क्‍या सच मुच प्राचीन काल में पुष्पक विमान जैसी उड़ने वाली चीज़ें थीं?

Posted By: Lekhaka
Subscribe to Boldsky

पुष्पक विमान तो याद ही होगा जिसमें रावण सीता को अशोक वाटिका से लंका तक अपहरण करके ले गया था? इससे मुझे हमेशा ही आश्चर्य होता है कि वास्तव में वह वाहन क्या रहा होगा, क्योंकि वह काल स्पष्ट रूप से पूर्व-वैमानिक युग था? क्या यह लेखक की एक कल्पना थी या वाकई ऐसा वाहन मौजूद था?

भारतीय ग्रंथों में सबसे प्राचीन वेद, कई देवताओं का उल्लेख करते हैं जिन्हें जानवरों द्वारा खींचे जाने वाले पहिएदार रथों पर ले जाया जाता था, जो कि आमतौर पर घोड़े होते थे, लेकिन ये रथ उड़ भी सकते थे। रिग वेद में विशेष रूप से "यांत्रिक पक्षियों" का उल्लेख है।

वेद में विभिन्न आकृतियों और प्रकार के विमानों का वर्णन किया गया है। दो इंजनों वाला अह्निहोत्र विमान, अधिक इंजनों वाला हाथी विमान और विभिन्न पक्षियों और जानवरों के नाम पर आधारित अन्य इंजन।

लेकिन पुष्पक विमान से पहले भी, अन्य देवताओं द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले रथों का उल्लेख है जिसमें सूर्य भगवान, का अपना रथ था, जिसमें अरुण सारथी थे। इंद्र, पवन देव, का अपना उड़ने वाला पहिएदार रथ था।

viman

ऋग्वेद का पद्य सम्मान

ऋग्वेद (छंद 1.164.47-48) कहता है- "कर्ष्णं नियानं हरयः सुपर्णा अपो वसाना दिवमुत पतन्ति, त आवव्र्त्रन सदनाद रतस्यादिद घर्तेन पर्थिवी वयुद्यते, दवादश परधयश्चक्रमेकं तरीणि नभ्यानि क उ तच्चिकेत, तस्मिन साकं तरिशता न शङकवो अर्पिताः षष्टिर्न चलाचलासः अर्थात, "अंधेरे में अवतरित।

पक्षी सुनहरे रंग के हैं, वे स्वर्ग तक उड़ते हैं, जल में चलते हैं। वे फिर से वापस मूल स्थान पर उतरते हैं, और पूरी पृथ्वी उनके भारीपन से नम हो गई है। बारह साथी हैं, और पहिया एक है, तीन धुरी हैं। किस इंसान ने इसे समझा है? इसमें 360 तीलियाँ लगी हैं जिन्हें किसी भी तरह से ढीला नहीं किया जा सकता।"

surya

बारह खम्भों वाला विमान

इस ऋग वेद के एक और श्लोक का अनुवाद श्री दयानंद सरस्वती द्वारा कुछ इस तरह किया गया है- विमान "तेजी से अंतरिक्ष में कूद जाता है, जिसमें आग और पानी का उपयोग होता है... जिसमें 12 स्तम्भ, एक पहिया, तीन मशीन, 300 धुरियाँ और 60 उपकरण... "शानदार, है ना?

भविष्यपरक रथ

महाकाव्य रामायण में रावण के पुष्पक ("फूल") विमान का इसप्रकार वर्णन है- "पुष्पक विमान, जो सूर्य जैसा दिखता है और मेरे भाई का है, को शक्तिशाली रावण द्वारा लाया गया था। वह विमान और उत्कृष्ट कृति इच्छानुसार हर जगह जाता है... रथ आकाश में एक चमकदार बादल जैसा दिखता है... और जब राजा राम इस पर चढ़े, रघुवीर के आदेश पर, उत्तम रथ आकाश में उड़ गया..."

