इलायची के 8 स्वास्थ्य लाभ

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

इलायची किसी भी भारतीय परिवार में देखे जाने वाले सबसे आम मसालों में से एक है। यह न केवल मीठे और स्वादिष्ट व्यंजनों में डाली जाती है बल्कि एक माउथ फ्रेशनर के रूप में भी इस्तेमाल होती है। बा, आयरन और रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन जैसे आवश्यक विटामिन इलायची के अन्य प्रमुख घटक हैं।

लाल रक्त कोशिकाओं और सेलुलर उपापचय के उत्पादन में अत्यधिक महत्व के लिए प्रचलित तांबा, आयरन, रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन के साथ एनीमिया से लड़ने में मदद करता है और इस स्थिति में होने वाले लक्षणों से राहत दिलाता है। लेकिन इस नरम हरी फली के पास सेहत के लिए और भी बहुत कुछ है। इलायची के 8 फायदे यहाँ दिए गए हैं। बडी इलायची से होने वाले 15 फायदे

1. पाचन में सुधार:

1. पाचन में सुधार:

क्या आपने कभी सोचा है कि भोजन के बाद सौंफ एक मुख्य खाद्य पदार्थ क्यों है? बहरहाल, ऐसा इसलिए है क्योंकि इलायची की प्रकृति वातहर है और यह पाचन को बढ़ाने, पेट की सूजन को कम करने, हृदय की जलन को दूर करने और मतली को रोकने में मदद करती है। माना जाता है कि यह श्लेष्मा झिल्ली को शांत करती है ताकि वह ठीक से कार्य कर सकें और जिससे अंततः एसिडिटी और पेट की खराबी के लक्षणों से राहत मिलती है। इसके अलावा, आयुर्वेदिक ग्रंथों के अनुसार यह पेट में जल और वायु के गुणों को कम करती है जिससे वह भोजन को कुशलता से पचाने में सक्षम होता है।

सुझाव: यदि आपको बदहजमी है तो यह टिप आपके लिए है। दो से तीन इलायची, अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा, थोड़ी सी लौंग और धनिया के कुछ बीज लें। इन्हें अच्छी तरह से पीसकर गर्म पानी के साथ खाएं। अपच, सूजन और गैस के लिए यह एक त्वरित उपचार है

2. मुंह की दुर्गंध को समाप्त करना:

2. मुंह की दुर्गंध को समाप्त करना:

यदि आपके मुंह से दुर्गंध आती है और आप उपचार की हर कोशिश कर चुके हैं तो एकबार इलायची आज़माइए। इस मसाले में एंटीबैक्टीरियल गुण, तेज स्वाद और एक भीनी सी महक हैं। इसके अलावा, यह आपके पाचन तंत्र को सुधारती है- जो कि दुर्गंध के प्रमुख कारणों में एक है- यह समस्या के मूल कारण को दूर करने में बहुत प्रभावशाली है।

सुझाव: हरबार भोजन के बाद एक इलायची चबाएं। अपने पाचन तंत्र को मजबूत बनाने और डिटोक्सिफाई करने के लिए वैकल्पिक रूप से हररोज़ सुबह इलायची की चाय पी सकते हैं। मुंह की दुर्गंध को दूर करने के लिए अन्य प्राकृतिक उपचारों को पढ़ें।

3. एसिडिटी से छुटकारा:

3. एसिडिटी से छुटकारा:

इलायची में उपस्थित आवश्यक तेल इसे एसिडिटी का प्रमुख उपचार बनाकर आपके पेट की श्लैष्मिक लाइनिंग को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। आपकी लार में वृद्धि करना आपकी मदद करने का एक अन्य तरीका है। इलायची चबाने पर इसमें से आवश्यक तेल निकलते हैं जो आपकी लार ग्रंथियों को उत्तेजित करते हैं जिससे आपका पेट ठीक प्रकार से कार्य करती है जिसके परिणामस्वरूप आपकी भूख में सुधार होता है और एसिडिटी में कमी होती हैं। इलायची के आवश्यक तेल एक ठंडा स्वाद और अनुभूति प्रदान करते हैं जो आपको एसिडिटी से होने वाली जलन को दूर करते हैं।

सुझाव: नियमित रूप से हर बार भोजन के बाद इलायची चबाएं। एसिडिटी को दूर करने का सबसे बेहतर तरीका है कि आप खाने के एकदम बाद बैठने से बचें, इसके बजाय इलायची चबाते हुए कुछ देर सैर करें जिससे आप बेहतर महसूस करेंगे। एसिडिटी से छुटकारा पाने के कुछ और प्राकृतिक उपचार यहाँ दिए गए हैं।

4. सांस की बीमारियों को कम करने में सहायक:

