इन देशों में सेक्‍स वर्कर्स को सरकार देती है बीमा और पेंशन... यहां लीगल है सबकुछ..

Subscribe to Boldsky

दुनिया भर में वेश्यावृत्ति वर्षों से चली आ रही है। हालांकि लोग चोरी-छिपे इसमें शामिल होते हैं, लेकिन खुल कर इस बारे में बात नहीं करते। पुरुष प्रधान समाज में वेश्‍यावृति होना कोई बड़ी बात नहीं हें।

हालांकि हमारे देश में वैश्‍यावृति को अच्‍छी नजरों से नहीं देखा जाता हैं यहां ये अवैध हैं। लेकिन वहीं, दुनियाभर में कई देशों में वेश्यावृत्ति कानूनी रूप से वैध है। यहां सेक्स वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन किया जाता है। उन्हें टैक्स चुकाना पड़ता है। इतना ही नहीं, सरकार की ओर से उन्हें बीमा और पेंशन जैसी सुविधाओं का लाभ भी मिलता है।

Bizarre things done in the name of love | Boldsky

आइए जानते हैं ऐसे देशों के बारे में जहां वेश्‍यावृति है कानूनी रुप से वैध

Boldsky

न्यूजीलैंड

यहां साल 2003 में वेश्यावृत्ति को कानूनी मान्यता दी गई। इसके लिए बाकायदा सार्वजनिक स्वास्थ्य और रोजगार कानून के तहत वेश्यालयों को लाइसेंस जारी किया जाता है। यानी सेक्स वर्कर्स को दूसरे कर्मचारियों की तरह ही रोजगार से संबंधि‍त सामाजिक लाभ हासिल है।

ऑस्ट्रिया

वेश्यावृत्ति यहां पूरी तरह वैध है। यहां वेश्याओं का रजिस्ट्रेशन होता है। उनके कई हेल्थ चेकअप भी होते हैं। यहां इस धंधे में शामिल होने के लिए लड़कियों की न्यूनतम उम्र 19 साल है।

बेल्जियम

वेश्यावृत्त को वैध कर यहां पर लोग इससे जुड़े खौफ और हिंसा को खत्म करने के साथ इसे व्यवस्थित हो कर चला रहे हैं। मने यहां पर इस काम में तकनीक का भरपूर इस्तेमाल किया जाता है।

जर्मनी

1927 से यहां पर वेश्यावृत्ति मान्य है और तब से यहां पर चकले चल रहे हैं। सेक्स वर्कर्स को टैक्स चुकाना पड़ता है। यही नहीं, उन्हें स्वास्थ्य बीमा का लाभ और पेंशन जैसी सुविधाएं भी मिलती हैं। यहां सेक्‍स वकर्स के हितों और अधिकारों के लिए एसोसिएशन भी है।

कनाडा

2014 से पहले तक यहां वेश्यावृत्ति को कानूनी तौर पर वैध माना जाता ह है, लेकिन सेक्स खरीदना साल 2014 के अंत में यहां अवैध माना जा रहा था। यहां के सेक्सवर्कर्स खतरनाक स्थिति में है।

बांग्लादेश

कम उम्र की लड़कियों को इस काम में धकेलने के लिए बांग्लादेश भी बदनाम है। पड़ोसी मुल्क में पुरुष वेश्यावृत्ति को छोड़ कर सब वैध है। वैश्‍यालय चलाना भी।

कोलाम्बिया

यहां एक बहुत बड़ी सेक्‍स इंडस्‍ट्री चलती है। य‍हां सेक्‍स वकर्स का लाइसेंस लेकर काम करना कानूनी तौर पर लीगल है। माना जाता है करीब 35 हजार बच्‍चे यहां वैश्‍यावृति में सक्रिय है।

ब्राजील

ब्राजील में वैश्‍यावृति पूरी तरह से कानूनी हैं लेकिन यहां वैश्‍यालय चलना या किसी को सेक्‍स वर्कर रखना कानूनी तौर पर जुर्म है। यहां के सेक्‍स वकर्स के कानूनों के लिए सरकार की तरफ से एक ऑफिशियल वेबसाइट 'सेक्‍स वकर्स ब्राजील लेबर एंड एम्‍पॉलयमेंट मिनिस्‍ट्री' भी हैं। जिसमें वैश्‍यावृति को लीगल और रेवन्‍यू बढ़ाने का मुख्‍य स्‍त्रोत बताया है।

नीदरलैंड

यहां यहां वैश्‍यावृति पूरी तरह से मान्‍य है। यहां 90 प्रतिशत सेक्‍स वकर्स में तो 5 प्रतिशत ही महिलाएं है बाकि ट्रांसजेंडर और पुरुष इसमें लिप्‍त हैं। यहां की रेड विंडो सेक्‍स वकर्स दुनियाभर की सेक्‍स इंड्रस्‍टी में जानी जाती है। यहां सेक्‍स वकर्स को लाइसेंस मिलता है जिसकी पूरी जिम्‍मेदारी यहां की म्‍यूनिसीपालिटिज की होती है।

मेक्सिको

मैक्सिको में भी सेक्‍स वकर्स की कानूनी तौर पर उम्र 18 साल होनी जरुरी है। यहां नियमित हेल्‍थ चेकअप पर कानून बना हुआ है। यहां के सेक्‍स वकर्स के लिए सरकार हेल्‍थ कार्ड बनाकर देती है ताकि वो समय समय पर हेल्‍थ चेकअप करवाते रहें।

अर्जेंटीना

पैसों के लिए सेक्‍स करना अर्जेंटीना में पूरी तरह से कानूनी हैं। लेकिन यहां वैश्‍यालय चलाने पर रोक‍ है। यहां सेक्‍स वकर्र के लिए बहुत बड़ी संस्‍था चलाई जाती है। जिसे एसोसिएशन ऑफ वीमन प्रॉस्‍टीट्यूट आफॅ अर्जेंटीना कहा जाता है। अर्जेंटीना के कानून के अनुसार अगर कोई प्रॉस्‍टीट्यूट खुलेआम कोई संदिग्‍ध या गलत काम करती है तो उसे गिरफ्तार किया जा सकता है।

थाईलैंड

थाईलैंड सेक्‍स इंड्रस्‍टी में काफी प्रचलित नाम हैं। यहां वैश्‍यावृति के लिए सरकार ने कई सारे नियम और कानून बनाए हैं। यहां इस देश में अकेले 3 मिलियन सेक्‍स वकर्स इस इंडस्‍ट्री में सक्रिय है। इनके लिए हेल्‍थ चेकअप करवाना जरुरी है।

English summary

इन देशों में सेक्‍स वर्कर्स को सरकार देती है बीमा और पेंशन... यहां लीगल है सबकुछ.. | countries where prostitution is legal and regulated

Here are some of the countries where prostitution is legal.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more