नकली या सड़कछाप परफ्यूम का इस्‍तेमाल, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक...

By Rashmi Sharma
Subscribe to Boldsky

आप ऐसी इंसान कतई नहीं हैं जो सामान्यतः नकली इत्र या डिओडोरेंट खरीदती हैं, लेकिन आप जब भी ऐसी छोटी दुकान से गुजरती हैं जहाँ से इत्र की खुशबू आती है आप बरबस ही रुक जाती हैं। हम हमेशा यह मानते हैं कि नकली इत्र और डिओ "गंदा" महकते हैं, लेकिन यह हमेशा सच नहीं होता। कुछ नकली इत्र बहुत अच्छे महकते हैं, लेकिन आप केवल सुगंध से इत्र को नहीं परख सकते - खासकर तब जब आपको यह पता न हो कि उस बोतल में कौन से रसायन हैं! इसलिए आपको नकली इत्र और डिओ से बचना चाहिए।

Boldsky

नकली इत्र के स्वास्थ्य संबंधी खतरे

"विशेषज्ञों का मानना है कि सभी बेचे जाने वाले इत्रों में लगभग 10% नकली होते हैं"

यह एक अच्छा सौदा जैसा लगता है - जब आप अपने दोस्तों के साथ बाहर निकलती हैं, तो आप एक महंगे डिजाइनर इत्र की एक बोतल को आसानी से पा जाती हैं, पर उसके लिए आपको बड़ी रकम नहीं खर्च करनी पड़ती है! हाँ, नकली इत्र का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है और कुछ विशेषज्ञों का अनुमान है कि सभी बेचे जाने वाले इत्रों में लगभग 10% नकली होते हैं। दुर्भाग्य से, उपभोक्ता ही इन नकली इत्रों के जाल में फंसते हैं जिसमें कई रासायनिक तत्व होते हैं जो श्वसन और त्वचा की समस्याएं पैदा करते हैं।

Yoga for Strength and Energy | Chaturanga Dandasana | चतुरंग दंडासन | Health Benefits | Boldsky

श्वसन समस्याओं की बढ़ते खतरे

"नकली इत्रों के एयरोसोल स्प्रे में हानिकारक रासायनिक तत्व शामिल होते हैं, जो सांस में घरघराहट, साइनस की समस्याएं और अस्थमा रोग के कारक होते हैं"

इत्र और डिओ का उपयोग एरोसोल के रूप में किया जाता है, जिसका मतलब है कि जब आप इसे स्वयं पर स्प्रे करते हैं, तरल एक महीन बूँदों के रूप में निकलता है। ये बूँदें हवा में तैरती रहती हैं जिससे आप इसमें से कुछ सांस के साथ के अंदर ले लेती हैं। इसका मतलब यह है कि यदि आपका डिओ नकली है, तो आप उसमें मौज़ूद हानिकारक रसायनों को ग्रहण कर लेंगीं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों चेतावनी देते हैं कि नकली इत्र से सांस में घरघराहट और साइनस की समस्याएं हो सकती हैं और इससे दमा भी हो सकता है।

नकली इत्र के कारण त्वचा के विकार

"नकली डिओ के रसायनों से त्वचा पर चकत्ते, सोरियासिस, और डर्मिटाइटिस होने की संभावना होती है"

नकली इत्र और डिओ के कारण लोगों द्वारा गंभीर त्वचा प्रतिक्रियाओं का सामना करना असामान्य नहीं है क्योंकि उनमें उपस्थित रसायनों से त्वचा पर चकत्ते, सोरियासिस, और डर्मिटाइटिस होने की संभावना होती है। अपने चेहरे के पास नकली डिओ छिड़कने से भी मुँहासे निकलना शुरू हो सकते हैं या फिर आँख का संक्रमण हो सकता है। त्वचा विशेषज्ञों का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में प्रतिकूल त्वचा प्रतिक्रियाओं के मामलों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है और वे सावधान करते हुए कहते हैं कि लोग इन उत्पादों का उपयोग न करें, खासकर संवेदनशील जगहों जैसे गर्दन या बाहों के नीचे।

नकली इत्र को कैसे पहचाने

सौभाग्य से, नकली इत्र या डियो की पहचान मुश्किल नहीं है, क्योंकि बोतल की पैकिंग मूल के समान अच्छी नहीं होगी। इसके अलावा, लोगो और प्रिंट में आसानी से दिखने वाली खामियां होती हैं। नकली इत्र का रंग का मूल के समान नहीं होगा और जब आप इसे रोशनी में देखेंगी तो तरल धुंधला या दानेदार दिखाई देगा। आखिरकार, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसकी कीमत बाजार मूल्य से काफी कम होगी और आप इसे ऑनलाइन, सड़कछाप विक्रेताओं और सड़क के किनारों की छोटी दुकानों पर पा सकती हैं।

मूलमंत्र

नकली इत्र में कुछ सस्ते रसायन हो सकते हैं - इसमें मूत्र भी हो सकता है! यह सही है, कई देशों में पाया गया कि जिन नकली इत्र उन्होंने जब्त किया उनमें मूत्र पाया गया, जिसे वे रंजक और और पीएच बैलेंसर के रूप में देखते हैं। 'इयू डी टॉइलेटी' वाक्यांश एक नया मायने देता है, है ना!

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    नकली या सड़कछाप परफ्यूम का इस्‍तेमाल, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक... | Don’t Buy Fake Or Roadside Perfumes

    Here’s why you should avoid fake perfumes and deos.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more