इन 4 आयुर्वेदिक चीजों से पाएं थायरॉयड से राहत

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

थायरॉयड की समस्याएं आमतौर पर थायरॉयड हार्मोन टी 4 या थायरोक्सिन और टी 3 या ट्राइयोडायथोरोनिन के अपर्याप्त उत्पादन से जुड़ी हैं।

यह आयोडीन की कमी या ऑटोइम्यून प्रॉब्लम हाशिमोटो (Hashimoto) रोग की वजह से हो सकती है।

आयुर्वेद के अनुसार, थायरॉयड की समस्या दोष के असंतुलन के कारण होती है जोकि पानी, आग और हवा के तत्वों से संबंधित है। जब आपके वात (वायु), कफ (पानी) दोष, और मेदा (वसा) संतुलन में नहीं होते हैं, तो आपकी थायरॉयड ग्रंथि बढ़ सकती है।

थायरॉयड के इलाज के लिए अश्वगंधा

थायरॉयड के इलाज के लिए अश्वगंधा

थायरॉयड के इलाज के लिए अश्वगंधा एक बेहतर आयुर्वेदिक उपचार है। इससे थायरॉयड के सामान्य कामकाज में मदद मिलती है। अध्ययनों से पता चला है कि यह थायराइड की गतिविधि को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है।थायरॉयड और ऑटोइम्यून समस्याओं के इलाज के साथ बारीकी से जुड़ा होने के साथ अश्वगंधा का इम्युनोमोडायलेटरी प्रभाव विशेष रूप से इसे शक्तिशाली बनाता है।

ऑटोमम्यून-लिंक्ड हाइपोथायरॉयड के उपचार के लिए गुग्गल

ऑटोमम्यून-लिंक्ड हाइपोथायरॉयड के उपचार के लिए गुग्गल

इसे हाइपोथायरॉयड विकारों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। टी-4 आपके शरीर में अधिक मात्रा में मौजूद है। टी 3 प्लाज्मा प्रोटीन को कम कसकर बांधता है, जिससे कोशिकाओं द्वारा तेज गति से इसे उपलब्ध हो जाता है। गुग्गुल टी 3 एकाग्रता को बढ़ाता है और टी 4 के रूपांतरण को अधिक सक्रिय करता है।

टी4 लेवल में सुधार के लिए ब्राह्मी

टी4 लेवल में सुधार के लिए ब्राह्मी

ब्राह्मी का उपयोग आयुर्वेद में थायरॉयड समस्याओं का इलाज के लिए किया जाता है। वैज्ञानिक अध्ययन अब इसकी प्रभावशीलता की पुष्टि करते हैं। एक अध्ययन ने 200 मिलीग्राम / किग्रा के बराबर खुराक में उपाय के उपयोग का पता लगाया और पाया कि यह थायराइड को उत्तेजित करने में मदद करता है। जिसके कारण टी 4 के स्तर में 41 प्रतिशत की वृद्धि होती है।

 एंटीऑक्सिडेंट बढ़ाने के लिए त्रिफला

एंटीऑक्सिडेंट बढ़ाने के लिए त्रिफला

त्रिलाला में अमलाकी या फायलथस इम्ब्लिका, बिभीताकी या बेलिरिक मिरबोलायन, और हरीताकी या चेबुलिक मिरबोलायन शामिल हैं। यह एक एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर औषधि है। थायरॉयड की समस्या से पीड़ित लोगों को एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर चीजें खाने की सलाह दी जाती है। इससे शरीर की थकान और तनाव कम करने में भी मदद मिलती है।

English summary

Ayurveda And Thyroid Problems

According to Ayurveda, a thyroid problem is a result of an imbalance of the doshas, which relate to the elements of air, fire, and water in the body.
Please Wait while comments are loading...