मोटापा कम करने के चक्‍कर में ना पिएं ज्‍यादा नींबू पानी, हो सकते हैं ये नुकसान

Subscribe to Boldsky

वे लोग जो वजन कम करने के पीछे पागल हैं, वो अपने दिन की शुरुआत हमेशा नींबू पानी पी कर ही करते हैं। पर क्‍या आपने कभी सोंचा है कि जरुरत से ज्‍यादा नींबू पानी पीना भी आपके शरीर के लिये कितना ज्‍यादा नुकसानदेह हो सकता है? हम में से बहुत लोग नींबू को हेल्‍थ, स्‍किन और बालों के लिये वरदान मानते हैं। मगर जिस तरह से कोइ चीज़ फायदा पहुंचाती है ठीक उसी तरह से वह ज्‍यादा लेने से नुकसान भी पहुंचा सकती है।

Side Effects Of Lemon Juice Overdose: A Sour Note

नींबू एक एसिडिक फ्रूट है जिसका pH, 2 होता है। नींबू में ढेर सारा विटामिन सी होता है जिसके ओवरडोस की वजहह से साइड इफेक्‍ट देखने को मिल सकता है। वैसे तो विटामिन सी के ओवरडोस का रिस्‍क काफी कम देखने को मिलता है क्‍योंकि शरीर में इसका ओवरडोज होने के लिये हमें 2,000 mg तक विटामिन सी ग्रहण करना पड़ेगा, जो कि नींबू के रस का 21 कप माना जाता है।

पर याद रखें कि हमको विटामिन सी केवल नींबू से ही नहीं बल्‍कि कई अन्‍य खाद्य पदार्थों से भी मिलता है जिसे हम रोजाना आने अनजाने खाते हैं। नींबू पानी के लंबे समय तक के सेवन करने से आपको कई साइड इफेक्‍ट्स हो सकते हैं, जिसके बारे में हम आपको जानकारी देंगे।

दांतों का संवेदनशी होना

कभी आपने नींबू को मुंह में रख कर दांतों से काटने की कोशिश की है पाया है कि यह पूरे मुंह को खट्टा कर देता है। यह इसलिये क्‍योंकि नींबू आपके दांतों के इनेमल पर एसिड छेाड़ता है। नींबू में सिट्रस एसिड होता है, जिसका दांतों में ज्‍यादा संपर्क होने से दांत संवेदनशील हो जाते हैं। अगर आपको नींबू पानी पीना भी है तो उसे हमेशा स्‍ट्रॉ से पियें, जिससे पानी दांतों को न छुए। नींबू में लगभग pH, दो के बराबर होता है जो कि सिट्रस और ascorbic acid की वजह से होता है। और जब यह एसिड कैल्‍शियम के संपर्क में आते हैं दांतों और मसूड़ों को नुकसान पहुंचाते हैं।

सीने में जलन और अल्‍सर पैदा करे

अगर आपको एसिडिटी की समस्‍या है तो, नींबू का सेवन एक दम बंद कर दीजिये क्‍योंकि इसमें एसिड होता है। यह एसिडिक जूस आपके पेट की लाइनिंग पर असर डालता है जिससे पेट का एसिड esophagus में वापस आ जाता है और खट्टी डकार जैसी समस्‍या आने लगती है। वे लोग जिन्‍हे पेट का अल्‍सर है उन्‍हे नींबू से परेशानी पैदा हो सकती है और बीमारी जल्‍द ठीक नहीं होगी।

मतली, उल्‍टी और पेट हो सकता है खराब

कई बार लोग खाना पचाने के लिये नींबू के रस का सेवन करते हैं क्‍योंकि इसका एसिड पाचन में मदद करता है। पर पेट में अधिक एसिड हो जाने की वजह से पेट खराब हो सकता है। नींबू को हमेशा खाने में मिला कर ही खाएं। अगर आपको नींबू पानी पीने के बाद उल्‍टी या पेट खराब होने जैसा लगे तो जान जाएं कि आपकी डाइट में विटामिन सी ज्‍यादा हो रहा है और अब आपको इसे बंद करना होगा। अगर आप पहले से ही नींबू का रस पी चुके हैं तो आपकी बॉडी और ज्‍यादा विटामिन सी लेने से मना कर देगी।

आयरन की मात्रा बढ जाएगी

विटामिन सी शरीर में आयरन के तत्‍व को अवशोषित करने में मदद करता है। लेकिन अगर आपकी बॉडी में पहले से ही ज्‍यादा आयरन स्‍टोर कर के रखा है तो यह आपके लिये घातक हो सकता है। शरीर में अत्‍यधिक आयरन होना मतलब आपके अंगों पर बुरा असर। इससे अंग डैमेज भी हो सकते हैं।

गुर्दे और पित्ताशय की थैली की समस्‍या

नींबू में एसिडिक लेवल के अलावा उसमें ऑक्‍सलेट भी होता है, जो कि ज्‍यादा सेवन से शरीर में जा कर क्रिस्‍टल बन सकता है। ये क्रिस्‍टलाइज्‍ड ऑक्‍सलेट, किडनी स्‍टोन और गॉलस्‍टोन का रूप ले सकता है।

डीहाइड्रेशन

नींबू पानी पीने से बार बार पेशाब आती है, जिससे बॉडी में डीहाइड्रेशन हो सकता है। इसलिये नींबू पानी का सेवन जब भी करें, तब दिन भर में ढेर सारा पानी अलग से पीते रहें।

कुछ सावधानियां बरतें -

नींबू पानी को कभी भी किसी प्रकार की बीमारी को दूर करने के लिये नहीं पीना चाहिये। अगर आपको इसे पीने के बाद कोई साइड इफेक्‍ट लगे, तो इसका सेवन तुरंत ही बंद कर दें। अगर आपको इसे विटामिन सी प्राप्‍त करने के लिये पीना है, तो केवल आधा नींबू निचोड़ कर आधे गिलास पानी में मिक्‍स कर के पियें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    मोटापा कम करने के चक्‍कर में ना पिएं ज्‍यादा नींबू पानी, हो सकते हैं ये नुकसान | Side Effects Of Lemon Juice Overdose: A Sour Note

    It’s best to have no more than 2 lemons a day or 3 cups of diluted lemon juice. Do keep in mind that side effects could also depend on your health and that of your teeth and gum.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more