जानें दिन में कितनी बार करना चाहिए योग

By Deeksha Mishra
Subscribe to Boldsky

योगा, जैसा कि शब्द कहता है, सिर्फ किसी विशेष कारण के लिए व्यायाम करने का एक रूप नहीं है, लेकिन इसका अर्थ है योग। इसका मतलब है कि दिमाग और शरीर ही नहीं बल्कि आपकी इंद्रियों के बीच एक सहसंबंध। जब मन (सोच) और कार्य (क्रिया) एक-दूसरे के साथ समन्वयित होते हैं, तो आप कह सकते हैं कि योग का अभ्यास किया गया है। क्या दिमाग और शरीर का नियंत्रण एक दिन में होता है? या इसमें महीनों या साल लगते हैं?

इस सवाल का जवाब हम व्यक्तिगत रूप से दे सकते हैं। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि हम कितने मज़बूत हैं और अवचेतन रूप से और किस स्तर का योग हम देख रहे हैं। एक आदमी के लिए, योग स्वंय को फिट रखने का एक तरीका है। लोग कई कारणों से योग करते हैं, मुख्य रूप से वज़न घटाने या पीठ दर्द या कमज़ोर मांसपेशियों, सिरदर्द आदि। लेकिन इन समस्याओं का मूल कारण चिंता और तनाव होता है, जो हमारे सामने आने वाले सभी मुद्दों का मुख्य कारण है। इसलिए तनाव से राहत पाने के लिए योग का अभ्यास किया जाना चाहिए।

do-you-know-how-many-times-you-should-perform-yoga

यहां सवाल यह है कि क्या हमें योग या ध्यान का अभ्यास करना चाहिए?

कृपया ध्यान दें, योग और ध्यान आपके हाथ में ही है। जब हम योग का अभ्यास करते हैं, तो हम हार्टबीट्स पर ध्यान केंद्रित करते हैं और इसलिए हमें शारीरिक गतिविधियों और सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है, अन्यथा यह उन समस्याओं को जन्म दे सकता है जिन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता है।

लेकिन योगा कितनी बार करना चाहिए?

सबसे पहले, योग औषधीय नुस्खे की तरह नहीं है जिसे एक डॉक्टर निर्धारित करता है। उदाहरण के लिए, आपको पीठ दर्द होता है। एक योगी योग को कब तक करना है ये बताने में सक्षम नहीं हो सकता है, इसके लिए दर्द को गायब करने के लिए आप 2 सप्ताह के लिए योगाभ्यास करें। यहां ध्यान दिया जाने वाला बिंदु यह है कि योग एक आजीवन नुस्खा है। अभ्यास करने के बाद आप और केवल आप ही तय कर सकते हैं कि आप कब तक इसे जारी रख सकेंगे। यदि आप शुरूआती चरण में हैं तो तनाव सहन करने के लिये आपको बहुत अधिक अभ्यास करना होगा। तनाव दूर करने के लिए आपको सप्ताह में दो या तीन बार अथवा एक या दो बार अभ्यास एकाग्रता के साथ करना चाहिए। इसके बाद, एक कारण होना चाहिए कि आप योग का अभ्यास क्यों करना चाहते हैं। किसी के लिए, यह फिटनेस का एक रूप हो सकता है, जबकि किसी और के लिए यह बीमारी के लिए उपचार हो सकता है। तो आप इसका लगातार अभ्यास करते रहें। शुरूआत में इसका असर कम दिखेगा, लेकिन लंबे समय तक चलने वाले प्रभाव दिखाई देंगे।

अंत में, योग को रोज़मर्रा की ज़रूरत बनाएं। जिस तरह से हम खाते हैं और सोते हैं, हमें भी योग का अभ्यास करना चाहिए। इसका दीर्घकालिक प्रभाव है। आप तनाव को खत्म कर सकते हैं, जो की एक प्रमुख बीमारी है। जब हम कहते हैं कि यह एक नियमित अभ्यास करता है, इसका मतलब यह नहीं है कि चटाई रखें, और व्यायाम शुरू करें। यदि आप कुछ घंटों के लिए दैनिक योग का अभ्यास कर सकते हैं, तो इससे लाभ आपको होगा। लेकिन यहां हमारा मतलब है कि जागरुक रहें। आप रोज़मर्रा में जो भी गतिविधियां करते हैं, जैसे खाना खाने से लेकर बातें करना, बातें करने से लेकर चलना-फिरना, चलना-फिरना से लेकर काम करना और काम करने से लेकर अध्ययन करने के बारे में जागरूक रहते हैं।

आप जागरूक होकर काम करें और अपने कार्यों से अवगत रहें। इससे धीरे-धीरे और असरदार तरीके से आपको अपने सभी मुद्दों और शिकायतों से राहत मिलने लगेगी।

जैसा कि पहले कहा गया था, योग जीवन का साधन है, इससे मन और शरीर एक-दूसरे के साथ समन्वयित रहता है। तो इससे पहले कि आप कोई कार्रवाई करें, आप जान लें कि आपके हाथ में जादू की छड़ी है।

और अंत में हम यह कहना चाहेंगे कि व्यायाम के अन्य रूपों जैसे एरोबिक्स या जिमनास्टिक, योग व्यायाम का एक अलग रूप है, जो दिमाग और शरीर के समन्वय पर केंद्रित है। यह धीरे-धीरे परिणाम देता है और इसलिए बेहतर और दीर्घकालिक परिणाम के लिए दीर्घकालिक अभ्यास की भी आवश्यकता होती है।

शुरुआत में, आप एक ट्रेनर के साथ ट्रेनिंग शुरू करें और धीरे-धीरे खुद से अभ्यास शुरू करें। कम अभ्यास करें लेकिन रोज़ाना अभ्यास करें और इसे जीवन का हिस्सा बना लें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    जानें दिन में कितनी बार करना चाहिए योग | Do You Know How Many Times You Should Perform Yoga?

    We perform yoga for many reasons mainly health related like weight loss or a back pain or weak muscles, headaches etc, but do you know how many times you can do yoga. Read this article.
    Story first published: Thursday, June 28, 2018, 10:45 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more