देखें, कैसे चाइना में तैयार की जाती है खाने पीने की ये नकली चीज़ें

Subscribe to Boldsky

खाने-पीने की चीज़ों में मिलावट देख आम आदमी खुद को एकदम से ढगा हुआ महसूस करता है। लेकिन तब इंसान क्‍या करे जब आपके बाजार में खाने-पीने की चीज़ें बिल्‍कुल ही नकली आएं और आप उसे देख कर एक सेकेंड भी शक ना कर पाएं।

READ: पीयें जीरे और गुड़ का पानी, दूर होंगी शरीर की सारी बीमारियां

जी हां, आज हम आपको एक भयानक सच्‍चाई बताने वाले हैं, जिसे पढ़ कर आपकी दूर-दूर तक सोचने की क्षमता ही खतम हो जाएगी। चाइना का मार्केट भले ही कितना बड़ा क्‍यूं ना हो लेकिन धोखेबाजी में इनका कोई मुकाबलना नहीं है।

READ: कैसे पहचाने खाद्य पदार्थ में मिलावटी समान है या नहीं?

चाइना में ना केवल इलेक्‍ट्रॉनिक सामान ही बल्‍कि खाने-पीने की चीज़ें भी नकली बनती और धडल्‍ले से बिकती हैं। हमने पहले भी आपको चीन में तैयार होने वाले प्‍लास्‍टिक राइस के बारे में बताया था और आज भी हम कुछ चौकाने वाले खुलाने करने वाले हैं, जिसे आपको ध्‍यान से देखना होगा।

यह जानकारियां आपको डरा सकती हैं और आपके विश्‍वास को डगमगा सकती हैं इसलिये इसे ज़रा दिल थाम के पढ़ियेगा।

रसायनों और रंगों से बनाएं हुए नकली अंडे

रसायनों और रंगों से बनाएं हुए नकली अंडे

ये अंडे alginic acid, पोटेशियम फिटकिरी, जिलेटिन, कैल्शियम क्लोराइड, पानी और कृत्रिम रंग से बनाए जाते हैं। अंडे के छिलके को जिसे हम एग शैल कहते हैं, उसे कैल्शियम कार्बोनेट से बनाते हैं। इन अंडों के सेवन से व्‍यक्‍ति को पागलपन के दौरे पड़ सकते हैं।

Source: althealthworks.com

सीमेंट से बने अखरोट

सीमेंट से बने अखरोट

इन अखरोट को देखने से बिल्‍कुल भी नहीं पता चलेगा कि इनके अंदर सीमेंट भरा हुआ है। अखरोट के अंदर के सीमेंट को किसी कागज या कपडे़ से लपेट दिया जाता है, जिससे वह हिलाने पर आवाज ना करे। इसके अलावा ये असली अखरोट के मुकाबले ज्‍यादा भारी भी होते हैं, जिसके कारण दुकानदार अच्‍छा खासा पैसा कमा लेते हैं।

Source: news.163.com

पॉर्क को बेचा जाता है बीफ बना कर

पॉर्क को बेचा जाता है बीफ बना कर

पॉर्क, प्रोटीन से भरा होता है और यह चाइनीज़ मार्केट में सस्‍ता भी बिकता है। इंडस्‍ट्री ने पाया कि अगर पॉर्क को रसायन और प्रेशर की मदद से बीफ बना कर बेचा जाए तो उन्‍हें ज्‍यादा प्रॉफिट होगा। कैमिकल के प्रयोग से पॉर्क के अदंर बीफ का स्‍वाद पैदा किया जाता है और बाजार में बेचा जाता है।

Source: www.chinasmack.com

औद्योगिक नमक को 'टेबल साल्ट

औद्योगिक नमक को 'टेबल साल्ट " बना कर बेचा जाता है

औद्योगिक नमक में घातक कैमिकल होते हैं, जिससे कैंसर तो होता ही है और साथ ही यह शरीर को इतना कमजोर कर देता है कि वह आसानी से कैल्‍शियम को सोख नहीं पाता।

मिट्टी से बनाई जाती है काली मिर्च

मिट्टी से बनाई जाती है काली मिर्च

यहां काली मिर्च को मिट्टी से तैयार किया जाता है जिसे खाने से हर तरह का गैस्‍ट्रिक इंफेक्‍शन हो सकता है।

प्‍लास्‍टिक राइस

प्‍लास्‍टिक राइस

प्‍लास्‍टिक राइस को बनाने के लिये आलू, शकरकंद और प्‍लास्‍टिक का प्रयोग किया जाता है। जो इसे असली चावल का आकार देने में सहायक होता है। इसे खाने से पहले तो पेट की बीमारियां होंगी और अगर नियमित तौर पर खाया गया तो, कैंसर भी हो सकता है।

प्‍लास्‍टिक और पेंट से तैयार की हुई पत्‍तागोभी

प्‍लास्‍टिक और पेंट से तैयार की हुई पत्‍तागोभी

इस पत्‍तागोभी को देख कर आप पता ही नहीं लगा पाएंगे कि यह अलग अलग रंगों, प्‍लास्‍टिक और केमिकल से तैयार की हुई है।

 कैसे पहुंचता है चीन का नकली खाना भारत

कैसे पहुंचता है चीन का नकली खाना भारत

आज कल इंटरनेट के माध्‍यम से चीन का नकली खाद्य पदार्थ बेचा जा रहा है। इसे eBay और Amazon जैसी बड़ी साइटों के माध्‍यम से ना केवल भारत बल्‍कि अन्‍य देशों तक बेचा जा रहा है।

 हरी मटर

हरी मटर

इस हरी मटर का खुलासा तब हुआ जब यह 20 मिनट तक पकाने के बाद भी नहीं पकी और इसका पानी पूरी तरह से हरा हो गया। इसमें से गंध भी आती है।

 लहसुन

लहसुन

हमारे यहां 30 प्रतिशत लहसुन चाइना से आती है। यहां से आई हुई लहसुन में रसायन, पेस्‍टिसाइड और अन्‍य घातक चीजें मौजूद होती हैं।

सफेद और काली मिर्च पावडर

सफेद और काली मिर्च पावडर

इनमें मिट्टी, आटा और लकड़ी का बूरा मिला हुआ होता है जिनसे इनका रंग बिल्‍कुल काली और सफेद मिर्च की तरह लगता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    देखें, कैसे चाइना में तैयार की जाती है खाने पीने की ये नकली चीज़ें

    Here's a list of these illegal food products that you need to watch out for before ordering food online.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more