही बने रहते हैं।

English summary

Superstitions and Myths About Sneezing

it is believe that when you go outside and someone sneeze then it is inauspicious. But it is not inauspicious every time. It affects only when you do not have cold-cough.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more