For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

सुष्मिता सेन को 2014 में हुआ था एडिसन नामक दुलर्भ रोग, जानें इस खतरनाक बीमारी के बारे में

|

बॉलीवुड एक्ट्रेस सुष्मिता सेन ने हाल ही में एक वीडियो पोस्‍ट करके खुलासा किया है कि उन्हें एडिसन नाम की बीमारी थी और उन्होंने इसे दृढ़ इच्छाशक्ति और नानचक वर्कआउट सेशन के जर‍िए हराया। इस वीडियो को शेयर करते हुए उन्होंने अपनी इस बीमारी के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने खुलासा किया कि उन्हें इम्युन से संबंधित एडिसन रोग हुआ था। आपको ये जानना बहुत ही जरुरी है क‍ि यह बीमारी बहुत आम नहीं है। हर 1 लाख लोगों में इसके नए मामलों का प्रतिशत सिर्फ 0.83 है। इसका मतलब है, हर 1 लाख आबादी में इसके सिर्फ 4 से 6 मामले पाए जाते हैं।

एडिसन, एल्डोस्टेर ग्रंथियों के खराब कार्यप्रणाली के वजह से एल्डोस्टेरोन और कोर्टिसोल जैसे हार्मोन की मात्रा तेजी से कम हो जाती है। सामान्य रूप से कार्य करने के लिए एड्रनल ग्रंथियों के उत्पादन वाले हार्मोन आवश्यक होते हैं। किसी भी उम्र के पुरुष और महिला को एडिसन की बीमारी हो सकती है। हालांकि, जेनेटिक्स भी इसमें भूमिका निभाती है, क्योंकि जो व्यक्ति अपने परिवार में एडिसन से प्रभावित होते है, उन्हें ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। एड‍िसन रोग को एड्रिनल इनसेफ‍िशेंएसी (Adrenal Insufficiency)भी कहा जाता है।

क्‍या काम होता है एडिसन का?

क्‍या काम होता है एडिसन का?

एडिसन यानी अधिवृक्क ग्रंथियां दो गुर्दे के पीछे स्थित होती हैं।

बाहरी क्षेत्र, कोर्टेक्स, विभिन्न स्टेरॉयड हार्मोनों जैसे कोर्टिसोल, एल्डोस्टेरोन और विभिन्न हार्मोनों के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता है जिन्हें टेस्टोस्टेरोन में परिवर्तित किया जा सकता है। दूसरी ओर, आंतरिक क्षेत्र, मज्जा, एपिनेफ्रिन और नॉरपेनेफ्रिन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। ये ग्रंथि रक्तचाप के विनियमन, मेटाबॉल‍िज्‍म, पोषक तत्वों के उपयोग, या तनाव के लिए शरीर की विभिन्न प्रतिक्रियाओं में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

जब शरीर में ये ग्रन्थियाँ शरीर में अधिक हार्मोन उत्पन्न करते है तो स्त्रियों में दाढ़ी मूछें आदि नरों के लक्षण उभरने लगते हैं तथा बच्चों में आसाधारण गति के कारण जननांगों का विकास होने लगता हैं।

हो सकता है एडेर्नल क्राइसिस?

हो सकता है एडेर्नल क्राइसिस?

एडेर्नल क्राइसिस या एडिसन संकट एक ऐसी स्थिति है जो एक्यूट अधिवृक्क अपर्याप्तता को दर्शाती है। इस स्थिति के दौरान, अधिवृक्क ग्रंथियां लगभग संबंधित हार्मोन का उत्पादन बंद कर देती हैं, जिसके परिणामस्वरूप लक्षण बिगड़ जाते है।

एडेर्नल क्राइसिस कोमा और यहां तक ​​कि मृत्यु भी हो सकती है। कभी-कभी, अधिवृक्क संकट से गंभीर लक्षण दिखाई पड़ सकते हैं और रोगी को अस्पताल ले जाया जाना चाहिए ताकि घातक मामलों से बच सकें।

रोग के लक्षण

रोग के लक्षण

एडिसन की बीमारी के अधिकांश मामलों में, लक्षण धीरे-धीरे स्पष्ट हो जाते हैं। यही कारण है कि इस स्थिति का निदान करना बहुत कठिन है। आखिरकार, कुछ लोग लक्षणों को नोटिस नहीं करते हैं। इसी तरह, अन्य लक्षण अन्य बीमारियों की नकल करते हैं।

वजन में कमी और भूख में महत्वपूर्ण कमी।

हाइपरपिगमेंटेशन या त्वचा का काला पड़ना।

रक्तचाप में कमी, बेहोशी।

हाइपोग्लाइकेमिया या निम्न रक्त शर्करा का स्तर।

नमक को निगलना या चाहना।

मतली, दस्त, उल्टी।

पेट दर्द और तकलीफ।

मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और बेचैनी।

चिड़चिड़ापन।

अवसादग्रस्तता लक्षण विज्ञान।

बालों का झड़ना (जब महिलाओं में सेक्स हार्मोन की शिथिलता होती है।

इलाज़ क्या हैं?

इलाज़ क्या हैं?

एडिसन रोग का इलाज निर्धारित दवाओं के साथ किया जाता है जो कम हार्मोन उत्पादन की समस्या को दूर करती हैं। इन दवाइयों को नियमित रूप से लिया जाना चाहिए। दवा को विनियमित करने के लिए डॉक्टर की लगातार जांच महत्वपूर्ण है। एडिसन रोग के लिए सभी उपचार हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से स्टेरॉयड हार्मोन के स्तर को सही करना शामिल है जिसका शरीर का उत्पादन नहीं कर रहा है।

ओरल कॉर्टिकोस्टेरॉइड : ओरल कॉर्टिकोस्टेरॉइड Hydrocortisone (Cortef), prednisone or cortisone acetateका इस्तेमाल किया जा सकता है।

कॉर्टिकोस्टोराइड इंजेक्शन : यदि उल्टी से बीमार हैं और मौखिक दवाओं को नहीं रख सकते हैं, तो कॉर्टिकोस्टोराइड इंजेक्शन की आवश्यकता हो सकती है।

English summary

Sushmita Sen was diagnosed with Addison’s Disease, Know More About Adrenal Insufficiency

Addison's disease, also called adrenal insufficiency, is an uncommon disorder that occurs when your body doesn't produce enough of certain hormones.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more