क्यों देवी सीता ने जीवित ही निगल लिया था पुत्र समान लक्ष्मण को

Posted By: Rupa Singh
Subscribe to Boldsky

रामायण के कई ऐसे किस्से हैं जिसे जानकर आप आश्चर्यचकित हो जाएंगे। उन्हीं में से एक अनोखी कहानी आज हम आपको बताने जा रहे हैं। यह कहानी देवी सीता और उनके देवर लक्ष्मण से जुड़ी हुई है। हम सब जानते हैं कि देवी सीता लक्ष्मण जी को अपना देवर नहीं बल्कि पुत्र मानती थीं और लक्ष्मण जी भी उनको माता के समान ही आदर देते थें लेकिन फिर भी माँ जैसी भाभी ने उन्हें जीवित ही निगल लिया था।

क्या है इसके पीछे का सत्य आइए जानते हैं।

mata sita

माता सीता ने मांगी थी मन्नत

कहते हैं वनवास जाने से पूर्व देवी सीता ने यह मन्नत मांगी थी कि यदि वह सकुशल अपने पति और देवर के साथ वापस अयोध्या लौट आएंगी तो सरयू नदी के दर्शन कर विधिपूर्वक उनकी पूजा अर्चना करेंगी।

रावण को पराजित कर और चौदह वर्षों का वनवास काटकर जब श्री राम, सीता जी, और लक्ष्मण वापस लौटें तो एक दिन अचानक उन्हें स्मरण हुआ कि उन्हें सरयू नदी पर जाकर अपनी मन्नत पूरी करनी है। जिसके पश्चात वे रात्रि के समय वहां जाने के लिए निकली तभी लक्ष्मण जी वहां आ गए और उन्होंने भी साथ चलने की बात कही। माता सीता लक्ष्मण जी को न नहीं कह सकीं और उन्हें लेकर नदी के तट पर पहुंच गयीं।

mata sita

अघासुर ने लक्ष्मण जी पर कर दिया आक्रमण

नदी के तट पर पहुँच कर माता ने लक्ष्मण जी से एक घड़े में जल लाने को कहा। कहते हैं जब लक्ष्मण जी घड़े में जल भर रहे थे तब अघासुर नाम के एक राक्षस ने उन पर आक्रमण कर दिया। वह उन्हें निगलना चाहता था किंतु इससे पहले वह राक्षस कुछ कर पाता माता सीता वहां पहुँच गयीं और उन्होंने ही लक्ष्मण जी को निगल लिया।

माना जाता है कि जब सीता जी ने लक्ष्मण जी को निगला तो माता का शरीर पानी की तरह पिघल गया।

mata sita

हनुमान जी माता सीता को लेकर पहुंचे श्री राम के पास

कहा जाता है कि सरयू नदी के तट पर जो भी घटित हो रहा था वह सब बजरंगबली अदृश्य होकर देख रहे थे। जैसे ही देवी सीता का शरीर पिघला उन्होंने उसे एक घड़े में भर लिया और फ़ौरन श्रीराम के पास पहुंचे। सारी बात जानने के बाद श्री राम ने हनुमान जी को इस घटना के पीछे का रहस्य बताया। दरअसल, अघासुर को शिव जी का वरदान प्राप्त था जिसके अनुसार जब सीता जी और लक्ष्मण जी का तन एक तत्व में बदल जायेगा तब उसी तत्व से इस राक्षस का अंत होगा।

mata sita

श्री राम ने हनुमान जी को यह भी बताया की वह तत्व उनके द्वारा ही अस्त्र के रूप में प्रयुक्त किया जाएगा।

इसके बाद प्रभु श्री राम ने हनुमान जी को आज्ञा दी कि वह तुरंत ही उस तत्व को सरयू नदी में प्रवाहित कर दें। कहते हैं जैसे ही बजरंबली ने उस तत्व को सरयू नदी में बहाया एक भयंकर ज्वाला उठी जिसमें अघासुर जल कर भस्म हो गया। इस प्रकार उस दुष्ट राक्षस का वध देवी सीता और लक्ष्मण जी के द्वारा हुआ।

माना जाता है कि अघासुर की मृत्यु के पश्चात माता सरयू स्वयं प्रकट हुई और उनके आशीर्वाद से देवी सीता और लक्ष्मण जी को पुनः अपना अपना शरीर वापस मिल गया।

English summary

क्यों देवी सीता ने जीवित ही निगल लिया था पुत्र समान लक्ष्मण को

know-why-sita-ji-swallowed-laxman