कहीं आप भी तो नहीं मानते गर्भनिरोधकों से जुड़ी ये गलतफहमियां

Subscribe to Boldsky

गर्भनिरोधक कोई नई चीज नहीं है और ऐसा नहीं है कि इसके बारे में किसी को पता ना हो। बर्थ कंट्रोल के तरीकों का महत्व हमेशा था। हजारों वर्षो से बर्थ कंट्रोल के तरीकों का प्रयोग किया जा रहा है। वे लोग जो बच्‍चा प्‍लान नहीं कर रहे हैं, उनके लिये मार्केट में बहुत सारे गर्भनिरोधक उपलबद्ध हैं। माना जाता है कि आज की पीढी को सेक्स और कॉन्ट्रासेप्शन के बारे में पहले के मुकाबले ज्यादा जानकारी है। लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं चूक हो ही जाती है क्‍योंकि इसके बारे में काफी मिथ भी है। #ALERT: सेक्‍स के बाद जलन और तेज खुजली होती है तो ये हैं कंडोम की एलर्जी के लक्षण, पढ़ें

इंटरनेट आ जाने की वजह से लोग अपने डाउट को खतम कर लेते हैं लेकिन अब भ्रांतियां बहुत ज्यादा स्थापित हो चुकी हैं। बाजार में इतने ढेर सारे गर्भनिरोधक उपलब्‍ध हैं कि सभी को सब चीजों के बारे में ठीक से पता हो यह जरुरी नहीं है। तो अगर आपके भी मन में बर्थ कंट्रोल को ले कर कुछ गलतफहमी है तो उसे हम अभी दूर कर दे रहे हैं।

Boldsky

Myth #1- Partner अगर withdraw कर ले तो आपको बर्थ कंट्रोल की जरुरत नहीं

इस चीज को ‘withdrawal-method' कहते हैं, जो कि बिल्‍कुल भी सेफ नहीं होता और यह किसी भी प्रकार का गर्भनिरोधक नहीं है। सेक्सुअल इंटरकोर्स के दौरान अराउज होने के बाद पुरुष प्री-इजैक्युलेट फ्लुइड इजेक्ट करते हैं जिसमें 300000 तक स्पर्म हो सकते हैं। ऐसे में विड्रॉल का यह तरीका बहुत कारगर नहीं माना जाता। इसके अलावा वजाइना के आसपान सीमन का प्रवाह भी प्रेग्नेंसी के लिहाज से रिस्की हो सकता है। इसलिए यह नहीं कहा जा सकता कि यह गर्भनिरोध का कारगर तरीका है।

Myth #2- Contraception से वजन बढ जाता है

आज तक ऐसा कोई प्रूफ नहीं पाया गया है कि गर्भ निरोधक गोलियां लेने से किसी का वजन बढ़ा हो। कुछ महिलाओं का वजन बढने लगता है लेकिन वह सिर्फ ब्‍लोटिंग की वजह से होता है।

Myth #3- दो कंडोम से मिलती है ज्‍यादा प्रोटेक्‍शन

गर्भ धारण को रोकने के लिए एक ही कंडोम काफी है। दो के इस्तेमाल से वे फट सकते हैं और फायदे की जगह नुकसान हो सकता है।

Myth #4- कंडोम का इस्तेमाल केवल पुरुष कर सकते हैं

बाजार में फीमेल कंडोम भी उपलब्ध हैं, जिन्हें महिलाएं इस्तेमाल कर सकती हैं। ये भी पुरुषों वाले कंडोम की ही तरह लेटेक्स से बने होते हैं।

Myth #5- कभी-कभी पिल लेने में गैप भी कर सकते हैं

आप को पिल खाना तभी बंद करना चाहिये जब आप प्रेगनेंट होना चाहें। अगर आपकी हेल्‍थ अच्‍छी है तो आपको पिल खाना बंद नहीं करना चाहिये। अगर आप ने इसे बंद करने के कुछ महीनों बाद लेना शुरु किया तो आपकी बॉडी को कुछ नुकसान झेलने पड़ सकते हैं। आपकी बॉडी को दुबारा आदत डालनी पड़ेगी इस पिल की।

Myth #6- लंबे समय तक पिल लेने पर महिलाएं बांझ बन जाती हैं

यह बात भी पूरी तरह से गलत मानी जाती है। एक बार जब आप गर्भ निरोध लेना बंद कर देती है, तब आपकी बॉडी प्रेगनेंसी के लिये तैयार हो जाती है। पर इसमें कितना समय लगता है यह अलग अलग महिलाओं पर डिपेंड करता है। पर हां पिल लेने से फर्टिलिटी पर किसी भी प्रकार का असर नहीं पड़ता।

Myth #7- स्‍तनपान करवाते समय आप प्रेगनेंट नहीं हो सकती

ये बात सही है कि ब्रेस्‍टफीडिंग से ओव्‍यूलेशन में थोड़ा समय लग सकता है, पर यह किसी भी प्रकार का contraceptive तरीका नहीं माना जाता, जिस पर आंख बंद कर के भरोसा किया जाए।

Myth #8- पहली बार इंटरकोर्स में प्रेग्नेंट नहीं हो सकती

यह बात बिलकुल गलत है। एक स्त्री के प्रेग्नेंट होने के चांसेज कुछ स्पेशल केसेज के अलावा हमेशा एक जैसे ही होते हैं। ओव्यूलेशन के प्रॉसेस की शुरुआत के बाद स्त्री कभी भी प्रेग्नेंट हो सकती है। इस बात से कोई फर्क नहीं पडता कि इंटरकोर्स पहली बार है या नहीं।

Myth #9- सिर्फ मर्द ही कर सकते हैं कंडोम का प्रयोग

बाजार में फीमेल कंडोम भी उपलब्ध हैं, जिन्हें महिलाएं इस्तेमाल कर सकती हैं। ये भी पुरुषों वाले कंडोम की ही तरह लेटेक्स से बने होते हैं।

Myth #10- पिल को हमेशा एक ही समय लेना चाहिये

आप पिल को किसी भी समय क्‍यूं ना लें, इसका प्रभाव बिल्‍कुल भी कम नहीं होगा। इसलिये इसे सेक्‍स के बाद लें या पहले, इससे कोई फरक नहीं पड़ेगा।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Ridiculous Myths About Contraceptives That You Shouldn’t Believe

    There are some pretty wild rumours floating around about what counts as birth control. We have listed the most absurd myths surrounding contraception and have busted them.
    Story first published: Wednesday, December 20, 2017, 15:35 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more