हार्ट बर्न और गंभीर एसिड रिफ्लक्स के लिए 15 घरेलू उपचार

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

हार्टबर्न एक आम समस्या है जिसका सामना प्रत्येक वयस्क को अपने जीवन में करना पड़ता है। इसमें सीने की हड्डियों के पीछे जलन होती है जिसके कारण असुविधा महसूस होती है।

ऐसा आम तौर पर एसिड रिफल्क्स के कारण होता है। ऐसा तब होता है जब मांसपेशियों का रिंग जो भोजन को पेट में आराम करने की अनुमति देता है, जब यह नहीं होनी चाहिए।

इसके परिणास्वरूप एसिड आपके पेट से ग्रासनलिका में जाता है और हार्टबर्न का कारण बनता है। इसके उपचार के लिए अच्छा होगा कि आप हार्टबर्न और एसिड रिफ्लेक्स के लिए घरेलू उपचार अपनाएँ। इससे आपको बिना किसी दुष्परिणाम के तुरंत आराम मिलेगा।

हार्टबर्न से बहुत असुविधा होती है और आपको गर्दन तक जलन महसूस होती है। इस समस्या को ख़त्म करने के लिए आप प्राकृतिक उपचार अपना सकते हैं या जीवनशैली में परिवर्तन कर सकते हैं। इस लेख में आपको हार्टबर्न और एसिड रिफल्क्स से तुरंत आराम पाने के उपाय बताये गए हैं।

अक्सर हार्ट बर्न होने पर गंभीर समस्याएं हो सकती हैं और ग्रासनलिका में जलन हो सकती है। एसिड रिफ्लक्स का उपचार करने से भविष्य में इस प्रकार की समस्याओं से बचा जा सकता है।

अत: हार्ट बर्न और एसिड रिफ्लक्स के घरेलू उपचार जानने के लिए इस लेख को आगे पढ़ें। हार्ट बर्न और एसिड रिफ्लक्स के लिए घरेलू उपचार

1. बेकिंग सोड़ा:

1. बेकिंग सोड़ा:

बेकिंग सोडा एक क्षारीय तत्व है जो हार्टबर्न से होने वाली तकलीफ और जलन को दूर करता है। बेकिंग सोडा का पीएच 7.0 से अधिक होता है अत: यह पेट के एसिड को बेअसर कर देता है।

2. एलो जूस:

2. एलो जूस:

एलो वेरा जूस जलन कम करने के गुण के लिए जाना जाता है। जब आपका पेट में जलन और सूजन होने लगती है तो इसका अर्थ है कि आपकी अन्न प्रणाली भी प्रभावित हो रही है। एलो वेरा जूस इसे शांत करता है क्योंकि इसमें पाचन तंत्र को आराम पहुंचाने का गुण होता है और "लो एसिड डाइट फॉर रेकाल्कीट्रट लर्य्न्गोफर्य्न्गेअल रिफ्लक्स के अध्ययन के डेटा के अनुसार यह एसिड रिफ्लक्स से भी आराम दिलाता है।

3. चिव्गंम:

3. चिव्गंम:

एक शोध अध्ययन के अनुसार वे लोग जो गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिज़ीज़ से ग्रस्त हैं उन्हें खाना खाने के बाद 30 मिनिट तक चिव्गंम चबाने से आराम मिलता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि चिव्गंम लार की ग्रंथियों को उत्तेजित करती है जिसके कारण लार का प्रवाह बढ़ता है। इस प्रक्रिया में पेट में बना हुआ कोई भी एसिड पतला होकर निकल जाता है।

4. बैठे रहें (लेटे नहीं):

4. बैठे रहें (लेटे नहीं):

हार्टबर्न रात के समय और अधिक तकलीफ देता है विशेषकर तब जब आप खाना खाने के बाद तुरंत लेटते हैं। गुरुत्वाकर्षण के कारण पेट में पचा हुआ खाना, एसिड के साथ पुन: ग्रासनलिका की ओर आने लगता है। खाना खाने के 2-3 घंटे बाद तक लेटे नहीं और अपने सिर 6 इंच ऊपर रखें।

 5. देखें कि आप क्या, कैसे और कब खाते हैं:

5. देखें कि आप क्या, कैसे और कब खाते हैं:

बड़े बड़े टुकड़े तोड़कर न खाएं। खाना आराम से छोटे छोटे टुकड़ों में खाएं। कुछ विशेष प्रकार के खाद्य पदार्थों के कारण हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है, विशेष रूप से अधिक एसिड युक्त और मसालेदार खाद्य पदार्थ। अत: ध्यान दें कि आप रात के समय क्या खाते हैं?

