भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव को दूर करने में मदद करती है सुदर्शन क्रिया

Subscribe to Boldsky
Yoga: How to do Sudarshan Kriya | ऐसे करें सुदर्शन क्रिया, जानें अद्भुत फायदे । Boldsky

सुदर्शन क्रिया एक शक्तिशाली लयबद्ध श्वास तकनीक है। यह एक सहज क्रिया है, जो ध्यान की गहरी अवस्था में आपको आकर्षित करके नकारात्मकता को दूर करने और हटाने में मदद करती है। 'सु' का अर्थ उचित है, और 'दर्शन' का मतलब दृष्टि है।

योग विज्ञान में क्रिया का मतलब शरीर को शुद्ध करना है। तीन संयुक्त सुदर्शन क्रिया का अर्थ है 'शुद्ध क्रिया करके उचित दृष्टिकोण बनाना'। यह एक अद्वितीय श्वास अभ्यास है जिसमें चक्रीय श्वास पैटर्न शामिल है। श्वास को धीमा और शांत करने से लेकर तेज और उत्तेजक करने तक। आप इस क्रिया में अपनी श्वास को नियंत्रित कर सकते हैं।

Benefits of sudarshan kriya on skin

यह मस्तिष्क, हार्मोन, प्रतिरक्षा और कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम कामकाज को बढ़ाता है। न केवल यह क्रिया तनाव, अवसाद और चिंता को कम करती है बल्कि शारीरिक और मानसिक दोनों की तंदुरुस्ती पर ध्यान केंद्रति करती है। इस तकनीक का आपके दिमाग और शरीर दोनों पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है।

त्वचा पर सुदर्शन क्रिया के लाभ

जब प्रदूषण, बुरी खाने की आदतों और सुस्त जीवनशैली जैसे कारक हमें परेशान कर देते हैं, तो सुदर्शन क्रिया उन लोगो के लिये बेहतर जीवन जीने का एक तरीका है।

तकनीक

सुदर्शन क्रिया का दिन के किसी भी समय अभ्यास किया जा सकता है। भोजन करने के तुरंत बाद इसे करने से बचना चाहिए। पूरी प्रक्रिया में लगभग 45 मिनट लगते हैं। उज्जयी, भस्त्रिका, ओम का उच्चारण और क्रिया जैसी चार तकनीकें हैं।

1.उज्जयी, दूसरे शब्दों में, विजयी सांस है। यह एक धीमी श्वास प्रक्रिया है। यहां आपको आराम से श्वास लेना और निकालना है। श्वास लेना और निकास की अवधि बराबर रखनी चाहिए। उज्जयी में जागृत होकर सांस लेने की जरूरत है। यदि आप अपनी सांस को महसूस करना चाहते हैं तो आप अपने गले को छू सकते हैं।

इस तकनीक में, प्रति मिनट लगभग 2-4 बार सांस लेनी चाहिए। उज्जयी आपको शांत करने में मदद करता है और आपको सतर्क रखता है। धीरे-धीरे श्वास लेना आपको सिखाता है कि अपनी सांस पर नियंत्रण कैसे प्राप्त करें। यह आपको सटीक गिनती तक करने की अनुमति देता है।

2.भस्त्रिका, दूसरे शब्दों में, धौंकनी सांस लेना। भस्त्रिका में शरीर को शांत करने के बाद उत्तेजित करने का एक अनूठा प्रभाव पड़ता है। मुख्य रूप से श्वास की शैली छोटी और त्वरित होती है। भस्त्रिका में सांस को तेजी से व बलपूर्वक अंदर खींचना और निकालना है। कम से कम 30 बार प्रति मिनट इस तकनीक को करना है। निकास अवधि सांस लेने की अवधि से दोगुनी होनी चाहिए।

3. ओम उच्चारण में, ओम की शुद्ध आवाज, जो कि जीवन का आधार है। ओम' शब्द को तीन हिस्सों में विभाजित किया जाता है - ए-यू-एम जब इसे जोर से सुनाया जाता है। ओम का जप आपको ब्रह्मांड की उत्पत्ति से जोड़ने में मदद करता है। यह आपको जीवन के उद्देश्य को प्राप्त करने में भी मदद करता है। ओम आपकी सांस में डूब जाता है और जीवन को बनाए रखता है। दो बार ओम का जाप करने के बाद कुछ देर के लिये चुप्पी बनाए रखनी चाहिए। यह प्रक्रिया आपको आनंद की स्थिति में आने में मदद करती है। जिसका आप अनुभव कर सकते हैं।

