क्यों मनाई जाती है छोटी दिवाली, जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त

By: salman khan
Subscribe to Boldsky

दिवाली आ चुकी है और लोगों की तैयारियां भी पूरी हो चुकी है। अगर आप इस दिवाली में कुछ करने वाले हो तो अभी करें क्योंकि अब समय नहीं है। हमारे यहां दो दिवाली मनाई जाती है। एक छोटी और एक बड़ी और आज हम बात करें छोटी दिवाली के विषय में। इस पर्व को छोटी दिवाली के नाम से भी जाना जाता है।

वास्‍तु के हिसाब से दिवाली में लक्ष्‍मी की मूर्ति देना होता है अशुभ, भूलकर भी न दे दिवाली में ये 5 गिफ्ट

इस वर्ष दिवाली 19 अक्टूबर की है और 18 अक्टूबर 2017 को छोटी दिवाली यानि नरक चतुर्दशी है। इस दिन भी दिवाली की तरह पूजा-पाठ, दीप जलाएं जाते हैं। लेकिन दोनों दिन पूजा में ये अंतर होता है कि दिवाली पर भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

दीवाली में इन गलतियों को करने से बचें वरना हो सकता है कुछ अशुभ

लेकिन नरक चतुर्दशी के मौके पर मृत्यु के देवता यमराज की पूजा की जाती है। नरक चतुर्दशी को नरक चौद, रूप चौदस, रूप चतुर्दशी के नाम से भी जानते हैं। इस दिन का भी अपना अलग महतत्व है आइए जानते है कि आखिर किस तरह से मनानी है छोटी दिवाली आइए जानिए ताकि आपसे कोई गलती ना हो जाए......

chhoti diwali 2017 date

क्या आप जानते है क्या हैं नरक चतुर्दशी

हिंदू धर्म में कई त्योहार मनाएं जाते है जिनमें दिवाली इसलिए मुख्य है क्योंकि इसके साथ भी कई सारे त्योहार जुड़े हुए होते है। इसमें नरक चतुर्दशी का अपना अलग स्थान है। नरक चतुर्दशी को मुक्ति पाने वाला पर्व कहा जाता है। इस दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर राक्षस का वध किया था। इसीलिए चतुर्दशी का नाम नरक चतुर्दशी के नाम पर पड़ा। इस दिन पूजा करने से नरक निवारण का आशीर्वाद मिलता है। इसीलिए लोग अपने घर में यमराज की पूजा कर अपने परिवार वालों के लिए नरक निवारण की प्रार्थना करते है। इसदिन की खास बात ये होती है कि इस दिन भी पूजा अर्चना की जाती है और गलतियों से बचने के लिए और उनको माफ करने के लिए माफी मांगी जाती है।

chhoti diwali 2017 date

छोटी दिवाली के ऐसे करें पूजा

पूजा करने के अलग अलग तरीके होते है। वैसे तो हर त्योहार में पूजा होती पर सबके लिए और हर भगवान को प्रसन्न करने के लिए तरीके बदलने पड़ते है। इस छोटी दिवाली में कहीं आप दिवाली वाली विधि ना अपना लें इस वजह से आपको ये जानना जरूरी है।

नरक चतुर्दशी के दिन सूर्योदय से पहले उठने का महत्व होता है। इस दिन तेल से नहाया जाता है। नहाने के पश्चात सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए। इसके बाद भगवान कृष्ण की अराधना की जाती है। पूजा के समय फल-फूल धूप जलाकर अर्चना करें। और शाम को घर की दहलीज पर 5 या 7 दीप जलाएं। इस तरह से छोटी दिवाली में पूजा करें और अपने परिवार के लिए प्रार्थना करें। ऐसा करने से आपके घर में दरिद्रता खत्म हो जाएगी।

chhoti diwali 2017 date

छोटी दिवाली यानि नरक चौदस

पूजा करने से पहले उसका मुहूर्त जानना बहुत जरूरी है। इस बार का मुहूर्त इस प्रकार है...

अगर आप पूजा करने के लिए तैयारी कर रहे है तो आपको सुबह 4.47 से 06.27 तक नहां लेना है।

इस बार आपकी पूजा करने का समय कम से कम 1 घंटा 40 मिनट होना चाहिए।

chhoti diwali 2017 date
English summary

Choti Diwali 2017: Date, Puja Vidhi and Muhurat Timings for Naraka Chaturdashi

Diwali has come and people's preparations have been fulfilled. If you are going to do something in this Diwali then do it now because now is not the time. Two Diwali is celebrated here. One small and one big and today we talk about small Diwali.
Please Wait while comments are loading...