For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

बच्‍चों में डायपर रैशेज की समस्‍या हो जाएगी दूर, करें ये आसान से उपाय

|

छोटे बच्चों में डायपर रैश की समस्या होना बेहद आम बात है। पिछले कुछ समय से छोटे बच्चों के लिए डायपर का प्रयोग करना काफी पसंद किया जाता है। यह काफी आरामदायक है। लेकिन इनका लगातार इस्तेमाल बच्चे की स्किन को नुकसान पहुंचा सकता है। कुछ बच्चों को डायपर के कारण डायपर रैश की समस्या हो जाती है, जिससे उन्हें रेडनेस, जलन व दर्द आदि होता है। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि बच्चों को यह डायपर रैश की समस्या ना हो तो इसके लिए आपको कुछ बातों का खास ख्याल रखना चाहिए। तो चलिए जानते हैं इन उपायों के बारे में-

डायपर फ्री टाइम

डायपर फ्री टाइम

यकीनन डायपर का इस्तेमाल करना काफी सुविधाजनक है, लेकिन इसका अर्थ यह कतई नहीं है कि डायपर का हमेशा ही इस्तेमाल किया जाए। आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि दिन का कुछ समय बच्चा डायपर के बिना ही बिताएं। इससे उसकी स्किन को सूखने और हील होने में मदद मिले। इतना ही नहीं, अगर बच्चे को डायपर रैश हो गए हैं तो आप उसे टाइट, रबर या सिंथेटिक बॉटम पहनाने से बचें। इस दौरान बच्चे को कॉटन के लूज कपड़े पहनाने चाहिए। इससे दानों को सूखने में मदद मिलती है और त्वचा को सांस लेने का मौका मिलता है।

स्किन को करें साफ

स्किन को करें साफ

जब भी आप बच्चे का डायपर चेंज करें, तो स्किन को हल्के गर्म पानी की मदद से क्लीन करें। बच्चे की त्वचा क्लीन करने के बाद पहले उसे अच्छी तरह सूखने दें। इसके बाद ही बच्चे को दोबारा डायपर पहनाएं। इसके अलावा बच्चे के वाइप्स का चयन करते समय भी ऐसे वाइप्स को चुनें, जिसमें किसी तरह के फ्रेगरेंस व अल्कोहल ना हो।

नारियल तेल का इस्तेमाल

नारियल तेल का इस्तेमाल

नारियल के तेल में एंटीफंगल और रोगाणुरोधी गुण होते हैं और इसलिए, डायपर रैश के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह बच्चे की कोमल त्वचा पर सुखदायक और उपचार प्रभाव डालता है। नारियल तेल एक बेहतरीन मॉइस्चराइजर के रूप में काम करता है। आप इसे दिन में कई बार डायपर एरिया पर नारियल का तेल लगाएं। इसके अलावा आप बच्चे के नहाने के पानी में भी कुछ बूंदे नारियल के तेल की मिला सकते हैं।

लगाएं पेट्रोलियम जेली

लगाएं पेट्रोलियम जेली

बच्चे को डायपर रैश से बचाने का एक उपाय यह भी है कि आप बच्चे के डायपर चेंज करते हुए पहले बच्चे की स्किन पर पेट्रोलियम जेली की एक थिन लेयर लगाएं। यह बच्चे के डायपर एरिया पर यूरिन के इरिटेटिंग इफेक्ट को कम करेगा। इसके लिए आप पहले बच्चे का डायपर उतारें। उसके बाद गुनगुने पानी से बच्चे का डायपर एरिया क्लीन करें और फिर उसे अच्छी तरह सूखने दें। इसके बाद आप पेट्रोलियम जेली लगाएं।

Read more about: baby श‍िशु
English summary

Diaper Rash in Babies: Causes, Tips and Treatments

Diaper rash is inevitable for a little one in diapers. Here's what causes it, plus some tips and treatment ideas to help you keep baby's tender tush in tip-top shape.
Story first published: Saturday, September 12, 2020, 16:02 [IST]