क्‍या आपने सुना है जापान के ब्रेस्‍ट टेम्‍पल के बारे में?

By: Gauri Shankar sharma
Subscribe to Boldsky

जापान एक ऐसी जगह है जहां आपको कई अनोखी चीजें मिल जाएंगी। चाहे वो अजीब मंदिर हों या फिर खान-पान, जापान में आपको ऐसी कई चीजें दिख जाएंगी।

जापान में स्तन मंदिर (ब्रेस्ट टेम्पल) ख़ास कारणों से प्रसिद्ध है। आइए हम आपको बताते हैं इस प्रसिद्ध बूब्स टेम्पल के बारे में।

ये है बुलेट बाबा मंदिर, जहां बाबा को चढ़ता है शराब का चढ़ावा

यहां क्या होता है और ये किसलिए जाना जाता है ये जानना जरूरी है, क्यों कि ऐसा मंदिर होना अजीब बात है। जापान के ओकायामा के सोजा शहर में यह मंदिर स्थित है। यह अनोखा है क्यों कि इसका नाम जापान में मामा कन्नून या रयुओं जी पर है।

जानिये, हमारे घरों के अंदर क्‍यों नहीं पहना जूता-चप्‍पल?

यह स्तनों की देवी चिचिगामिसामा को समर्पित है। आगे जानते है इसके बारे में...

यह कब बना...

यह कब बना...

यह अनोखा मंदिर 1678 में बना था, लेकिन ये स्थान यहाँ उगे डेड वीपिंग चेरी ट्री के यहां उगने के बाद से प्रसिद्ध हुआ है।

 दीवारें कुछ इस तरह लटकी हैं....

दीवारें कुछ इस तरह लटकी हैं....

मन्दिर की दीवारें असंख्य ईमा से लटकी हैं, जिन्हें वायोलेट टेबलेट यानि मन्नत के तख़्त भी कहते हैं। ये ईमा महिलाओं के स्तनों की तरह की बनावट के हैं।

चारों और ईमा ही ईमा...

चारों और ईमा ही ईमा...

ईमा स्तनों के जैसे दिखने वाले सजावटी इंटीरियर हैं। ये लकड़ी के छोटे तख़्त से बने हैं जहां मन्नत मांगने वाले देवी को अपनी ख्‍वाहिश इस पर लिखते हैं।

मान्यता...

मान्यता...

लोगों की मान्यता है कि स्तन की देवी की पूजा से बच्चे का सुरक्षित जन्म होता है और स्तन में दूध सही बनता है। यह भी कहा जाता है कि स्तन देवी स्तन के कैंसर को भी ठीक कर देती है।

महिलाओं के यहां पूजा करने के कई कारण हैं...

महिलाओं के यहां पूजा करने के कई कारण हैं...

महिलायें यहांं ना केवल बच्चे के सुरक्षित जन्म, ज्यादा दूध और स्तन कैंसर के लिए प्रार्थना करती हैं, बल्कि यहांं महिलाएं बड़े स्तनों और गुलाबी निप्पल्स के भी प्रार्थना करती हैं!! तो आप क्या सोचती हैं? क्या कभी आप इस जगह विजिट करेंगी?

English summary

Have You Heard About The Breast Temple?

Have you heard about the breast temple in Japan? Check out the history behind the bizarre concept of this temple.
Please Wait while comments are loading...