For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कौन है सौरव चोरडिया, जिसने महज 21 की उम्र में बनाया IAF के ल‍िए दो स्‍पेशल पैच

|

आपको जानकर हैरानी होगी कि इंडियन एयरफोर्स के ल‍िए बेहतरीन स्क्वॉड्रन पैच बनाने वाला एक 21 साल का राजनीति विज्ञान से ग्रेजुएट लड़का सौरव चोरडिया है, जो दिल्‍ली में एक ग्राफिक डिजाइनर है। हाल ही में सौरव ने विंग कमांडर अभिनंदन की 51वीं स्क्वॉड्रन, जो अब 'फॉल्कन स्लेयर्स' के नाम से जानी जाएगी। उसके ल‍िए स्‍पेशल दो पैच डिजाइन किए हैं। ये पैच फरवरी 2019 में इंडियन एयर फोर्स और पाकिस्तान के बीच लड़ी गई हवाई लड़ाई की याद दिलाते हैं। ये पहली बार नहीं है जब सौरव ने किसी खास स्क्वॉड्रन के ल‍िए पैच डिजाइन किए हैं।

सौरव ने महज 18 साल की उम्र से डिजाइनिंग शुरू कर दी थी। इससे पहले वो तेजस स्क्‍वॉड्रन, सूर्यकिरण एरोबैटिक टीम और अन्य लोगों के लिए भी पैच बनाए हैं। आइए जानते है कि इन पैच में ऐसा क्‍या खास है, जिसकी वजह से चारों तरफ इस‍की और इसे बनाने वाले डिजाइनर सौरव चोरड़िया की चर्चा हो रही है।

आसाम के छोटे से गांव से है सौरव

आसाम के छोटे से गांव से है सौरव

सौरव का पिता आसाम के छोटे से कस्‍बे बासुगांव में कपड़े के व्‍यापारी है। सौरव को 3 डी आर्ट में तब दिलचस्‍पी विकसित हुई जब उनके भाई को राज्य सरकार से एक कंप्यूटर मिला। 2010 में सरकार प्रथम श्रेणी के साथ मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वालों को कंप्यूटर देती थी। सौरव ने बताया कि मेरे भाई को एक कंप्यूटर मिला था, लेकिन मैंने इसका इस्‍तेमाल फ्लाइट सिमुलेटर चलाने के लिए करने लगा। धीरे-धीरे मेरी रुचि एयरक्राफ्ट की डिजाइन बनाने शुरु हो गई और मैं 3 डी आर्ट से एयरक्राफ्ट की डिजाइन बनाना शुरु कर दिया।

क्‍या है इस नए पैच में स्‍पेशल?

क्‍या है इस नए पैच में स्‍पेशल?

सौरव ने दो पैच डिजाइन किए है एक में फॉल्कन स्‍लेयर्स (Falcon Slayer) और दूसरे में एमराम डॉजर (AMRAAM Dodger) लिखा दिखाई दे रहा है।

Source : Twitter

Most Read : पाकिस्‍तान में चायवालों के फेवरेट बने IAF पायलट अभिनंदन, मार्केटिंग के ल‍िए यूज कर र‍हे है फोटो

फॉल्कन स्लेयर्स' (Falcon Slayer) :

फॉल्कन स्लेयर्स' (Falcon Slayer) :

सौरव ने 51वीं स्क्‍वॉड्रन को ‘फॉल्कन स्लेयर्स' वाला शोल्डर पैच को डिजाइन किया है, यूनीफॉर्म के शोल्डर पैच पर मिग-21 बनाया गया है। अमेरिका निर्मित पाकिस्तानी फाइटर प्लेन F-16 विमान मार गिराने के लिए 51वीं स्क्‍वॉड्रन को फॉल्‍कन स्लेयर्स यह नाम सम्मान स्वरूप दिया गया है। पैच में लाल रंग में F-16 को गिरता हुआ दर्शाया गया है। बैज के ऊपर एमराम डॉजर और नीचे फॉल्कन स्लेयर्स लिखा हुआ है। F-16 को फाइटर फॉल्‍कन के नाम से भी जानते हैं। फॉल्‍कन स्‍लेयर्स का मतलब 'फॉल्‍कन को मार गिरा देना वाला' होता है।

Source : Twitter

 'एमराम डॉजर (AMRAAM Dodger)

'एमराम डॉजर (AMRAAM Dodger)

'एमराम डॉजर' हवा से हवा में मार करने वाली अमेरिकी निर्मित एक मिसाइल का नाम है। पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों के साथ हुए हवाई हमले के दौरान भारतीय वायुसेना लड़ाकू विमानों को निशाना बनाकर पाकिस्तानी वायुसेना की एफ-16 विमानों ने एमराम मिसाइलें दागीं थीं। इन मिसाइलों को चकमा देकर भारतीय लड़ाकू विमान सुखोई-30 एमकेआई आसानी से बच निकले थे। घातक मिसाइल एमराम से विमान का बचाव करने वाले फाइटर पाइलट अब सम्मान स्वरूप 'एमराम डॉजर' पैच अपनी वर्दी पर पहनेंगे।

क्‍यों जरुरी होता है पैच

क्‍यों जरुरी होता है पैच

बता दें कि ये पैच कपड़े के बने हुए बैज हैं, जो स्क्‍वॉड्रन की पहचान बताएंगे। साथ ही, उस कारनामे की भी जानकारी देंगे, जिसमें स्क्‍वॉड्रन ने हिस्सा लिया हो। इन पैच पर उन विमानों को भी दिखाया गया है, जो स्क्‍वॉड्रन उड़ाते हैं। इंडियन एयर फोर्स के मुताबिक वर्दी पर पैच पहनना स्क्वॉड्रन पायलट के लिए आम बात है। इन पैच का मतलब सम्मान से जुड़ा होता है।

Most Read : पाकिस्‍तान में एयर स्ट्राइक के वक्त पैदा हुआ बच्चा, नाम रखा- मिराज सिंह

 IAF ने की सौरव के काम की तारीफ

IAF ने की सौरव के काम की तारीफ

इंडियन एयरफोर्स ने सौरव के डिजाइन किए हुए इन पैच की खूब तारीफ की है। सौरव ने एक इंटरव्‍यू में बताया कि "ये मेरे लिए बहुत बड़े सम्मान की बात है कि मुझे 45 स्क्‍वॉड्रन ('द फ्लाइंग डैगर्स') के लिए स्क्‍वॉड्रन पैच बनाने के लिए कहा गया था जो तेजस लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट को उड़ाने वाला पहला IAF स्क्वाड्रन था।"

Read more about: life जिंदगी
English summary

who is saurav chordia, 21 yr old behind IAF's Special patches?

Saurav Chordia, who works as a graphics designer in New Delhi, has recently designed two patches commemorating the air battle that the IAF fought with the Pakistan Air Force.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more