रिसर्च..शहद में पाए जाते है ये खतरनाक कीटनाशक, हो जाइए सावधान

Posted By: Lekhaka
Subscribe to Boldsky

हाल ही में किये गए एक अध्ययन से पता चला है कि दुनियाभर में शहद में कीटनाशक की संख्या बढ़ रही है और यह अध्ययन सुझाव देता है कि मधुमक्खियों और अन्य परागणकों में इन खतरनाक रसायनों से व्यापक रूप से उजागर किया जा रहा है।

रिसर्च...बियर पीने वाले लोग दूसरे लोगों से ज्यादा खुश रहते है

आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले कीटनाशक, जिसे निओनिकोटिनोइड्स के रूप में जाना जाता है, उसका पौधों द्वारा अवशोषण किया जाता है और फिर इसके ऊतकों में फैलाया जाता है।

इसका उपभोग करने वाले लोग सीखने और याददाश्त की समस्याओं से पीड़ित हो सकते है।

क्या कहती है रिसर्च

क्या कहती है रिसर्च

जर्नल साइंस में प्रकाशित एक अधययन के अनुसार, कीटनाशकों से परागणकों के लिए खतरे की एक सीमा का एक विचार प्राप्त करने के लिए, शोधकर्ताओं ने अपने आस पास के क्षेत्रों से शहद एकत्रित किया।

उन्होंने उत्तरी अमेरिका के सैम्पल्स में सबसे अधिक निओनिकोटिनोइड्स पाया, जहाँ इसकी मात्रा 86 प्रतिशत या उस से अधिक थी और सबसे 57 प्रतिशत के साथ कम निओनिकोटिनोइड्स दक्षिणी अमेरिका के शहद के सैम्पल्स में पाया गया था।

सैंपल में निकला ये

सैंपल में निकला ये

विश्व स्तर पर, एक तिहाई सैम्पल्स ने में इस कीटनाशक का स्तर इतना अधिक था जो कि मधुमक्खियों को चोट पहुंचाने के लिए पर्याप्त था।

किसी भी सैम्पल में मानव स्वास्थ्य के लिए खतरनाक सांद्रता नहीं थी। शहद के सैम्पल्स में दो प्रकार से अधिक निओनिकोटिनोइड्स 45 प्रतिशत और 10 प्रतिशत चार या पांच थे।

Beetroot and its Side Effects, चुकंदर के नुकसान |सेहतमंद चुकंदर नुकसानदायक भी, जानें कैसे |BoldSky
प्रभाव पता नहीं चले है

प्रभाव पता नहीं चले है

हालाँकि इस मिश्रण के प्रभाव ज्ञात नहीं है, लेकिन इसकी सम्भावना इससे भी बदतर होने की है।

टीम ने सरकारों से कृषि में इस्तेमाल होने वाले निओनिकोटिनोइड्स की मात्रा का अधिक डाटा उपलब्ध करवाने को कहा है, जो किसानों द्वारा उपयोग की जाने वाली और शहद में पायी जाने वाली मात्रा के बीच सम्बन्ध को स्पष्ट करने में सहायता करेगा।

English summary

Honey contains harmful pesticides, study warns

A recent study has shown that the number of pesticides in the world is increasing in honey and this study suggests that bees and other pollinants are being widely exposed to these hazardous chemicals.
Please Wait while comments are loading...