पोटेशियम से भरपूर इन चीजों को खाने से हार्ट डिजीज का खतरा हो सकता है कम

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

रोजाना एक केला और एक एवोकैडो खाने से धमनियों को सख्त होने से बचाया जा सकता है। आपको बता दें कि धमनियों में परेशानी से आपको हृदय रोग का अधिक खतरा होता है और आपकी मौत भी हो सकती है।

Boldsky

चूहों पर की गई रिसर्च

चूहों पर किए गए अध्ययन में पाया गया है कि पोटेशियम से भरपूर चीजें खाने से वैस्कुलर कैल्सीसिफिकेशन को कम कर देता है। यह हार्ट और किडनी डिजीज में आम है। कैल्सीसिफिकेशन तब होता है जब कैल्शियम शरीर के ऊतकों, रक्त वाहिकाओं या अंगों में बढ़ जाता है। यह निर्माण आपके शरीर की सामान्य प्रक्रियाओं को कठोर और बाधित कर सकता है। पोटेशियम से भरपूर चीजें एओर्टिक स्टिफनेस के जोखिम को भी कम करती है। यह क्लासिक कार्डियोवास्कुलर का एक जोखिम कारक है।

पोटेशियम का सेवन प्रतिकूल प्रभाव डालता है

धमनियों की सख्त या कठोरता को एथेरोस्क्लेरोसिस कहा जाता है। धमनियों की कठोरता से शरीर पर रक्त पंप करने के लिए हृदय को कितना मुश्किल काम करना पड़ता है। अलबामा विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पॉल सैंडर्स ने कहा, शोध के निष्कर्ष में क्षमता है, क्योंकि वे एथोरोसलेरोसिस चूहों में वैस्कुलर कैल्सीसिफिकेशन की रोकथाम पर पर्याप्त पोटेशियम के लाभ और कम पोटेशियम सेवन का प्रतिकूल प्रभाव का प्रदर्शन करते हैं।

चूहों को दी गई पोटेशियम से भरपूर डायट

जर्नल जेसीआई इनसाइट पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के लिए, टीम ने उन चूहों का विश्लेषण किया था, जिन्हें उच्च वसा वाला खाना दिया जाता था, जिससे हृदय रोग का खतरा होता है। इसके अलावा कुछ चूहों को पोटेशियम से भरपूर डायट दी गई थी।

कम पोटेशियम खाने वालों में ये थे बदलाव

नतीजे बताते हैं कि कम पोटेशियम खाने वाले चूहों की धमनियां बहुत कम होती जा रही थीं, जबकि उच्च पोटेशियम आहार खाने वाले चूहों की धमनी काफी कम सख्त थी। ऐसा रक्त में पोटेशियम के कम स्तर के कारण हो सकता है, जिससे रक्त की लचीलेपन को बनाए रखने वाले जीन की अभिव्यक्ति को रोकना पड़ सकता है।

English summary

पोटेशियम से भरपूर इन चीजों को खाने से हार्ट डिजीज का खतरा हो सकता है कम | Eating these potassium rich food daily may prevent heart disease

Studies on mouse have found that eating foods rich in potassium reduces vascular calcification. It is common in heart and kidney disease.
Story first published: Saturday, October 7, 2017, 11:00 [IST]