क्‍या आपने सुने हैं ये 5 तरह के एक्‍स्‍ट्रामेरिटल अफेयर, जानें क्‍यों होते हैं ये

By Super Admin
Subscribe to Boldsky

हम सभी प्यार की कद्र करते हैं, तो हम विवाहेत्तर संबंध क्यों बना लेते हैं? हेलेन फिशर, एक जैव मानव विज्ञानी, इसे एक दिलचस्प तरीके से बयां करती हैं। उनके अनुसार, प्यार वास्तव में एक भावना नहीं बल्कि उससे कहीं अधिक एक मस्तिष्क प्रणाली है।

जब प्यार की बात आती हैं, तो हमारे पास तीन मस्तिष्क प्रणालियां हैं - सबसे पहली है सेक्स की इच्छा, दूसरी है रोमांटिक प्यार और तीसरी है साथी से लगाव।

और मस्तिष्क की संरचना इस तरह से काम करती है कि एक साथी के साथ से जुड़े होने के बावजूद, हम दूसरों के लिए गहन प्यार और अन्य भागीदारों के लिए सेक्स की चाहत महसूस कर सकते हैं।

अलग-अलग लोग विवाहेत्तर संबंधों के मामलों के लिए अलग-अलग व्यवहार करते हैं। कुछ लोग आत्म-पुनर्आश्वासन चाहते हैं कि वे अभी भी वांछनीय हैं, दूसरे ऊब को मिटाने या तनाव कम करने के लिए, जो अपने पति या पत्नी से मिलता है या फिर अपने विवाह से इतर भी कोशिश करते हैं।

Boldsky

मात्र-वासना के मामले

यह सभी प्रकार के मामलों में सबसे आम है। इसमें दोनों सिर्फ सेक्स के लिए एक दूसरे को चाहते हैं, क्योंकि इससे उन्हें शांत रूप से यौन मुक्ति का अहसास होता है। वे अपने परस्पर सहयोगियों को नहीं छोड़ना चाहते पर वे बिस्तर में गर्माहट का आनंद लेते हैं। ऐसे मामले अक्सर उत्तेजना समाप्त होने के साथ ही खत्म हो जाते हैं और बहुत लंबे समय तक नहीं चलते हैं। हालांकि शुरू में यह यौन प्रक्रिया उनके भावनात्मक मुद्दों को छिपाने में मदद करता है पर जल्द ही गहरे मुद्दों फिर सतह पर आ जाते हैं और यह लगाव फीका पड़ जाता है।

भावनात्मक मामले

हम सभी ने विभिन्न बहसों में पढ़ा है कि भावनात्मक मामले और यौन बेवफाई के मामले समान रूप से पाप की श्रेणी में आते हैं। कभी-कभी इसे दिल का मामला भी कहा जाता है। हालांकि दोनों एक दूसरे से भौतिक रिश्ते में जुड़ते पर वे एक दूसरे के दिमाग में गहरी पैठ बना लेते हैं। वे लगातार छेड़खानी करते हैं, संदेशों का आदान-प्रदान करते हैं, लगभग हर समय एक-दूसरे के बारे में सोचते रहते हैं। हालांकि कोई यौन संबंध नहीं होता है पर इसका मतलब यह नहीं है कि दोनों के बीच कोई यौन आकर्षण नहीं होता। दोनों बेहद अंतरंग विवरण साझा करते हैं और एक दूसरे में इतने समाहित होते हैं कि प्राथमिक संबंध के लिए उनकी ऊर्जा समाप्त हो जाती है। वे निरंतर एक-दूसरे तक पहुंच बनाते हैं क्योंकि वे लगातार जुड़े रहने की आवश्यकता महसूस करते हैं।

असंतोष या बदला लेने के मामले

इस तरह के मामले अक्सर मौजूदा साथी के प्रति असंतोष के कारण होते हैं। ऐसे मामले तब साकार होते हैं जब साथी अपने पति या पत्नी की बराबरी चाहता है। वे एक अवैध रिश्ते को भी पा सकते हैं या अपने पार्टनर की उदासीनता के कारण परिधि से बाहर महसूस कर सकते हैं। जब ऐसे पार्टनर विवाहेत्तर संबंधों में संलग्न होते हैं, तो वे सशक्त महसूस करना चाहते हैं और वे अनजाने में इस तरह के अवैध मामले में सुकून तलाशते हैं। वे किसी परेशानी से निपटने के गहन दबाव को महसूस किए बिना किसी की चाहत का अहसास करना चाहते हैं। यह रिश्ता दोनों के एहसास होने से कहीं पहले बिखर जाता है।

काल्पनिक मामले

इंसान भ्रम पैदा करने में सक्षम है। यह काल्पनिक मामलों का पूरी तरह से वर्णन कर देता है। एक सहयोगी या जिम का दोस्त शायद आपके साथ समय बिताना पसंद करता है, लेकिन आप चुपके से खुद को समझाती हैं कि आप दोनों की जोड़ी ऐसी है कि आपके साथ रहने के लिए वह अपने साथी को छोड़ देगा। यह प्रतिबद्धता केवल एकतरफा होती है और तबाही के लिए एक आदर्श स्थिति है।

शरीर और आत्मा के मामले

ये मामले सबसे घातक होते हैं। यह लगभग वास्तविक रिश्ते के समान होते हैं। दोनों यौन संबंध रखते हैं, भावनात्मक रूप से निर्भर होते हैं और एक-दूसरे के साथ होने पर पूर्णता महसूस करते हैं। वे एक दूसरे को जन्म-जन्मांतर के साथी के रूप में देखते हैं। इस तरह के मामले विवाह बर्बाद करने में सक्षम होते हैं, क्योंकि यह रिश्ता इतना सही लगता है! यह शारीरिक और भावनात्मक होने से कहीं बढ़कर आध्यात्मिक होता है। वे लगातार एक-दूसरे के अहसास की ज़रूरत महसूस करते हैं और अलग होने पर बेहद कष्ट महसूस करते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    क्‍या आपने सुने हैं ये 5 तरह के एक्‍स्‍ट्रामेरिटल अफेयर, जानें क्‍यों होते हैं ये | 5 kinds of extra-marital affairs and why they happen

    Different people react differently to extra marital affairs. Some are looking for self reassurance that they are still desirable, others want to kill boredom or release stress, get even with their spouse or simply explore outside their marriage.
    Story first published: Monday, June 19, 2017, 7:40 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more