4.क्रिया को श्वास शुद्ध करने के रूप में भी जाना जाता है। क्रिया सांस लेने का एक उन्नत रूप है। इसमें धीमी, मध्यम और तेज चक्रों में सांस लेनी पड़ती है। इस तकनीक में सांस चक्रीय और लयबद्ध होनी चाहिए। इस प्रक्रिया में, सुनिश्चित करना होगा कि श्वास लेने की अवधि सांस के निकास की तुलना में दोगुनी होनी चाहिए। यह कदम आपकी दृष्टिकोण को साफ़ करने और आत्म-शुद्धिकरण करने में मदद करता है।

सुदर्शन क्रिया के लाभ

शारीरिक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक कल्याण जैसे विभिन्न लाभ सुदर्शन क्रिया से प्राप्त किए जा सकते हैं। कोई भी अपने पारस्परिक संबंधों को सुधार सकता है और सुदर्शन क्रिया के माध्यम से खुशी, सद्भाव और प्यार का बंधन बना सकता है।

यह क्रिया समस्त स्वास्थ्य और कल्याण में सुधार करने में मदद करती है। यह ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करती है। कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करने में सहायता करती है। एक चुनौतीपूर्ण स्थितियों से बेहतर ढंग से निपटने के लिए सीख देती है। यह नींद की गुणवत्ता में सुधार करती है। इस क्रिया के साथ मस्तिष्क कार्य को बढ़ावा मिलता है, जिससे आपकी रचनात्मकता बढ़ जाती है। यह क्रिया चिंता और तनाव को कम करती है।

सुदर्शन क्रिया हृदय गति से संबंधित समस्या जैसे- तनाव, विकार और अवसाद के लिये आश्चर्यजनक काम करती है। इससे कोई भी आंतरिक शांति प्राप्त कर सकता है और इस क्रिया के माध्यम से पूरी तरह आराम मिल सकता है। यह आपको अपने और अपने आस-पास के बारे में अवगत कराएगा। आखिरी में, यह आपको अपने आत्मविश्वास के निर्माण में मदद करता है जिससे आप जीवन में अधिक धीरज रख सकते हैं।

सुदर्शन क्रिया के साइड इफेक्ट्स को समझने के लिए अतीत में कई अध्ययन और शोध किए गए हैं। अंतरराष्ट्रीय शैक्षिक संगठनों के अध्ययन से साबित हुआ है कि सुदर्शन क्रिया का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। वास्तव में, उन्होंने विभिन्न प्रारूपों में सीखाने की शैली और इसकी प्रभावशीलता को दस्तावेज किया है।

शुरु करने से पहले सुझाव

सुदर्शन क्रिया केवल प्रमाणित योग शिक्षक या गुरु से सीखी जानी चाहिए। एक्सपर्ट्स योग शिक्षक हैं जो आपका अच्छी तरह से मार्गदर्शन कर सकते हैं। एक पेशेवर से सीखने पर यह आपके लिए चमत्कार कर सकता है। यदि आप स्वयं से सीखने की कोशिश करते हैं तो यह अप्रभावी और शायद हानिकारक भी हो सकता है।

सुदर्शन क्रिया करने से पहले शारीरिक और मानसिक रूप से आप स्वस्थ्य हैं यह सुनिश्चित करने के लिए अपने डॉक्टर या योग प्रशिक्षक से परामर्श लेना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को इसे अपनी दैनिक गतिविधि का हिस्सा बनाना चाहिए। अल्कोहल और नशीली दवाओं का सेवन करने वाले लोगों को योग के इस रूप का अभ्यास करके अच्छे नतीजे भी मिलते हैं। इसलिए यदि आप तनाव से निपटने के लिए एक समाधान की तलाश में हैं और बेहतर महसूस करना चाहते हैं, तो भारत के प्राचीन योग विज्ञान से एक विधि सुदर्शन क्रिया को आप अपना सकते हैं। और बेहतर दिख सकते है, बेहतर रह सकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Sudarshan Kriya: A Yoga Technique For Your Overall Well-being

    sudarshan Kriya is a powerful rhythmic breathing technique. It enhances brain, hormone, immunity and cardiovascular system function. Read on to know how to do and benefits.
    Story first published: Wednesday, August 22, 2018, 9:00 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more