देर से सो कर उठने वाले लोंगो को होती हैं ये 10 बीमारियां

Subscribe to Boldsky

सोना भला किसे नहीं अच्‍छा लगता है। सोने से दिमाग ताजा रहता है और शरीर में दिन-भर काम करने क लिये एनर्जी भरती है।

यही नहीं नींद पूरी करने से मोटापा, मधुमेह, हृदय रोग और समय से पहले मौत को भी टाला जा सकता है। हम सभी जानते हैं कि कम सोने से शरीर और दिमाग पर बुरा असर पड़ता है, पर क्‍या आप जानते हैं कि वहीं ज्‍यादा देर तक सोने से भी शरीर पर नकारात्‍मक प्रभाव पडता है।

जी हां, अगर आप रात में सोने के बाद सुबह बहुत लेट उठते हैं तो आप अपने व्‍यवहार में कई सारे बदलाव देख सकते हैं। इसका सीधा असर हमारे दिमाग और हार्मोन्स पर पड़ता है।

नाईट शिफ्ट में काम करने से आपको हो सकते हैं ये गंभीर रोग

क्‍योकि ऐसे लोंगो के दिमाग में व्हाइट मैटर सबसे खराब स्थिति में होता है। तो अगर आप कल को तनाव और डिप्रेशन में रहते हैं तो इसका मेन कारण देर से सो कर उठना ही है।

 Sleep too Much

आपको सुबह जल्‍दी सो कर उठने की आदत डालती चाहिये क्‍योंकि इससे हमें स्‍वस्‍थ वातावरण मिलता है। सुबह ना तो वातावरण में प्रदूषण होता है और ना ही शोर शराबा। सुबह जल्दी उठने से हमें बल ओर बुद्दि मिलती है।

बाएं ओर करवट ले कर सोने के बेहतरीन फायदे

हर इंसान के लिए केवल 8 घंटो तक सोना ही उचित रहता है। कोशिश करें की हमेशा अलार्म लगा कर ही सोएं और उससे ज्‍यादा सोने की कोशिष न करें वरना दर्द शुरू हो सकता है।

जरुरतभर की नींद काफी है लेकिन अगर आप उससे ज्‍यादा सोते हैं तो, नीचे की स्‍लाइड्स जरुर पढ़ ले क्‍योकि इसमें हमने ज्‍यादा देर तक सोने के साइड इफेक्‍ट बताए हैं।

1. मोटापा बढ़ेगा

मोटोपे और देर तक सोने के बीच में कनेक्‍शन है। अगर आप लंबे समय तक सोते हैं तो आपका शरीर रेस्‍ट मोड में होता है। कम शारीरिक गतिविधि का मतलब है कि आपका शरीर है कम कैलोरी बर्न करेगा, जो बदले में वजन बढ़ाएगा। PLOS ONE में प्रकाशित एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि बहुत अधिक सोने पर इंसान मनोवैज्ञानिक बीमारियों और उच्च बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) से ग्रस्‍थ हो जाता है।

2. डिप्रेशन होना

ज्‍यादा देर तक सोने से दिमाग में dopamine and serotonin का लेवल कम हो जाता है। इससे आपका मूड बदलता रहता है और दिन प्रतिदिन चिड़चिडे होते चले जाते हैं।

3. दिल की बीमारी का खतरा

जब भी हम देर तक सोते हैं, तो उसका सीधा खतरा हमारे दिल को होता है। इससे हमें हार्ट डिजीज होने का खतरा सामान्य के मुकाबले ज्यादा हो सकता है।

4. पीठ में दर्द

जब हम देर तक सोते हैं, तो हमें अक्सर पीठ में दर्द होने लगता है क्योंकि देर तक सोने से हमारी पीठ अक्कड़ जाती है, जिससे हमें दर्द का सामना करना पड़ता है और हमारे शरीर में ब्लड फ्लो सही ठंग से नहीं होता। इसलिए हमें जल्दी बिस्तर छोड़ देना चाहिए।

5. याददाश्त कमजोर होना

जब भी हम अधिक देर तक सोते हैं तो इसका असर हमारे दिमाग पर बहुत गहरा पड़ता है। इससे हमारी याददाश्त कमजोर होने लगती है।

6. मधुमेह हो सकता है

बहुत अधिक नींद शरीर में शुगर को संसाधित करने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है और ग्लूकोज सहिष्णुता को बिगाड़ सकता है। इस कारण आपको टाइप 2 मधुमेह का खतरा ज्‍यादा बढ सकता है।

7. कब्‍ज की समस्‍या

जो लोग ज्‍यादा देर तक सोते हैं उनको हमेशा कब्‍ज रहता है। पेट ठीक रखने के लिये अपनी बॉडी को मूव कराना काफी जरुरी है।

8. समय से पहले मौत

ज्‍यादा देर सोने से आपकी मौत जल्‍दी को सकती है। यह बात रिसर्च में प्रूफ की गई है। वे लोग जो नींद कम लेते हैं और वे लोग जो ज्‍यादाा सोते हैं, उन्‍हें मौत का खतरा जल्‍दी होता है। 8 घंटे की नींद हर मनुष्‍य के लिये काफी है।

9. सिरदर्द

बहुत ज्यादा देर तक सोने से आपको सिर दर्द भी मिल सकता है। यह मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर में उतार-चढ़ाव के कारण हो सकता है, जिसमें नींद के दौरान सेरोटोनिन बढ़ सकता है, जिससे सिरदर्द हो सकता है।

10. मस्तिष्क को बू़ढ़ा बनाए

बहुत अधिक सोने से आपके मस्तिष्क की शक्ति प्रभावित हो सकती है। क्योंकि यह मस्तिष्क को उम्र के हिसाब से तेज़ी से बूढ़ा बना देता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Bad Things That Happen to Your Health When You Sleep too Much

    Quality sleep is crucial for your health, but even sleep in excess can be bad for you.The National Sleep Foundation provides the following guidelines on how much sleep a person really needs on a daily basis at various ages.
    Story first published: Friday, October 13, 2017, 13:30 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more