एक तलाकशुदा से शादी करने को लेकर जुड़े मिथ्य

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

क्या आप एक तलाकषुदा महिला या पुरूश से षादी कर रहे है? तो आपको कौन रोक रहा है? क्या आपके मित्र या परिजन आपको रोक रहे है क्यूंकि उनकी अपनी मान्यताएं है जो ये कहती है कि आपका ये निर्णय गलत है।

वे आपसे ये पूछ सकते है कि ’ आप तलाकषुदा व्यक्ति से षादी क्यूं कर रहे है, जबकि आप किसी सिंगल व्यक्ति को चुन सकते है।

खैर, ऐसी स्थिति में आपको सिर्फ अनुकूलता, प्यार और केमेस्ट्री ये चीजें ही निर्धारित करनी चाहिए।

अगर ये चीजें सही है और आप दोनों एक होना चाहते है, तो अतीत को एक किनारे रख दें। अगर एक तलाकषुदा से षादी करने के लिए कुछ मिथ्य आपको रोक रहे है, तो इन मिथ्यों को दूर करने के लिए हमारा ये लेख पढ़ेंः

मिथ्य #1: वे रिष्ते के मामले में असफल है।

मिथ्य #1: वे रिष्ते के मामले में असफल है।

लेकिन ये बात पूर्णतया गलत है। आप उसी स्थिति को दूसरे परिपेक्ष्य से देख सकते है। कि उनमें एक विफल षादी से बाहर निकलने का साहस था। बल्कि ये बुद्धिमानी है, क्यूंकि लंबे समय तक एक असंगत रिष्ते में रहना सही नहीं है। इसलिए, आपका भावी साथी जो कि तलाकषुदा है असफल नहीं है। वो सिर्फ अपना बेस्ट देने के लिए सही व उपयुक्त रिष्ते का इंतजार कर रहे है।

मिथ्य #2: उनके बच्चे होने चाहिए

मिथ्य #2: उनके बच्चे होने चाहिए

अगर आपके भावी साथी के पिछली षादी से बच्चे नहीं हुए है तो ये मिथ्य उपयुक्त नहीं है। बल्कि, अगर उनके बच्चे है, तो अगर आप उनके साथ बातचीत कर सकते है और इस चीज का आंकलन कर सकते है कि पैरेंटस के रूप में वे बिना किसी टकराव के आपको स्वीकार कर सकते है तो आपको पीछे हटने की जरूरत नहीं है।

मिथ्य #3: उन्होंने तलाक के लिए आवेदन करने पर दोबारा नहीं सोचा

मिथ्य #3: उन्होंने तलाक के लिए आवेदन करने पर दोबारा नहीं सोचा

ये सिर्फ गलतफहमी है। सिर्फ इसलिए कि व्यक्ति ने तलाक को चुना इसका मतलब ये नहीं कि वो हमेषा छोटे मसलों को लेकर कोर्ट जाने को तैयार होगा। बल्कि, सोचें कि उन्हें इस स्थिति से निकलना आवष्यक होगा। सोचें, कि किस कारण से उन्होनें इतना बड़ा कदम उठाया। अगर षादी में पर्याप्त सामंजस्य व प्यार होता तो कोई भी व्यक्ति कोर्ट में अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहेगा।

मिथ्य #4: वे स्वार्थी है

मिथ्य #4: वे स्वार्थी है

षांति का रास्ता चुनना स्वार्थी तरीका नहीं है। अगर आप सुसंगत रिष्ते में नहीं हो तो बल्कि उससे भागने की कोषिष करेंगे। घर में षांति पाने के लिए क्या आप खुद को स्वार्थी करार देंगे। इसलिए आप किसी को परख नहीं सकते और उसे स्वार्थी कहें क्यूंकि वे तलाकषुदा है। उन्हें स्वार्थी कहने से पहले उनके स्वभाव को जानें।

मिथ्य #5: वे झगड़ालू हो सकते है

मिथ्य #5: वे झगड़ालू हो सकते है

कोई भी स्वस्थ व्यक्ति हर रोज लड़ाई नहीं करना चाहेगा। अगर आपका भावी साथी जो कि तलाकषुदा है ने अतीत में अपने साथी से झगड़े किए हो, तो इसका मतलब ये नहीं कि आपको भी उसी स्थिति से गुजरना पड़ सकता है। उनको जज करने से पहले उनके व्यक्तित्व को समझें।

मिथ्य #6: सामाजिक मसलें उभर सकते है!

मिथ्य #6: सामाजिक मसलें उभर सकते है!

वे दिन गए। अगर आप समाज के प्रतिश्ठित लोगों या षिक्षित वर्ग या फिर अमीर वर्ग के लोगों को देखेंगे, तो आपको ये एहसास होगा कि वे तलाकषुदा से षादी करने को लेकर दो बार नहीं सोचते। इसलिए, अगर आप एक तलाकषुदा से षादी करते है तो आपको इस बात की चिंता करने की जरूरत नहीं कि आपके पड़ोसी या रिष्तेदार आपके बारे में क्या सोचेंगे।

मिथ्य #7: प्यार असंभव है!

मिथ्य #7: प्यार असंभव है!

अगर आप ऐसा सोचते है कि वो पहले से किसी को प्यार करता है और वो आपको फिर से बेहद प्यार करने में असक्षम है। लेकिन अगर वो अपने पूर्व साथी को प्यार करता है तो ये तलाक नहीं होता। इसलिए, अगर आप अपने भावी साथी का दिल जीतने की कोषिष करते है तो आप उससे अपने हिस्से का प्यार पा सकते है।

English summary

Myths About Marrying A Divorcee!

Are you marrying a divorced woman or a man? Then what is stopping you? Are your friends and family members stopping you? Then read this!
Please Wait while comments are loading...