For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

चावल खाने से नहीं बढ़ता मोटापा जरूर करें डाइट में शामिल, जापानी शोधकर्ताओं का दावा

|

जापान में हुए एक शोध में शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि राइस-बेस्ड जापानी या एशियाई स्टाइल डाइट को फॉलो करने से वजन को कम करने में मदद मिलती है। शोधकर्ताओं के एक समूह नें 136 देशों के लोगों के खाने-पीने और रहन-सहन की आदतों की अच्छी तरह से जांच की। शोध के परिणामों में यह सुझाव दिया गया कि जिन देशों में चावल का सेवन कम मात्रा में किया जाता है, उनकी तुलना में चावल का सेवन करने वाले देशों में रहने वाले लोग अधिक दुबले-पतले होते हैं।

Eating rice could help fight obesity, study led by Japan researcher suggests

यह शोध इस धारणा या विश्वास का खंडन करता है कि कार्बोहाइड्रेट को सीमित मात्रा में खाने से वजन कम होने में मदद मिलती है। शोध में शामिल एक शोधकर्ता का कहना है कि उन देशों में मोटापे का दर (ओबेसिटी रेट) काफी कम है, जो चावल को मुख्य भोजन के रूप में खाते हैं। शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया कि 650 मिलियन लोगों में अनुमानित तौर पर 643.5 मिलियन लोगों में प्रत्येक दिन 50 ग्राम चावल का सेवन करने से मोटापा 1% तक कम हुआ।

यूके में रहने वाले लोग एक दिन में औसतन 19 ग्राम चावल का सेवन करते हैं, जो कनाडा, स्पेन और अमेरिका में रहने वाले लोगों से बहुत ज्यादा कम है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, चावल शरीर के हेल्दी वेट को बनाए रखने के लिए एक आदर्श खाद्य पदार्थ इसलिए भी है, क्योंकि यह लो-फैट अनाज इसे खाने वालों को उच्च फाइबर होने के कारण परिपूर्णता या पेट भरा हुआ होने का अहसास देता है। इस अनाज में पाए जाने वाले फाइबर, पोषक तत्व और पौधों के घटक (प्लांट कॉम्पोनेंट्स) होने के कारण यह तृप्ति की भावना को बढ़ाता है और अधिक खाने से रोकता है।

English summary

Eating rice could help fight obesity, study led by Japan researcher suggests

Researchers said low-carbohydrate diets — which limit rice — are a popular weight-loss strategy in developed countries but the effect of rice on obesity has been unclear.
Story first published: Friday, May 3, 2019, 15:57 [IST]
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more