4. सांस की बीमारियों को कम करने में सहायक:

इलायची आपके फेफड़ों में रक्त परिसंचरण को बढ़ाकर सांस संबंधित समस्याओं जैसे अस्थमा, खांसी और ज़ुकाम आदि से राहत दिलाती है। आयुर्वेद में इलायची को एक गर्म मसाला माना गया है जो शरीर को अंदर से गर्म करता है जिससे कफ के निष्कासन और छाती में जमाव से राहत दिलाता है।

सुझाव: यदि आपको सर्दी, खांसी या छाती में जमाव है तो इन लक्षणों से राहत दिलाने के लिए इलायची सबसे बेहतर प्राकृतिक उपचार है। आपको केवल इतना करना है कि भाप लेते समय गर्म पानी के बर्तन में इलायची के आवश्यक तेल की कुछ बूंदें डालें। सर्दी या खांसी से परेशान हैं? यहाँ कुछ प्राकृतिक उपचार है जो आपको तत्काल राहत दे सकते हैं।

5. आपके हृदय रेट को नियमित करना:

5. आपके हृदय रेट को नियमित करना:

पोटैशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भरपूर इलायची आवश्यक इलेक्ट्रोलाइट्स के लिए एक सोने की खान है। पोटैशियम आपके रक्त, शरीर के तरल पदार्थ और कोशिकाओं का एक मुख्य तत्व है। इन आवश्यक खनिजों की प्रचुर मात्रा में आपूर्ति करके इलायची आपके हृदय रेट को नियमित करने में मदद करता है और आपके रक्तचाप को नियंत्रित रखता है।

सुझाव: अपने हृदय के स्वास्थ्य लाभ के लिए अपने दैनिक भोजन में इलायची को शामिल करें या फिर केवल इलायची वाली चाय पीते रहें। उच्च रक्तचाप के लिए हर्बल उपचार पढ़ें।

6. एनीमिया से सुरक्षा:

6. एनीमिया से सुरक्षा:

तांबा, आयरन और रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन जैसे आवश्यक विटामिन इलायची के अन्य प्रमुख घटक हैं। लाल रक्त कोशिकाओं और सेलुलर उपापचय के उत्पादन में अत्यधिक महत्व के लिए प्रचलित तांबा, आयरन, रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन के साथ एनीमिया से लड़ने में मदद करता है और इस स्थिति में होने वाले लक्षणों से राहत दिलाता है।

सुझाव: एक गिलास गर्म दूध में एक या दो चुटकी इलायची पाउडर और हल्दी मिलाएं। आप यदि चाहें तो स्वाद के लिए चीनी मिला सकते हैं। एनीमिया के अन्य लक्षणों और कमज़ोरी से राहत पाने के लिए इसे हर रात पिएं। केवल आयरन की कमीे के अलावा भी एनीमिया के होने के कारणों के बारे में जानिए।

7. शरीर को डीटोक्सिफाई करना और मुक्त कणों से लड़ना:

7. शरीर को डीटोक्सिफाई करना और मुक्त कणों से लड़ना:

इलायची खनिज मैंगनीज़ का एक प्रमुख स्रोत है। मैंगनीज़ इस एंज़ाइम के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण है जो मुक्त कणों को समाप्त और नष्ट करता है। इसके अलावा, इलायची में बहुत अधिक मजबूत डीटोक्सिफाई करने के गुण होते हैं जो शरीर को साफ रखते हैं और कैंसर जैसी बीमारियों से बचाते हैं।

सुझाव: अपने शरीर को डीटोक्सिफाई करने के लिए इस आयुर्वेदिक डीटोक्स आहार का इस्तेमाल करें। विकल्प के तौर पर इलायची के लाभ लेने के लिए आप इसे अपने दैनिक आहार और चाय में डाल सकते हैं।

8. आपके सेक्स जीवन में सुधार:

8. आपके सेक्स जीवन में सुधार:

इलायची एक शक्तिशाली और उत्तेजक टॉनिक है। यह न केवल आपके शरीर को मजबूत बनाता है बल्कि यौन रोग जैसे पूर्व स्खलन और नपुंसकता को रोकने में भी मदद करता है। इससे न केवल समस्या से राहत मिलती है बल्कि आप बिस्तर में अधिक देर तक उर्जावान भी महसूस करते हैं।

सुझाव: इलायची के कुछ बीजों को दूध में उबालें। एकबार अच्छी तरह से उबाल आने पर इस मिश्रण में शहद डालें। यौन रोग से राहत पाने के लिए हर रात इस काढ़े का सेवन करें

English summary

8 health benefits of elaichi or cardamom

Cardamom is a seed pod, known since antiquity for its culinary and medicinal properties. Lets know its some health benefits.
Please Wait while comments are loading...