ये है डॉक्‍टर हनुमान का मंदिर सिर्फ भभूति से ही हो जाता है कैंसर का ईलाज

Posted By:
Subscribe to Boldsky

ग्‍वालियर के आसपास सटे गांव वाले जब कभी बीमार पड़ते है तो किसी नामी डॉक्‍टर या अस्‍पताल के पास जाने के अलावा ये लोग भगवान हनुमान डॉक्‍टर के पास जाते हैं, और उनका ये मंदिर ही इनके लिए अस्‍पताल से कम नहीं हैं। सिर्फ भभूति लगाने मात्र से ये लोग ठीक हो जाते हैं।

चाहे कितन‍ी बड़ी बीमारी ही क्‍यूं ना हो ? मान्यता है कि इस मंदिर के हनुमान स्वयं अपने एक भक्त का इलाज करने डॉक्टर बनकर पहुंचे थे। इस मंदिर से लाखों लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। श्रद्धालुओं का मानना है कि, डॉ. हनुमान के पास सभी प्रकार के रोगों का कारगर इलाज है। आइए जानते है भगवान डॉक्‍टर हनुमान मंदिर के बारे में-

ग्वालियर मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर की दूरी पर और भिंड जिले में स्थित दंदरौआ सरकार पूरे देश में विख्यात हैं। यहां हनुमान जी को डॉ. हनुमान के नाम से जाना जाता है। यहां देश-विदेश के हजारों श्रद्धालु रोज भगवान के दर्शन के लिए आते हैं और डॉ. हनुमान उनके सभी असाध्य रोगों का सटीक इलाज करते हैं।

भभूती से करते हैं इलाज

भभूती से करते हैं इलाज

डॉ. हनुमान के पास सभी प्रकार के रोगों का कारगर इलाज है। यहां भक्त दूर-दूर से आते हैं और हनुमान जी की भभूती से रोगों से मुक्ति पाते हैं। डॉ. हनुमान सभी प्रकार की बीमारियों के डॉक्टर हैं, लेकिन फोड़े, मुहांस और त्वचा संबंधी रोगों के लिए हनुमान जी की भभूती कारगर इलाज है।

एक और काहानी

एक और काहानी

इस मंदिर से जुड़ी मान्यता है कि एक साधु शिवकुमार दास को कैंसर था। उसे हनुमान जी ने मंदिर में डॉक्टर के वेश में दर्शन दिए थे। वे गर्दन में आला डाले थे, जिसके बाद साधु पूरी तरह स्वस्थ हो गया।

नृत्य की मुद्रा में है दंदरौआ सरकार

नृत्य की मुद्रा में है दंदरौआ सरकार

यहां हनुमान जी की जो मूर्ति है वो नृत्य की मुद्रा में है। यह देश की अकेली ऐसी मूर्ति है, जिसमें हनुमान जी को नृत्य करते हुए दिखाया गया है। यह मूर्ति करीब 300 साल पुरानी है और यह दिव्य मूर्ति एक तालाब में मिली थी।

दर्दहरौआ शब्द से पड़ा नाम

दर्दहरौआ शब्द से पड़ा नाम

दंदरौआ धाम के महंत रामदास जी महाराज बताते हैं कि प्रभु की मूर्ति लगभग 300 साल पूर्व यहां के एक तालाब से निकली थी, जिसे बाद में मिते बाबा नाम के एक संत ने यहां मंदिर में स्थापित करवाया। तब से मूर्ति की पूजा-अर्चना शुरू की गई।

श्रद्धालुओं के विशेष रूप में मुंहासें, अल्सर और कैंसर जैसी बीमारियां भी मंदिर की पांच परिक्रमा करने पर ठीक हो जाती हैं। श्रद्धालुओं का दर्द दूर करने वाले हनुमान जी को पहले दर्दहरौआ कहा जाने लगा, जो कि अपभ्रंश होकर दंदरौआ हो गया।

English summary

dandraua sarkar known as a doctor hanuman

Temple of doctor hanuman in bhind madhya pradesh.
Please Wait while comments are loading...