विश्वकर्मा, मूल निर्माता

ऐसा माना जाता है कि पुष्पक विमान को मूल रूप से विश्वकर्मा द्वारा हिंदू देवता तथा रचयिता ब्रह्मा के लिए बनाया गया था। बाद में, ब्रह्मा ने इसे धन के देवता कुबेर को दिया। लेकिन यह रावण को कैसे मिला? वैसे, उसने इसे अपने सौतेले भाई से वैसे ही चुरा लिया था जैसे जैसे लंका को चुराया था।

वे गुरूत्वाकर्षण के विपरीत काम करते थे

पुष्पक विमान और अन्य प्राचीन विमान कैसे काम करते थे? क्या उस समय कोई विशेष वैमानिकी विज्ञान था? क्योंकि तिब्बत के ल्हासा में चीनियों ने कुछ संस्कृत दस्तावेजों की खोज की जिसमें पता चला कि

तत्कालीन अंतरिक्ष यान बनाने के लिए प्राचीन काल में खाका मौजूद था! दस्तावेजों के अनुसार उनकी संचालक शक्ति का तरीका, सामान्य तौर पर "गुरुत्वाकर्षण विरोधी बल" था।

लाघिमा या उत्थान का बल

गुरुत्वाकर्षण विरोधी बल के संचालक शक्ति का तरीका "लघिमा" पर आधारित था, जो कि किसी व्यक्ति के शारीरिक बनावट में मौजूद अहंकार की शक्ति थी। मानें या न मानें, अहंकार की शक्ति में "गुरुत्वाकर्षण शक्ति के विरोध के लिए पर्याप्त अभिकेन्द्रीय बल होता है", जो कि योगी द्वारा प्रदर्शित की जाने वाली उत्थान शक्ति के पीछे की ताकत है।

विमान किस तरह दिखता है?

वेदों ने विमान को एक डबल-डेक, गोल विमान के रूप में वर्णित किया है जिसमें पॉटहोल्स और गुंबद थे, जैसा कि आजकल हम एक उड़न तश्तरी की कल्पना करते हैं। इसका "हवा की गति" से उड़ान के लिए वर्णन किया गया था और एक "मधुर ध्वनि" निकालता था।

एक प्राचीन विमान मैनुअल

हालांकि ये प्राचीन अंतरिक्ष यान ने उत्थान की शक्ति पर काम करते थे, पर वे उड़ान नियमावली के बिना ऐसा नहीं करते थे। ये कमखर्च मशीनें कैसे चलती थी, इस पर कई आलेख हैं...

समारा सूत्रधारा

समारा सूत्रधारा एक वैज्ञानिक आलेख है जो कि विमान में हवाई यात्रा से संबंधित है। इसमें केवल एक ही नहीं है, बल्कि निर्माण, उड़ान, क्रूजिंग और लैंडिंग के साथ-साथ पक्षियों से टकराव के 230 पद हैं! और अधिक अद्भुत हो गया, है ना?

वैमानिक शास्त्र

भारद्वाज द्वारा चौथी शताब्दी ईसा पूर्व लिखा गया वैमानिका शास्त्र, 1875 में भारत के एक मंदिर के अंदर पाया गया। यह वाहनों के संचालन, मोड़ने की जानकारी, लंबी उड़ानों के लिए सावधानियाँ, तूफान और बिजली से विमान की सुरक्षा और मुक्त ऊर्जा से "सौर ऊर्जा" पर बदलने के तरीकों के बारे में था।

आकाश में तैरती चिड़िया के रूप में

विमान न केवल लंबवत रूप से उड़ान में सक्षम थे बल्कि वे एक पक्षी या हेलिकॉप्टर की तरह उपयुक्त लैंडिंग स्थान मिलने से पहले भी आकाश में तैरते रहने में सक्षम थे।

English summary

Airplanes of Ancient India

Remember the Pushpak Vimana in which Ravana abducted Sita from Ashok Vatika to Lanka?
Story first published: Saturday, July 15, 2017, 20:00 [IST]
Please Wait while comments are loading...