दिल्‍ली का चीकू कैसे बना 'विराट', जानें कोहली की ये 15 पर्सनल बातें

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky
Virat Kohli : An incredible journey of a cricket superstar, कोहली की विराट गाथा | वनइंडिया हिंदी

क्रिकेट की पिच से दुनिया को नाप देने की क्षमता रखने वाला एक क्रिकेटर। जिसने क्रिकेट प्रेमियों को अपने खेल से जादूई मोह के धागे में बांध लिया है उसे हम विराट कोहली के नाम से जानते हैं।

वहीं विराट जो अद्भुत हैं, वही विराट जो असाधारण है, वही विराट जो अकल्पनीय हैं। यही कारण है कि क्रिकेट की दुनिया का ये सितारा आज एक ब्रांड का नाम है। मुसीबत की घड़ी में दर्शकों के लिए तसल्ली का एक नाम बन चुके विराट कोहली मैदान पर जब तक बने रहते हैं। पहाड़ से भी सूई गिरा देने की ताकत को टीम इंडिया अपने भीतर समेटे मैदान पर डटी रहती है।

कप्तान कोहली क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में कमाल की कप्तानी करते हैं। तीनों फॉर्मेट में कमाल की बल्लेबाजी करते हैं। तीनों फॉर्मेट में क्रिकेट को एन्जॉय करते हैं। आंकड़ों की बाजीगरी से लेकर रिकॉर्ड बुक तक सबसे तेजी से कोहली के नाम की चर्चा होती है।

बल्ले के दम पर सबके दिलों पर राज कर रहे हैं विराट कोहली

विराट कोहली ने इंडियन क्रिकेट को एक रफ्तार दी है। सौरव गांगुली ने जिस क्रिकेट में जोश की चाभी भरी थी। उसे भुनाने का असल काम धोनी से होते हुए अब कोहली की कप्तानी में चल रही है।

कोहली कलाई और स्ट्रोक दोनों के जादूगर हैं। आंकड़ों की बोलती हुई तस्‍वीर। शतकों की तेजी से बढ़ती हुई गिनती और हर सीरिज में कोई न कोई रिकॉर्ड इन्हीं बातों का सबूत है। जब जब कोहली का बल्ला चलता है तब मैदान पर गेंदबाजों की शामत आ जाती है।

आपको आश्चर्य होगा कोहली को मैदान पर खेलते देखकर कि कोई कैसे सफलता को अपनी कदमों में खींच लाता है। लेकिन इसके पीछे संघर्ष के कई किस्से हैं। क्रिकेट की दुनिया से नाम मिला, पैसा मिला, शोहरत मिली तो क्रिकेट के मैदान पर ही खड़े कोहली को पिता के दुनिया से चले जाने की खबर मिली थी। तब हौसला तो टूटा लेकिन टूटे हौसले को ही कोहली ने विराट हिम्मत में बदल दिया आज कोहली के कदमों में दुनिया भर की खुशियां पड़ी हुई है।

1. कोहली के वकील पिता की जब मौत हुई थी उस वक्त वो मैच खेल रहे थे

1. कोहली के वकील पिता की जब मौत हुई थी उस वक्त वो मैच खेल रहे थे

उस समय कोहली को फौरन फैमिली के साथ जाने को कहा गया लेकिन कोहली थे कि संकट में फंसी अपनी टीम का साथ नहीं छोड़ना चाहते थे। ये वही मैच था जब अंपायर के गलत फैसले का शिकार होकर विराट कोहली नर्वस नाइंटिन होकर पवैलियन लौट गए थे।

2. कोहली क्रिकेट के हर फॉर्मेट में कमाल करते हैं

2. कोहली क्रिकेट के हर फॉर्मेट में कमाल करते हैं

उनके बल्ले से शानदार रन निकलते हैं। आलोचना करने वाले भी उनके बल्ले से निकलने वाले रनों की गिनती में उलझ कर रह जाते हैं। हमारे देश में क्रिकेट धर्म है तो कोहली धीरे-धीरे अब क्रिकेट के नए भगवान बनते जा रहे हैं।

