For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

स्‍मोकिंग की लत छुड़ाने में प्रभावी है ई-सिगरेट, सर्वे में आया सामने

|

इंग्‍लैंड में हुई एक स्‍टडी में सामने आया है कि धूम्रपान की लत को छोड़ने के ल‍िए ई-सिगरेट दूसरे उपायों की तुलना में लोगों की पहली पसंद बन रहा है। रिसर्च में सामने आया है कि 95 प्रतिशत लोग ई-सिगरेट के जरिए अपने स्‍मोकिंग हैबिट पर न‍ियंत्रण किया है। सिगरेट छुड़ाने के कई सामान्‍य तरीके जैसे कि निकोटीन रिप्‍लेसमेंट थेरेपी पैचेज़ और च्‍युंइगम में सबसे ज्‍यादा ई-सिगरेट असरकारी है।

इसके अलावा इस रिसर्च में इन पहलूओं पर ध्‍यान दिया है कि स्‍मोकिंग छोड़ने की पीछे मुख्‍य कारक क्‍या थे, जिनमें उम्र, सामाजिक स्‍तर, सिगरेट की लत, पहले कितनी बार सिगरेट छोड़ने की कोशिश कब की गई है और स्‍मोकिंग छोड़ने का प्रयास कब तक किया गया या स्‍मोकिंग कब छोड़ दी जैसे विषयों को भी इस रिसर्च में शामिल किया गया।

PEOPLE USING E-CIGARETTES TO QUIT SMOKING: STUDY

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के आंकड़ों की मानें तो वैश्विक स्‍तर पर प्रति वर्ष 7 मिलियन लोग धूम्रपान और अन्‍य तंबाकू वाले पदार्थों के सेवन के कारण मर जाते हैं। इनमें से 1.1 मिलियन लोग तो सिर्फ सिगरेट पीने की वजह से मुत्‍यु का ग्रास बन जाते हैं। इसके अलावा लगभग 80 फीसदी स्‍मोकिंग करने वाले लोग गरीब या मध्‍यम आय वाले देशों से हैं।

रिसर्च में ये तथ्‍य भी सामने आया कि ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं होता लेकिन निकोटीन लिक्‍विड जरूर होता है। इस लिक्‍विड को सांस द्वारा अंदर लिया जाता है। तंबाकू बनाने वाली कई बड़ी कंपनियां ई-सिगरेट बेचती हैं।

इस अध्ययन में इंग्लैंड के लगभग 19,000 लोगों को शामिल किया गया था, जिन्होंने 2006 से 2018 तक 12-वर्ष की अवधि से पहले 12 महीनों में धूम्रपान छोड़ने की कोशिश की थी। जिन लोगों ने सफल तरीके से ध्रूमपान को हमेशा के ल‍िए अलव‍िदा कह दिया है, उन्‍हें मिसाल के तौर पर लोगों के सामने पेश किया गया। 95 फीसदी लोगों में 82 फीसदी से ज्‍यादा स्‍मोकर्स को ई-सिगरेट की मदद से स्‍मोकिंग छोड़ने में मदद मिली।

PEOPLE USING E-CIGARETTES TO QUIT SMOKING: STUDY

रिसर्च में शामिल यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की एक प्रोफेसर सारा जैक्सन ने कहा, "अध्ययन में ऐसे सबूत मिले हैं जो ये साबित करते हैं कि ई-सिगरेट के इस्तेमाल से धूम्रपान छोड़ने में मदद करती है"।

कई विशेषज्ञों के अनुसार ई-सिगरेट या 'वेपिंग' स्‍मोकर्स के लिए तम्बाकू छोड़ने का एक प्रभावी तरीका माना जाता है, लेकिन कुछ वैज्ञानिक इस पर संदेह करते हैं। उन्हें डर है कि ई-सिगरेट से धू्म्रपान छोड़ना आसान है, ये जानकर युवा भी इसके आदी बन सकते हैं। विशेषज्ञों ने रिसर्च में नतीजों में पाया कि ई-सिगरेट धूम्रपान छोड़ने में उतनी ही मदद करती है जितनी कि इसकी लत छुड़ाने वाली दवाएं।

English summary

PEOPLE USING E-CIGARETTES TO QUIT SMOKING: STUDY

People using e-cigarettes to quit smoking are about 95% more likely to report success than those trying to quit without help from any stop-smoking aids, according to the results of a large study in England.
Story first published: Monday, May 27, 2019, 13:20 [IST]
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more