For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

आम खाने से पहले जरुर परख लें, ऐसे होते हैं केमिकल से पके आम

|

गर्मी का मौसम आते ही बाजार में आम बिकना शुरू हो जाता है। आम के शौकीन लोग इस मौसम में बहुत ही मजे से इसे खाते हैं। लेकिन कभी-कभी बिना जांचे आम को खाने से सेहत के ल‍िए नुकसानदायक हो सकता है, जब केमिकल से पके आम खाने को मिलते हैं। क्योंकि उनके स्वाद में प्राकृतिक रूप से पके आम जैसा स्वाद नहीं होता है। वहीं केमिकल से पके आम खाने से सेहत को भी बहुत नुकसान होता है।

सेहत के लिए बहुत खतरनाक हैं केमिकल वाले आम

सेहत के लिए बहुत खतरनाक हैं केमिकल वाले आम

अगर आप बाजार में मिलने वाले सुंदर पीले पके आम देखकर खरीद रहे हैं तो आप इन फलों के साथ बहुत सारी बीमारियां भी घर लेकर आ रहे हैं। इसलिए इस तरह के आमों को खरीदने से पहले परख लें कि कहीं ये केमिकल से पके आम तो नहीं क्योंकि किसान और व्यापारी जिन केमिकल से इन आमों को पकाते हैं वो कैंसर और नर्वस सिस्टम को खराब करती हैं।

क्यों होते हैं खरतरनाक

क्यों होते हैं खरतरनाक

कच्चे आम या अन्य कच्चे फलों को पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड, एसिटलीन गैस, कार्बन मोनो ऑक्साइड जैसे कैमिकल का उपयोग किया जाता है। जिसकी वजह से व्यक्ति को स्किन कैंसर, कोलन कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, ब्रेन डैमेज जैसे घातक रोग हो जाने का खतरा रहता है।

कैसे करें केमिकल से पके आम की पहचान

कैसे करें केमिकल से पके आम की पहचान

केमिकल से पके फलों को पहचानना है बहुत ज्यादा मुश्किल नहीं हैं। जिन फलों के ऊपर हरे रंग के धब्बे दिखते हैं। क्योंकि केमिकल से पके आम कहीं पर पीले और कहीं हरे दिखाई देते हैं। जबकि प्राकृतिक रूप से पके हुए आम में हरे धब्बे नहीं दिखते हैं।

वहीं केमिकल से पकाए आम काटने पर अंदर से कहीं पीले तो कहीं सफेद दिखते हैं। क्योंकि पेड़ पर पकने वाले फल अंदर से पूरी तरह से पीले दिखते हैं। वहीं केमिकलयुक्त फल खाने से मुंह में कसैला सा स्वाद आने लगता है और मुंह में हल्की सी जलन होने लगती है।

English summary

Health Hazards of Consuming Artificially Ripened Mango Fruits

We all love mangoes, but indulging in the wrong kind just isn't enjoyable or healthy.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more