जानिए चटनी खाने से होते हैं क्या क्या फायदे

Posted By:
Subscribe to Boldsky

चटनी ना केवल खाने के स्वाद को बढ़ाती है बल्कि यह आपको कई तरह से स्वास्थ्य लाभ भी देती है। चटनी खाने में तो तीखी लगती है लेकिन बहुत ही लाजवाब होती है और चटनी का भारतीय भोजन में एक अलग ही महत्व है।

आपको बता दें कि हमारे यहां कई तरह की चटनी का इस्तेमाल होता है जैसे धनिया, पुदीना आदि की चटनी। चटनी का इस्तेमाल हमारे देश के लगभग सभी घरों में होता है और कई सारे लोगों का मानना है कि हमारे देश में बिना चटनी के भोजन की कल्पना नहीं की जा सकती है। चटनी का सेवन करने से हमारे शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है जिससे कई तरह के इन्फेक्शन से लड़ने में मदद मिलती है।

तो आइये हम इस लेख में जरिये आपको कई तरह की चटनी के बारे में बताने जा रहें है कि कैसे इसे बनाते हैं और इससे आपके स्वास्थ्य के लिए क्या उपयोगिता है।

 1- पुदीना की चटनी:

1- पुदीना की चटनी:

पुदीने की चटनी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होती है। यह हमारे पाचन क्रिया को बढ़ाता है, इंफ्लामेसन को कम करता है और पेट को भी बहुत आराम देता है। इसके अलावा यह भूख को बढ़ाने का काम करता है और ढेर सारी बीमारियों जैसे मिचली, कब्ज़ और उल्टी आदि को ठीक करने का काम करता है।

2- करी के पत्ते की चटनी:

2- करी के पत्ते की चटनी:

आपको बता दें कि करी का पत्ता आयरन और फॉलिक एसिड का बहुत अच्छा स्रोत होता है। फॉलिक एसिड शरीर में आयरन को अवशोषित करने में भी मदद करता है जिसकी वजह से यह शरीर में खून की कमी को पूरा करता है और इसलिए इसे एनीमिया के लिए एक नैचुरल औषधि माना भी जाता है।

3- आंवले की चटनी:

3- आंवले की चटनी:

आंवला में विटामिन सी की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है जिसकी वजह से यह शरीर जी इम्युनिटी को बढ़ाने का काम करता है और इसका इस्तेमाल करने से आपको त्वचा संबंधी समस्याएं जैसे दाग धब्बे, कील मुंहासे और झुर्रियां आदि होने की संभावना काम हक जाती है। इसके अलावा यह शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है। आपको बता दें कि आंवला पैंक्रियाज को प्रेरित करता है जिससे इन्सुलिन का स्राव नियंत्रित होता है और डायबिटीज भी कंट्रोल होती है।

4- धनिये के पत्ते की चटनी:

4- धनिये के पत्ते की चटनी:

धनिया की चटनी सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। आपको बता दें कि धनिया पाचन को बढ़ाने का काम करता है इसलिए इसे परफेक्ट उपचार माना जाता है। इसमें विटामिन सी और विटामिन k की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। यह इन्सुलिन के स्राव को प्रेरित करता है जिससे यह ब्लड शुगर लेवल को कम करके डायबिटीज को नियंत्रित करने का काम करता है।

5- पिरंडई की चटनी:

5- पिरंडई की चटनी:

यह चटनी पेट से जुडी समस्याओं जैसे अल्सर, कब्ज़, गैस, बवासीर और एसिडिटी के लिए बहुत महवपूर्ण होती है। चूंकि बच्चों को पिरंडई थोगायल के रूप में खाना मुश्किल होता है इसलिए उन्हें केवल वथल के रूम में खिलाने की कोशिश करनी चाहिए। बच्चों की डाइट में पिरंडई वथल का इस्तेमाल करने से बच्चों के पेट में होने वाली समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

 6- प्याज और लहसून की चटनी:

6- प्याज और लहसून की चटनी:

इस चटनी का इस्तेमाल करने से आपके पेट संबंधी जटिल समस्याएं जैसे कब्ज़, बवासीर आदि को ठीक करने का काम करती है। आपको बता दें कि लहसून में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीइंफ्लामेट्री गुण होनेकी वजह से यह कई सारी बीमारियों के इलाज में सहायक होता है। इसके अलावा यह ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है जिससे डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी होने की संभावना कम होती है।

 7- टमाटर की चटनी:

7- टमाटर की चटनी:

टमाटर की चटनी का इस्तेमाल करने से आपको ढेर सारे विटामिन और ग्लूटाथिओन मिलते हैं जिसकी वजह से आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। टमाटर की चटनी का इस्तेमाल करने से लोगों को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में आराम मिलता है और वो एक लंबी और स्वस्थ जीवन व्यतीत करते हैं।

English summary

Health benefits of chutneys

Chutneys not only transform the taste of what we eat but also have a variety of benefits ranging from soothing the tummy to being a detox agent.
Story first published: Friday, January 12, 2018, 8:00 [IST]