6. अधिक एसिड लें:

6. अधिक एसिड लें:

कई बार एसिड रिफ्लक्स की समस्या तब होती है जब आपके पेट में पर्याप्त एसिड नहीं होता। यदि आपके पेट में पर्याप्त एसिड नहीं होता तो आपका पेट सोचता है कि एसिड उत्पन्न करना है जो फिर से ग्रासनलिका की ओर जाता है अत: इस स्थिति से निपटने के लिए आपको शुद्ध एप्पल साइडर विनेगर का उपयोग करना चाहिए क्योंकि यह पीएच के स्तर को बेअसर करने में सहायक होता है।

8. अदरक की जड़ की चाय बनायें:

8. अदरक की जड़ की चाय बनायें:

अदरक पेट की कई समस्याओं को दूर करता है। डाइट एंड लाइफस्टाइल मॉडिफ़िकेशन इन द मैनजेमेंट ऑफ़ गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिज़ीज़ में किये गए शोध के अनुसार खाना खाने से 20 मिनिट पहले ताज़ी अदरक की चाय पीने से पेट शांत रहता है क्योंकि यह एसिड बफर की तरह काम करती है।

 9. ध्यान रखें:

9. ध्यान रखें:

आपको यह जानना आवश्यक है कि आपको हार्टबर्न की समस्या किस कारण से होती है? जिस कारण से भी यह समस्या हो उससे आपको दूर रहना चाहिए। अधिक अच्छी तरह समझने के लिए आपको यह ध्यान देना चाहिए कि आपने दिन भर में क्या खाया।

10. बहुत अधिक कसे हुए कपडे न पहनें:

10. बहुत अधिक कसे हुए कपडे न पहनें:

कमर पर कसे हुए कपडे पहनने से हार्ट बर्न की समस्या बढ़ सकती है। कमर पर बहुत अधिक कसी हुई जींस पहनने से आपका पेट अन्दर धंस जाता है। ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से ग्रासनलिका की निचली पेशी पर बहुत अधिक दबाव पड़ता है जिसके कारण एसिड रिफ्लक्स होता है।

11. स्मोकिंग और अल्कोहल का सेवन न करें:

11. स्मोकिंग और अल्कोहल का सेवन न करें:

सिगरेट और अल्कोहल का सेवन करने से बहुत अधिक एसिड रिफ्लक्स होता है। निकोटिन और अल्कोहल पेट के पदार्थों को ग्रासनलिका की ओर धकेलते हैं।

12. वज़न पर नियंत्रण रखें:

12. वज़न पर नियंत्रण रखें:

वज़न अधिक होने के कारण आपको जीईआरडी होने का खतरा होता है और आपको हार्ट बर्न होने का खतरा भी बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अतिरिक्त वज़न ग्रासनलिका की निचली पेशी पर दबाव डालता है जिसके कारण एसिड रिफल्क्स होता है।

13. सरसों:

13. सरसों:

सरसों में अल्क्लाइजिंग गुण होता है और यह गले में आने वाले एसिड को बेअसर करता है और इस प्रकार एसिड रिफ्लक्स से होने वाले दर्द को कम करता है। हार्ट बर्न और एसिड रिफ्लक्स के लिए यह एक घरेलू उपचार है।

14. बादाम खाएं:

14. बादाम खाएं:

हार्ट बर्न के लिए बादाम एक घरेलू उपचार है। ये पेट के जूस को बेअसर कर देते हैं और हार्ट बर्न से आराम दिलाते हैं।

15. कैमोमाइल का एक कप:

15. कैमोमाइल का एक कप:

सोने से आधा या एक घंटा पहले कैमोमाइल टी पीने से पेट की जलन से बचा जा सकता है और एसिडिटी का स्तर भी संतुलित रहता है। इससे तनाव भी दूर होता है जो एसिड बढ़ने का एक कारण है। हार्ट बर्न और एसिड रिफ्लक्स के लिए यह एक उत्तम घरेलू उपचार है।

English summary

15 Natural Remedies For Heart Burn And Severe Acid Reflux

Home remedies for heart burn and acid reflux are baking soda, aloe juice etc. Know how to treat heart burn and acid reflux with the help of natural remedy.
Please Wait while comments are loading...