महिला कंडोम का यूज़ करने जा रही हैं तो ज़रा पढ़ें इसके फायदे और नुकसान के बारे में

Subscribe to Boldsky

यौन संबन्‍ध बनाते वक्‍त अक्‍सर पुरुष कंडोम का इस्‍तेमाल करते हैं। लेकिन आपको पता होना चाहिये कि बाजार में महिलाओं के लिये भी कंडोम उपलब्‍ध है, जिसे फीमेल कंडोम बोला जाता है। फीमेल कंडोम एक लुब्रिकेटेड पाउच होता है जिसे योनि के अंदर डाला जाता है ताकि आपकी सेक्स लाइफ, संबंध और स्वास्थ्य नियंत्रित रहे। ये महिलाओं में गर्भ निरोधक की तरह काम करता है और एसटीडी और अनचाहे गर्भ केखतरे से छुटकारा दिलाता है।

Pros and Cons of Female Condoms

फीमेल कंडोम को महिलाएं अंदर पहनती हैं। यह स्‍पर्म को योनि के अंदर आने से रोकता है जिससे गर्भधारण नहीं हो पाता। ये एक पतली और मुलायम से ढीली फिट होने वाले खोल की तरह होता है जिसके दोनोंऔर रिंग होती है और ये अलग-अलग साइज़ में भी आता है। इस डिवाइस का सही तरीके से कार्य करना इसके साइज़ पर निर्भर करता है। लेकिन जहां यह एक ओर आसानी से महिलाओं दृारा यूज़ किया जाता है

सिर्फ 30 सैकेंड में समझिए फीमेल कंडोम कैसे काम करता है?

वहीं, दूसरी ओर फीमेल कंडोम को कई महिलाएं ना पसंद भी करती हैं क्‍योंकि इससे उन्‍हें असुविधा महसूस होती है। इसलिये यह बहुत जरुरी है कि आप किसी के कहने मात्र से ही फीमेल कंडोम ना खरीद लें बल्‍किइसके बारे में पूरी जानकारी रखें और इसे सही ढंक से यूज करना जानें। अगर आपको ज्‍यादा प्रोटेक्‍शन की चिंता हो तो, contraception का अन्‍य माध्‍यम भी चुनें।

 1. पूरी प्रोटेक्‍शन देने में मददगार

1. पूरी प्रोटेक्‍शन देने में मददगार

सेक्‍स करते वक्‍त जब पुरुष और महिला के शरीर से तरल पदार्थ निकलता है, उससे यह प्रोटेक्‍शन देने का काम करती है। यह आपको sexually transmitted diseases से बचाती है जैसे, HIV.

2. प्रेगनेंसी से दिलाए राहत

2. प्रेगनेंसी से दिलाए राहत

अगर आप प्रेगनेंट नहीं होना चाहती हैं तो यह कंडोम एक अच्‍छा माध्‍यम हो सकता है क्‍योंकि यह आपको अनचाहा गर्भ ठहरने से रोकेगा। आप इसे रेगुलर यूज़ में ले सकती हैं।

3. आराम से सेक्‍स के दौरान ही यूज़ करें

3. आराम से सेक्‍स के दौरान ही यूज़ करें

फीमेल कंडोम को केवल सेक्‍स के दौरान ही यूज़ करना होता है। इसके लिये आपको पहले से तैयार होने की जरुरत नहीं होती। अगर आप अनप्‍लैंड सेक्‍स करने जा रहे हैं तो उसमें यह काम आ सकता है।

4. डॉक्‍टर के पर्चे की जरुरत नहीं है

4. डॉक्‍टर के पर्चे की जरुरत नहीं है

आप इसे अपने मन से खरीद कर प्रयोग कर सकती हैं। इसको पहनने से पहले आपको डॉक्‍टर के परामर्श की कोई आवश्‍यकता नहीं है। इसे यूज़ करना काफी आसान है अगर आप नहीं जानती की इसे कैसे यूज़ करें तो आज कल नेट के जरिये इसे इस्‍तेमाल करना सीख सकती हैं।

 5. बहुत ही ज्‍यादा असरदार होते हैं ये

5. बहुत ही ज्‍यादा असरदार होते हैं ये

साधारणत: फीमेल कंडोम 75-82% सुरक्षा प्रदान करते हैं और यदि हमेशा इसका सही उपयोग किया जाए तो फीमेल कंडोम 95% तक प्रभावी होते हैं।

6. यूज़ करने में आसान

6. यूज़ करने में आसान

ये कंडोम साइज में छोटे हैं, इन्‍हें इस्‍तेमाल करना आसान होता है और फिर बाद में डिस्‍पोज़ करने में भी परेशानी नहीं आती।

 7. सेक्‍स से कई घंटो पहले भी इसे डाल सकती हैं

7. सेक्‍स से कई घंटो पहले भी इसे डाल सकती हैं

कंडोम को सेक्स करने के आठ घंटे पहले योनि में डाला जा सकता है और हर बार सेक्स करने से पहले नया कंडोम डालना चाहिए।

8. इसे पीरियड्स या प्रेगनेंसी के समय में भी यूज़ कर सकती हैं

8. इसे पीरियड्स या प्रेगनेंसी के समय में भी यूज़ कर सकती हैं

फीमेल कंडोम को मासिक धर्म या गर्भावस्था के समय (या बच्चे के जन्म के बाद) भी उपयोग में लाया जा सकता है।

9. ऑइल बेस या वॉटर बेस लुब्रिकेंट्स के साथ इस्‍तेमाल कर सकती हैं

9. ऑइल बेस या वॉटर बेस लुब्रिकेंट्स के साथ इस्‍तेमाल कर सकती हैं

फीमेल कंडोम का उपयोग ऑइल बेस या वॉटर बेस लुब्रिकेंट्स दोनों के साथ किया जा सकता है।

 10. नुकसान

10. नुकसान

कुछ महिलाओं में फीमेल कंडोम के उपयोग के कारण योनि, वुल्वा, पेनिस या गुदा में जलन हो सकती है। इससे संभोग का आनंद भी कम हो सकता है या सेक्स करते समय कंडोम योनि में या गुदा में अंदर जा सकता है।

11. होता है थोड़ा ज्‍यादा खर्चीला

11. होता है थोड़ा ज्‍यादा खर्चीला

यह मेल कंडोम के मुकाबले थोड़ा ज्‍यादा महंगा आता है। (लगभग पांच गुना महंगा)

12. सेक्‍स के दौरान ये थोड़ा डिस्‍ट्रैक्‍टिंग होता है

12. सेक्‍स के दौरान ये थोड़ा डिस्‍ट्रैक्‍टिंग होता है

कई लोंगो का कहना है कि इसे लगाने के बाद सेक्‍स करते वक्‍त इसमें से क्रैक या पॉप जैसी आवाजें आती हैं, जिससे आप का पूरा ध्‍यान सेक्‍स से हट कर इसकी ओर चला जाता है जो कि काफी डिस्‍ट्रैक्‍टिंग होता है!

13. क्‍या करें जब:

13. क्‍या करें जब:

यदि सेक्स के दौरान कंडोम टूट/लीक/बाहर आ जाता है तो पांच दिनों तक इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्शन पिल्स लें। आपको यह सलाह भी दी जाती है कि आप यौन संबंधों से होने वाले संक्रमण की जांच भी करवा लें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Pros and Cons of Female Condoms

    Used correctly, a female condom is 95 percent effective. It is important to follow the instructions when using any type of condom. There are some Pros and Cons to using the device.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more