3. क्रिकेट को दर्शको की नजरों में भरोसे का नाम

3. क्रिकेट को दर्शको की नजरों में भरोसे का नाम

कोहली ने दर्जनों दफे मैदान पर संकट की स्थिति से टीम इंडिया को उबारा है। टीम पर पड़ी मुसीबत को कोहली ने अपने बल्ले से कई बार दूर भगाया है। दिल्ली के रहने वाले कोहली ने क्रिकेट जानने वाले तमाम देशों में अपने झंडे गाड़े हैं। कोहली के कद का अंदाजा इसी बात से लगाइए कि कोहली के आउट होने का मतलब है आधी टीम इंडिया का आउट हो जाना।

4. कोहली का क्रिकेट से प्यार कहिए या करियर का एकमात्र रास्ता

4. कोहली का क्रिकेट से प्यार कहिए या करियर का एकमात्र रास्ता

12वीं के बाद कोहली ने कभी स्कूल का मूंह नहीं देखा। वक्त-वक्त की बात है ... किसी समय के स्टार गेंदबाज आशीष नेहरा ने एक बार कोहली को स्कूल में शानदार प्रदर्शन के लिए अवार्ड दिया था। तब नेहरा जी को क्या पता था कि एक दिन कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया में उन्हें खेलना होगा और क्रिकेट से विदाई भी कोहली की कप्तानी में ही होगी।

5. अब तक कई ऐसे रिकॉर्ड और आंकड़े अपने नाम कर लिए हैं

5. अब तक कई ऐसे रिकॉर्ड और आंकड़े अपने नाम कर लिए हैं

जो कई बड़े दिग्गजों के क्रिकेट से रिटायर होने के बाद भी उनके हिस्से में नहीं होते हैं। कोहली की मंजिल काफी अलग है। रास्ता अलग है। ये बात भी अलग है कि इन रास्तों में काफी संघर्ष हैं। वैसे उन्हें करीब से जानने वाले कहते हैं कि संघर्ष तो कोहली के खून में बसा है।

6. कोहली ने अपनी छवि मैदान से बाहर भी शानदार तरीके से गढ़ी है

6. कोहली ने अपनी छवि मैदान से बाहर भी शानदार तरीके से गढ़ी है

कई दफे उन्होंने सामाजिक मुद्दों पर भी वक्त वक्त पर अपनी बात जाहिर की है। जो उन्हें बाकी क्रिकेटरों से अलग एक दूसरी पंक्ति में खड़ा करता है। तभी तो हम कहते हैं कोहली कमाल के हैं।

7. विराट कोहली में एक खास बात है जुझारूपन

7. विराट कोहली में एक खास बात है जुझारूपन

कभी हार नहीं मानने की आदत। मैदान में खड़े होकर कोहली ने जीत को छोड़कर कभी कुछ स्वीकार ही नहीं किया। इन्हीं सब बातों ने कोहली को विश्व क्रिकेट में विराट बना दिया है।

8. जब मिला प्लेयर ऑफ द टुर्नामेंट

8. जब मिला प्लेयर ऑफ द टुर्नामेंट

साल 2016 के टी-20 वर्ल्ड कप को भारत जीत तो नहीं पाया लेकिन कोहली को शानदार प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द टुर्नामेंट के खिताब से नवाजा गया। कोहली ने 5 मैचों में कुल 273 रन बनाए थे। जो कि टुर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन था। इस पुरस्कार को लेने के लिए कोहली मैदान पर मौजूद नहीं थे।

9. 2011 विश्व कप में कोहली टीम इंडिया का हिस्सा बन चुके थे

9. 2011 विश्व कप में कोहली टीम इंडिया का हिस्सा बन चुके थे

वर्ल्ड कप जैसे बड़े मौकों पर कोहली ने एक बांग्लादेश के खिलाफ नाबाद शतक जड़कर अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी थी। टीम इंडिया में नए-नए आए कोहली ने कुल 283 रन बनाए थे। ये वही विश्व कप था जिसमें 28 साल बाद भारत को जीत मिली थी। इसी जीत को कोहली ने 6 साल बाद भी ट्वीट करके याद किया था।

