वेक्सिंग या शेविंग, जानें कैसे करें प्‍यूबिक हेयर की सफाई?

Subscribe to Boldsky

हम हमारे शरीर के अनचाहे बालों को वैक्‍स और शेविंग जरिए हटा देते हैं। लेकिन आपको मालूम है कि स्‍वास्‍थ्‍य और हाइजीन के लिहाज से प्‍यूबिक हेयर हटाना बेहतर होता है। चूं‍कि प्‍यूबिक एरिया हमेशा ढंका होता है और वहां अक्सर पसीना रहता है। इस पसीने और गीलेपन की वजह से इंफेक्‍शन की सम्‍भावना बहुत ज्‍यादा हो जाती है। दिनभर पसीने और गीलेपन की वजह से प्यूबिक हेयर से बैक्टीरिया के पैदा होने का ख़तरा रहता है।

इसमें जीवाणु और बैक्टीरिया होते हैं, जो यौन संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। बहुत से लोग ऐसा मानते हैं कि प्यूबिक हेयर उन्हें स्किन टु स्किन कॉन्टैक्ट से होने वाले इंफेक्शन से बचाता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। प्यूबिक हेयर इंफेक्‍शन फैलाने वाले वायरस को और बढ़ा सकता है। एक स्टडी में पाया गया है कि पुरुषों के प्यूबिक हेयर से उनकी महिला पार्टनर को एचपीवी से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

beauty, body care, शरीर की देखभाल, सौंदर्य

कई लोग प्‍यूबिक हेयर की सफाई को लेकर बहुत कंफ्यूज होते हैं कि वो उसकी शेविंग करें या वैक्सिंग? बहुत से लोगों में प्‍यूबिक हेयर की सफाई को लेकर कई सवाल होते है, आइए आज हम आपको प्‍यूबिक हेयर से जुड़ी कुछ ऐसी चीजें बताने जा रहे हैं जो आपके काम इस एर‍िया की सफाई को लेकर बहुत काम आएंगी।

कैंची का करें इस्‍तेमाल

कैंची बेस्ट तरीका है। रेजर इस्तेमाल करने से बालों की ग्रोथ बढ़ जाती है, साथ ही प्राइवेट पार्ट का हिस्सा अनकंफर्टेबल और चुभने वाला हो जाता है।

बिकिनी शेव करते समय रखें इन बातों

आप बिकिनी वैक्‍स करवाएं या शेव करें, ये आप पर निर्भर करता है। लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि प्यूबिक हेयर को रिमूव करते समय उस जगह किसी प्रकार का कोई कट न लग जाए। अगर आपकी स्किन सेंसेटिव है, तो शेविंग करते समय बस आपको इस बात का ख़्याल रखना है कि रेज़र को आप स्किन पर बहुत ज़्यादा ज़ोर से या रगड़कर इस्तेमाल न करें। बिना शेविंग क्रीम के शेव करने से स्किन पर कट लग सकता है। इससे बेहतर होगा कि आप वैक्सिंग या हेयर रिमूवल क्रीम का इस्तेमाल करें।


वैक्सिंग से बेहतर ट्रिमिंग

अगर आप अपना वैजाइनल एरिया ट्रिम करके रखना चाहती हैं तो इसमें कोई नुकसान नहीं है। आप ऐसा घर में या पार्लर में जहां बिकिनी लाइन ऑफर किया जाता है, वहां ऐसा करवा सकती हैं। इससे बिना पूरी तरह शेविंग किये आप इस एरिया को क्लीन रख सकती हैं। इसके अलावा, पानी और अन्य नैचुरल वैजाइनल वॉश से वैजाइना और उसके आसपास के स्थान को साफ रखें।


वजनी लोगों के ल‍िए ज्‍यादा खतरनाक

जो लोग ज्‍यादा वजन के होते हैं, उन्‍ह‍ें प्‍यूब‍िक हेयर का खास ख्‍याल रखना चाह‍िए। मोटे लोगों में कॉम्पलीकेशन तीन गुना ज्यादा हो सकते हैं क्योंकि उनकी स्किन बगल की स्किन से लगभग चिपकी होती है। ऐसे में छोटे बाल अक्सर ही इनग्रोन बाल होते हैं। कम हवा और ज्यादा नमी के कारण इनमें इफेंक्शन का खतरा ज्यादा रहता है।

Bikini Waxing: Things you MUST know before doing, बिकनी वैक्स से पहले जानें ये ज़रूरी बातें | BoldSky


फॉलीक्यूलिटिस हो सकता है

अगर आप बार-बार प्युबिक हेयर शेव करते हैं तो आपको फॉलीक्यूलिटिस होने का खतरा होता है। खराब रेजर या गलत तरीके से शेव करने के कारण इंफेक्शन हो जाता है और सफेद बंप्स या दाने निकलने लगते हैं। इससे बचने के लिए आपको शेविंग क्रीम का इस्तेमाल करना चाहिए। ये इंफेक्‍शन ओरल एन्टीबायोटिक लेने या टॉपिकल क्रीम लगाने से ये ठीक हो सकता है।

शेव करते समय रखें इन बातों का ध्‍यान

ये सच है कि प्यूबिक हेयर को सॉफ्ट करने के लिए उसको शेव करना बहुत ज़रूरी होता है। लेकिन एक बाद का ख्याल रखें कि जिस दिशा में बाल उगता है उसके उल्टे दिशा में शेव करने की गलती न करें। ऐसा करने से बाल ज्यादा खुरखुरे निकलने लगते हैं। इसके अलावा शेविंग क्रीम का इस्तेमाल करने से स्किन मॉश्चराइज रहता है।

शेव करने के बाद

शेव करने के बाद ठंडे पानी से जगह को धो लें या गुनगुने गर्म पानी से पांच मिनट तक कंप्रेस करें इससे जलन नहीं होगा। आप एन्टी इंफ्लैमटोरी ऑयल टी ट्री ऑयल भी लगा सकते हैं जिससे शेव से हुआ जलन कुछ हद तक कम होता है। अगर शेव करने के समय शेविंग क्रीम का इस्तेमाल नहीं किया तो स्किन में रैशेज़ निकलने लगते हैं। बस आपके लिए अच्छे क्वालिटी का शेव क्रीम और उसके साथ शिया बटर और ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करें। इसके अलावा विटामिन ई ऑयल लगाने से भी प्युबिक हेयर सॉफ्ट होते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    वेक्सिंग या शेविंग, जानें कैसे करें प्‍यूबिक हेयर की सफाई? | Pubic hair: things you need to know before you shave or waxing

    Pubic hair plays an important role in protecting the genital area from pathogens and external agitation. It's also important to pay attention to any irritation in that area.
    Story first published: Monday, June 18, 2018, 12:46 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more