ये हैं नये रिश्‍ते के पांच नियम

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

रिलेशनशिप कोल्‍ड ड्रिंक की तरह होते हैं। जैसे-जैसे वह पुराने होते जाते हैं उनका मजा कम होता जाता है। और आखिर में रिश्‍ता पूरी तरह खत्‍म हो जाता है। नया-नया रिश्‍ता जोश और जुनून से भरा होता है। यह रिश्‍ता ऊर्जा से भरपूर होता है। हम आपको बता रहे हैं पांच ऐसे नियम जो आपके रिश्‍ते को अलग पायदान पर ले जा सकते हैं। अगर चाहती हैं सीरियस रिलेशनशिप तो पार्टनर से न छुपाएं ये बातें

पहला नियम- ज्‍यादा मांग न करें

जब आपको कोई इनसान पसंद आता है, तो आप हर वक्‍त उसके साथ रहना चाहते हैं। लेकिन, हर वक्‍त उसके साथ चिपके रहना अच्‍छा नहीं। हर महिला को यह पसंद होता है कि कोई उसका ध्‍यान रखे। उसे तवज्‍जो दे, लेकिन अगर कोई पुरुष जरूरत से ज्‍यादा करीबी दिखाता है, तो महिला को यह बुरा लगा सकता है। यह उसके लिए रिश्‍ते से दूर होने का पहला संकेत होता है। अगर आप महिला को यह दिखायेंगे कि आप भावनात्‍मक रूप से स्‍वतंत्र हैं, तो वह इसे शक्ति और विश्‍वास के तौर पर देखेगी। और हर महिला चाहती है कि पुरुषों में ये दो खूबियां जरूर हों।

दूसरा नियम- कहें नहीं करें

शब्‍द केवल जुबानी जमाखर्च होते हैं। और अगर शब्‍दों को वास्‍तविकता में न बदला जाए तो उनके कोई मायने नहीं होते। तो सिर्फ यह कहते रहना कि वह आपके लिए काफी मायने रखती है, इसे अपने कामों से दिखायें। अपनी महिला साथी की ओर प्रेम और सम्‍मान प्रदर्शित करें। यह आपके कामों से जाहिर हो जाता है। उसे इस बात का अहसास करायें और वह भी निबा कहे। आपके काम आपके शब्‍दों से ज्‍यादा प्रभावी होते हैं।

तीसरा नियम- अभी न करें राज की बात

हो सकता है कि आप उसे अपने दिल की कुछ बातें कहना चाहते हों। हो सकता है कि वह इस बात की सराहना करे। उसे अच्‍छा लगे कि आप उस पर भरोसा करते हैं। यह भी हो सकता है कि वह इस बात का बुरा मान जाए। उसे यह लगने लगे कि आपको करीब आने की जल्‍दी है। यह आपके रिश्‍ते के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। थोडा़ धीरज धरें। वक्‍त खुद-ब-खुद उन बातों से पर्दा हटा देगा। इसके साथ ही उसकी बातों को भी पूरे ध्‍यान से सुनें। अगर आप उसे इस बात का अहसास हो गया कि आप उसकी बातों को पूरी तवज्‍जो से सुन रहे हैं, तो इससे वह आप पर विश्‍वास करने लगेगी। और विश्‍वास किसी भी रिश्‍ते को बहुत ही जल्‍दी मजबूत बनाता है।

चौथा नियम- उस पर दबाव न डालें

दबाव में कोई रिश्‍ता नहीं चलता। किसी महिला को जबरन अपनी पसंद का काम करने के लिए कहना, रिश्‍ते में खटास पैदा कर सकता है। तो, इस बात की उम्‍मीद न पालें कि वह हर बार आपकी बात को मान लेगी। बेहतर होगा कि उसे अपनी पंसद के हिसाब से काम करने दें। इससे वह खुश होगी और आपका रिश्‍ता बेहतर होगा। और रिश्‍ते में कुछ पाने की उम्‍मीद रखने से बेहतर है कि आप हमेशा कुछ न कुछ देने का प्रयास करें। बेशक वह आपके इन प्रयासों को देखकर खुश होगी। और फिर वह आपको भी अपने अंदाज में खुशी देने का प्रयास करेगी।

पांचवां नियम- इतनी आसानी से न मिलें

love 3

हर बात खुलकर सामने आ जाए तो फिर रिश्‍ते का मज़ा क्‍या है। अच्‍छा तो यही है कि कुछ छुपा रहे। कुछ बातें वक्‍त के साथ-साथ धीरे-धीरे बाहर आएं तो ही बेहतर। हमेशा उस लड़की के करीब न रहें। उसे आपके बारे में कुछ न कुछ हैरानी जरूर होनी चाहिये। उससे दूर रहकर आप उसके विचारों पर कब्‍जा कर सकते हैं। अनिश्चितता का आनंद कई बार सुरक्षा के बोरियत भरे महौल से बेहतर होता है। आप इसे यूं भी कह सकते हैं- उम्‍मीद और भरोसा मिलकर ही जुनून बनाते हैं।

English summary

5 Rules For A Newly Blossoming Love

Relationships are like cold drinks. The older they get, the more the fizz escapes out of the bottle, and they end up falling flat! New relationships, on the other hand, have all the fizz that make it exciting and full of energy.
Please Wait while comments are loading...