10. कोहली के क्रिकेट जीवन का सबसे शानदार और सुनहरा साल रहा साल 2016

10. कोहली के क्रिकेट जीवन का सबसे शानदार और सुनहरा साल रहा साल 2016

इस साल टेस्ट क्रिकेट में कोहली ने 1200 रन बनाए। औसत रहा 80 का... 2015-16 में कोहली ने क्रिकेट के सारे फॉर्मेट में जबरदस्त प्रदर्शन किया। सत्रह का साल आते आते कोहली हर मैच में रिकॉर्ड को अपने से बांधने लगे। दिसंबर के पहले हफ्ते में श्रीलंका के खिलाफ लगातार दोहरा शतक बनाने के साथ ही वो दुनिया के पहले ऐसे क्रिकेट कप्तान बन गए। जो 6 बार टेस्ट क्रिकेट में दोहरा शतक लगा चुका हो।

11. सचिन तेंदुलकर से बराबरी, ना भाई ना

11. सचिन तेंदुलकर से बराबरी, ना भाई ना

सचिन तेंदुलकर से बराबरी वाली बात पर विराट कोहली ने एक इंटरव्यू में कहा था कि जिसे देखकर हाथों में बल्ला थामा , मैदान पर जीत की आदत डाली, उससे ना तो बराबरी हो सकती है और ना ही अच्छी लगती है। इसी इंटरव्यू में कोहली ने पहली बार ड्रेसिंग रूम में सचिन को लेकर हुए हसीन हादसे को याद किया और कहा कि ड्रेसिंग रूम में पहली बार सचिन को लेकर कोहली से कहा गया कि जो पहली बार मैच खेलने आता है। वो तेंदुलकर के पैरों में झुककर आशीर्वाद जरूर लेता है... ये गुस्ताखी करने वाले क्रिकेटर थे ... विराट कोहली

12. नाम है इनका चीकू

12. नाम है इनका चीकू

दुनिया जिस क्रिकेटर को कोहली के नाम से जानती है उन्‍हें उनके चाहने वाले चीकू के नाम से पुकारते हैं। ये नाम कोहली के एक कोच ने दुलार से रखा था।

13. बीसीसीआई को भी कोहली पर ही भरोसा है

13. बीसीसीआई को भी कोहली पर ही भरोसा है

अपने आलोचकों की बातों पर ध्यान नहीं देकर क्रिकेट पर ध्यान देते रहने का नतीजा है कि बीसीसीआई को भी कोहली पर ही भरोसा है तभी तो धोनी के बाद कोहली को कप्तानी सौंप दी गई। कोहली कप्तानी में भी कमाल करते हैं-धमाल करते हैं जो करते हैं वो बेमिसाल करते हैं।

 14. 23 साल की उम्र में ICC क्रिकेटर आफ द ईयर

14. 23 साल की उम्र में ICC क्रिकेटर आफ द ईयर

ये बेमिसाल होने का ही नतीजा है कि 23 साल की उम्र में ही आईसीसी ने उन्हें ICC क्रिकेटर आफ द ईयर से सम्मानित किया।

 15. अनुष्का शर्मा को लेकर चर्चाओं में रहे

15. अनुष्का शर्मा को लेकर चर्चाओं में रहे

विराट कोहली मैदान से बाहर सबसे ज्यादा अपनी प्रेमिका बॉलिवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा को लेकर चर्चाओं में रहे। चर्चाओं का बाजार चार साल तक गर्म रहा। कभी चुपके से तो कभी जमाने के सामने इस मोहब्बत को दोनों निभाते रहे। अंत में इटली की हसीन वादियों में जाकर सात जन्मों के लिए दोनों ने सात फेरे ले लिए ये शादी साल 2017 की चर्चित शादियों में से एक थी।

 16. आगे कोहली का करियर काफी लंबा है

16. आगे कोहली का करियर काफी लंबा है

भारतीय क्रिकेट के लिए उनका नाम एक ऐसा सितारा है जो अमावस की रात में भी चांद की तरह चमकेगा कोहली को लगातार उनके शानदार परफॉर्मेंस और नए जीवन के लिए वन इंडिया हिन्दी की ओर से ढेरों शुभकमानाएं।

Read more about: bizarre, अजब गजब
English summary

Virat Kohli Biography : An incredible journey of a cricket superstar

Virat Kohli shared a new video of him on social media in which the Indian cricket team captain relives his ‘life story’ and his cricketing journey.
Story first published: Thursday, January 18, 2018, 22:17 [IST]