जॉनसन और जॉनसन बेबी पाउडर पर 417 मिलियन डॉलर का मुआवजा

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

कैलिफ़ोर्निया की एक महिला को अमेरिका के लॉस एंजलेस की एक ज्यूरी ने 417 मिलियन डॉलर का मुआवजा दिलवाया क्यूंकि उसने जॉनसन एंड जॉनसन के खिलाफ मुकदमा दायर किया था जिसमें उसने यह बताया था कि नारी सुलभ स्वच्छता के लिए उसने जॉनसन एंड जॉनसन के बेबी प्रोडक्ट का इस्तमाल किया जिससे उसे गर्भाशय का कैंसर हो गया।

 Johnson & Johnson Baby Powder

ईवा एचेव्वेरिया इस मशहूर प्रोडक्ट के बेबी पाउडर का इस्तमाल अपने व्यक्तिगत अंगों पर 1950 से ही करती आ रही थीं। यह उनके लिए एक रूटीन की तरह था जब 2007 में उन्हें उनके कैंसर के बारे में पता चला।

अर्जीदार के वकील मिस्टर मार्क रोबिनसन ने यह केस यह साबित कर जीत लिया कि जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के उत्पाद गर्भाशय का कैंसर उत्पन्न कर सकते हैं। यह कंपनी को पता है फिर भी वह अपने उत्पादों के लेबल पर इस बात का जिक्र नहीं करती ताकि ग्राहक सचेत हो जाएँ।

बेबी प्रोडक्ट ब्रांड पर करीबन 1200 मुक़दमे

कुछ महीने पहले कुछ ऐसे ही मुक़दमे में, सेंट लुइस की एक ज्यूरी ने जॉनसन एंड जॉनसन पर 114 मिलियन डॉलर का फाइन लगाया जब वर्जिनिया की एक महिला ने यह शिकायत की कि उनके बेबी पाउडर के इस्तमाल से ही उसे गर्भाशय का कैंसर हो गया।

यह उस समय का कंपनी पर सबसे बड़ा जुर्माना था, यह एक ही ऐसा मुआवजा नहीं था जिसने कंपनी को परेशानी में डाला। उन्हें सेंट लुइस के तीन केस में ही मुआवजे के तौर पर करीबन 300 मिलियन से ज्यादा देने पड़े। हालांकि, इन सबसे महिलाओं में गर्भाशय के कैंसर को लेकर जागरूकता बढ़ी है जो व्यक्तिगत अंगों की स्वच्छता के लिए अभी भी बेबी पाउडर का इस्तमाल करती हैं, पर दुःख की बात यह है कि कंपनी पर दायर 1200 मुकदमों में से, कुछ ही कोर्ट ट्रायल को पास कर पाए हैं।



गर्भाशय का कैंसर और जानकारी नहीं देने का खतरनाक खेल

गर्भाशय के कैंसर को स्तन कैंसर की तरह ज़्यादा लोग नहीं जानते हैं, पर इसके पीछे एक कारण है कि इस कैंसर को "साइलेंट किलर" कहते हैं।

इसलिए कई लोग ऐसा मानते हैं कि जॉनसन एंड जॉनसन ने लोगों के साथ धोखा किया है जब कंपनी अपने उत्पाद पर ऐसा कुछ भी व्यक्त नहीं करती, जबकि उन्हें पता है कि महिलाएं बेबी पाउडर को बच्चों से ज़्यादा अपने व्यक्तिगत अंगों की डस्टिंग के लिए इस्तमाल करती हैं। पर क्या यह पाउडर सच में कैंसर पैदा कर सकते हैं?

टैल्क, नो टैल्क और विवाद

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी को एस्बेस्टस वाले टैल्क के इस्तमाल का ख़तरा पता है क्यूंकि इससे लंग कैंसर हो सकता है। इसलिए उन्होंने दस साल पहले से ही एफडीए को यह निर्देश दिया कि वह एस्बेस्टस वाले सारे पाउडर को बैन करे। हालांकि, सच्चाई यह है कि कई कंपनियां अभी भी उस स्टैण्डर्ड तक नहीं पहुँच पा रहीं जिससे लोगों के स्वास्थ्य पर असर ना पड़े। पर क्या जॉनसन एंड

जॉनसन उन कंपनियों में से एक है?

हम इस सवाल का जवाब नहीं जानते, पर हम इतना ज़रूर जानते हैं कि जॉनसन एंड जॉनसन ने अपने बेबी पाउडर से तालक का इस्तमाल कम कर दिया है और कुछ समय से उन्होंने कॉर्न स्टार्च का इस्तमाल शुरू कर दिया है। बेबी पाउडर द्वारा कैंसर उत्पन्न होता है या नहीं, इसके पशुओं पर किये गए शोध ने कभी ट्यूमर को जन्म दिया और कभी नहीं। हालांकि, यह तय है कि जिस बेबी पाउडर से गर्भाशय का कैंसर हुआ उसमें टैल्क भी मौजूद था, जॉनसन एंड जॉनसन उच्च न्यायालय में अर्जी देने के लिए तैयार है। जब तक हमें और जानकारी नहीं मिल जाती, हम आपको यह सलाह दे सकते हैं कि अपनी व्यक्तिगत अंगों की स्वच्छता के लिए बेबी पाउडर या दूसरे टैल्कम पाउडर का इस्तमाल बिल्कुल नहीं करें। आप वजाइनल डाउच का इस्तमाल कर सकती हैं जिससे आपके गर्भाशय पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    जॉनसन और जॉनसन बेबी पाउडर पर 417 मिलियन डॉलर का मुआवजा | $417 Million Lawsuit Against Johnson & Johnson Baby Powder for Causing Ovarian Cancer!

    Woman suffering from ovarian cancer alleges baby powder use caused cancer. The lady, Eva Echeverria, has been using the brand's famous baby powder for dusting her intimates since 1950s. A routine that later led to her cancer diagnosis in 2007.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more