For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

डिजिटल डिटॉक्स क्या है और आज के टाइम में इसकी जरूरत क्यों पड़ रही है?

|

एक टाइम था जब आपके पास ना मोबाइल फोन थे ना ही लैपलॉप, इससे हटकर आप कई तरह के प्रोडक्टिव काम करते थे। अपने दोस्तों, फैमिली के साथ मिल बैठकर बातें करते थे। लेकिन आज के वक्त में ऐसा काफी कम हो गया है। अगर लोग सामने भी बैठे होते हैं तो हाथ में मोबाइल फोन या फिर लैपटॉप पर बैठ कर कोई ना कोई काम कर रहे होते हैं। फैमिली गैदरिंग में भी देखा जाता है कि लोग बातें कम मोबाइल पर ज्यादा होते हैं। ये एक तरह से लोगों के बीच डिस्टेंस पैदा तो कर ही रहा है, साथ ही कई तरह की मेंटल और फिजिकल प्रॉब्लम्स भी बढ़ा रहे हैं। ऐसे में खुद को डिजिटल डिटॉक्स करना खास कर आज के भागदौड़ वाली लाइफ स्टाइल में जरूरी हो गया है।

क्या है डिजिटल डिटॉक्स

क्या है डिजिटल डिटॉक्स

डिजिटल डिटॉक्स का मतलब है कि जब कोई व्यक्ति स्मार्टफोन, टीवी, कंप्यूटर, टैबलेट और सोशल मीडिया साइटों जैसे टेक्निकल डिवाइसो का यूज करने से परहेज करता है। डिजिटल डिवाइस से "डिटॉक्सिंग" को अक्सर बिना डिस्ट्रेक्ट हुए रियल लाइफ के सोशल रिलेशन पर ध्यान केंद्रित करने के तरीके के रूप में देखा जाता है। डिजिटल डिवाइसों को छोड़कर, कम से कम अस्थायी रूप से, लोग उस तनाव को दूर कर सकते हैं जो निरंतर कनेक्टिविटी से पैदा होता है।

इससे पहले कि आप यह तय करें कि क्या ये आपके लिए सही है, डिजिटल डिटॉक्स करने के कुछ लाभों और तरीकों पर विचार करें।

डिजिटल डिटॉक्स के कारण

डिजिटल डिटॉक्स के कारण

कई लोगों के लिए, डिजिटल दुनिया से जुड़ा होना और उसमें डूब जाना डेली रूटीन की जिंदगी का एक हिस्सा है। नीलसन कंपनी के शोध के अनुसार, औसत अमेरिकी वयस्क हर दिन लगभग 11 घंटे मीडिया को सुनने, देखने, पढ़ने या बातचीत करने में बिताते हैं।

ऐसे कई रीजन हैं जिनकी वजह से आप थोड़े वक्त के लिए अपना मोबाइल फ़ोन और अन्य डिवाइस बंद करना चाहेंगे। आपको इस थोड़े समय के लिए अपने डिवाइसों से दूर होकर खुद के लिए समय का आनंद लेना चाहिए। कई मामलों मे आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आपके डिवाइस का यूज काफी ज्यादा हो गया है और आपकी लाइफ में बहुत अधिक तनाव पैदा होता जा रहा है।

कुछ स्थितियों में, आपको ऐसा भी लग सकता है कि आप अपने डिवाइसों के आदी हो गए हैं। कई विशेषज्ञों का मानना है कि टेक्नोलॉजी और डिवाइस का अत्यधिक उपयोग एक बहुत ही वास्तविक व्यवहारिक लत का प्रतिनिधित्व करता है जो फिजिकल, साइकोलॉजिकल, और सोशल समस्याओं को जन्म दे सकता है।

वे संकेत जो आपको डिजिटल डिटॉक्स को लेकर हो सकते हैं-

वे संकेत जो आपको डिजिटल डिटॉक्स को लेकर हो सकते हैं-

अगर आपको अपना फोन नहीं मिल रहा है तो आप तनाव में आ जाते हैं।

आप हर कुछ मिनट में अपना फोन चेक करने के लिए मजबूर महसूस करते हैं

सोशल मीडिया पर समय बिताने के बाद आप उदास, चिंतित या क्रोधित महसूस करते हैं

आप अपने सोशल पोस्ट पर लाइक, कमेंट या रीशेयर काउंट के साथ बिजी हैं

आपको डर लगता है कि आप मोबाइल चेक नहीं करेंगे तो कुछ छूट जाएगा।

आप अक्सर खुद को देर तक जागते हुए या अपने फोन पर खेलने के लिए जल्दी उठते हैं

आपको अपना फ़ोन देखे बिना किसी एक चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है

डिजिटल डिटॉक्स कैसे करें

डिजिटल डिटॉक्स कैसे करें

डिजिटल डिटॉक्स में किसी भी और सभी डिजिटल डिवाइसों और सोशल मीडिया कनेक्शनों से संयम होकर शामिल हो। ये महत्वपूर्ण है कि आपके डिवाइस का यूज आपके खुद के जीवन के लिए काम करे।

प्रक्रिया अक्सर बाउन्ड्रीज को निर्धारित करने और ये देखने के बारे में अधिक होती है कि आप अपने डिवाइसो का यूज इस तरह से कर रहे हैं जो आपके इमोशनल और फिजिकल हेल्थ को नुकसान पहुंचाने के बजाय लाभ पहुंचाता है।

English summary

What is digital detox and why is it needed in today's time?

It is also seen in family gatherings that people talk less and are more on mobile. In a way, it is not only creating distance between people but also increasing many types of mental and physical problems. In such a situation, it has become necessary to do a digital detox, especially in today's run-of-the-mill lifestyle.
Story first published: Wednesday, December 7, 2022, 18:15 [IST]
Desktop Bottom Promotion