For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

सर्दियों में होती है शीतपित्त, जानें इसके कारण और घरेलू इलाज

|

अगर आपकी त्वचा उभरी हुई है, खुजलीदार चकत्ते और आंखों, गले, गाल, होंठ, हाथ जैसे क्षेत्रों में दर्द है तो आप 'शीतपित्त' के शिकार हो सकते हैं जो कि एक बहुत ही सामान्य त्वचा रोग है। पित्ती के चकत्ते आकार में होते हैं, कुछ मिलीमीटर से लेकर कई इंच व्यास तक। इसे एलर्जी त्वचा प्रतिक्रिया के रूप में भी जाना जाता है। शरीर में पित्ती निकलने के कई कारण होते हैं। आयुर्वेद में पित्ती को शीतपित्त (Sheetpitta) नामक स्थिति के रूप में बताया गया है, जो काफी हद तक इतनी से समानता रखते हैं। शीतपित्त दो शब्दों से मिलकर बना है। जिस में स्थित का मतलब 'ठंड' और पित्त का अर्थ है 'गर्मी'। आमतौर पर अत्यधिक ठंड के संपर्क में आने पर होता है।

डॉक्टर भावसार का कहना है कि आपको पहले ये ध्यान रखने की जरूरत है कि कहीं ये कंडीशन किसी और बीमारी या दवा का साइड इफेक्ट तो नहीं। अगर नहीं तो आपके शरीर में किस तरह से पित्त बढ़ रहा है

शीतपित्त के कारण?

पित्ती के संभावित कारणों में खराब पाचन, दवाओं का रिएक्शन, नींद ना आने की समस्या, रात में देर से सोना या दिन में सोने की आदत, अत्यधिक नमकीन मसालेदार और प्रोसैस्ड फूड का सेवन, ठंडे खाद्य पदार्थों का सेवन, ठंडे प्रदेश या मौसम में रहना, ठंडी हवाओं के संपर्क में रहना आदि।

क्या नहीं खाना चाहिए?

क्या नहीं खाना चाहिए?

पित्ती उछलने पर क्या करना चाहिए? यह सवाल लोगों के मन में जरूर आता है, तो ऐसी स्थिति में आपको कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए, जिनके बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं:

दूध और दुग्ध उत्पाद

फर्मेंटेड, मसालेदार, नमकीन और खट्टे खाद्य पदार्थ

मछली और अन्य मांसाहारी खाद्य पदार्थ

चीनी और प्रोसेस फूड

शराब, ठंडा पानी या अन्य ठंडे पेय का सेवन

इसके अलावा ठंडे की हवा के संपर्क से भी बचना चाहिए।

पित्ती से बचने के टिप्स

पित्ती से बचने के टिप्स

जहां तक ​​हो सके, नमक का सेवन सीमित करें और दही, दही जैसे खट्टे पदार्थों से परहेज करें और इसके स्थान पर करेले जैसे कड़वे भोजन का सेवन करें।

इस स्थिति में प्याज और लहसुन को अच्छा माना जाता है।

एक खाद्य डायरी बनाए रखें ताकि भोजन के प्रकार और लक्षणों की उपस्थिति के बीच संबंध को नोट किया जा सके।

चीनी, गुड़ और शराब सहित सभी मिठाइयों से बचें।

असंगत खाद्य पदार्थों, खट्टे खाद्य पदार्थों और भारी खाद्य पदार्थों से बचें जिन्हें पचाना मुश्किल होता है।

ताजा तैयार, आसानी से पचने योग्य खाद्य पदार्थ लें।

पके हुए चने (फलियां), करेले की सब्जियां और अनार खाएं।

चीनी की जगह शहद का प्रयोग करें।

एक दिन का उपवास करें या बहुत हल्का भोजन करें जैसे उबले हुए चावल, सब्जी का सूप आदि।

उल्टी की इच्छा को दबाने से बचें।

तनाव इस स्वास्थ्य स्थिति को खराब करने के लिए जिम्मेदार है। आपको ऐसी तकनीकों का अभ्यास करना चाहिए जो आपके मन और आत्मा को आराम दें, जैसे कि ध्यान, योग और गहरी साँस लेना। ये तनाव से राहत दिलाने में कारगर हैं।

यदि उपरोक्त लक्षण सांस लेने में कठिनाई, उल्टी, दिल की धड़कन या रक्तचाप में भिन्नता के साथ हैं, तो रोगी को अस्पताल में आपातकालीन देखभाल के लिए ले जाया जाना चाहिए।

आयुर्वेद में पित्ती या शीतपित्त का उपचार

आयुर्वेद में पित्ती या शीतपित्त का उपचार

आप आयुर्वेदिक चिकित्सा उपचार के साथ छत्ते की समस्या का इलाज कर सकते हैं, कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां जैसे हरिद्रा (करकुमा लोंगा), नीम (अज़ादिराच्टा इंडिका), शिरीष (अल्बेज़िया लेबॉक), अश्वगंधा (विथानिया सोम्निफेरा), शिरीष (अल्बेज़िया लेबॉक), वासा उपचार में बहुत अच्छा काम करती हैं। पित्ती का। आयुर्वेदिक दवाओं और पंचकर्म प्रक्रियाओं के साथ दोष का उन्मूलन और शरीर के विषाक्त पदार्थों का शुद्धिकरण पित्ती को ठीक करने के लिए आवश्यक है। अभ्यंग (मालिश), स्वेदन (सेंक), वामन (उल्टी), और विरेचन (प्रेरित लूज मोशन) पित्ती के इलाज में बहुत प्रभावी हैं।

English summary

Urticaria or Sheetapitta - Symptoms, Causes, Ayurvedic Treatment & Diagnosis in Hindi

Urticaria rashes range in size, from a few millimeters to several inches in diameter. It is also known as an allergic skin reaction.