स्ट्रीट फूड है पसंद! तो खाने से पहले रखें इन 10 बातों का ख्‍याल

Subscribe to Boldsky

इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, पुसा (आईएचएम) ने हालही में पूरे दिल्ली के स्ट्रीट फूड जैसे गोलगप्पे और मोमोज़ के कुछ सैंपल लिए थे। जिन्हे लैब में टेस्ट करने के बाद यह पता चला कि इसमें ईकोली नामकबैक्टीरिया पाया गया है। ईकोली के शरीर में जाने से दस्त या गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी बीमारियां होती हैं। गैस्ट्रोएंटेराइटिस एक ऐसी बिमारी जिसमें पेट या आंतों में सूजन हो जाती है। ईकोली बैक्टीरिया ज्यादातरस्ट्रीट फूड में पाया जाता है फिर वह कटे हुए फल हों या अन्य कोई खाद्य पदार्थ। यह बैक्टीरिया ज्यादातर गर्मी के मौसम में ज्यादा पनपता है। मुँह में पानी लाने वाले 20 स्ट्रीट फ़ूड

इसीलिए आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहें हैं जिससे आप गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी से बच सकते हैं। क्योंकि स्ट्रीट फ़ूड ऐसा खाना है जिसे आप लंबे समय तक नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं।

और कई लोग ऐसे हैं जिन्हें यह खाना बहुत पसंद होता है और जब उनके सामने यह फ़ूड आता है तो वे बिना कुछ सोचे समझे बस खाने लग जाते हैं। तो आज हम आपको आपको कुछ ऐसी टिप्स देने जा रहें हैं जिन्हें ध्यान में रखने से आप बीमार भी नहीं होंगे और स्ट्रीट फ़ूड का मज़ा भी ले सकेंगे।

Boldsky

1. प्लेट को साफ करें:

जब कभी भी अगर आप बाहर खाना खाएं तो इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि जिस भी बर्तन या प्लेट में खाना खाने जा रहें हैं, वह साफ़ हो। और अगर वह साफ़ नहीं है तो उसे वहीँ टिशू पेपर से साफ़ करें या दूसरी साफ़ प्लेट मांगे।

2. आस पास देखें

सड़क पर खाना खाने से पहले यह जरूर देखने कि जहां खाना बन रहा है वह साफ़ है की नहीं। और जो भी सब्ज़ी या अन्य मसाले उसमें डाले जा रहें हैं वह ठीक है की नहीं। क्यों कि अगर कोई भी चीज़ गंदगी से मिल कर आपके भोजन में जायेगी। वह आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह होगी।

3. जूस कैसा है

अक्सर लोग घर से बाहर निकलते हैं तो एक बार जूस जरूर पीते हैं। ऐसी दुकाओं से जूस पीते वक़्त यह जरूर देखें कि जूस निकालने के बाद वह जिस जग में डाल रहा है वह साफ़ हो। और यह भी देखें कि जूस निकालने से पहले वह जग साफ़ पानी दे धो रहा है कि नहीं, क्योंकि अक्सर उनकी दूकान में पानी से भरा एक टब रखा रहता है जिसमें वे जग धो देते हैं।

4. कटे हुए फल ना खाएं

गर्मियों में सड़क के किनारे कटे खरबूजे, आम, तरबूज, और पपीता मिलता है और लोग इन्हे बड़े चाव से खाते हैं। लेकिन हमारा यह सुझाव है कि ऐसा बिलकुल ना करें। ऐसे फल खाने से कई तरह की आपको बीमारी दे सकते हैं। क्योंकि कटे हुए फल को तुरंत फ्रिज में करना चाहिए। नहीं तो इनमें बैक्टीरिया पनप जाते हैं।

5. बर्फ से बचें

सड़क पर मिलने वाले पिए पदार्थ ना पीएं खास कर वह जो गर्म हों। क्योंकि ऐसा कुछ भी आप अगर पीते हैं तो उसमें बैक्टीरिया होने की सम्भाना ज्यादा होती है। यही नहीं उसे ठंडा करने के लिए उसमें बर्फ डाल देते हैं और यह भारतीय रेस्तरां में बहुत होता है। तो ऐसे पिए पदार्थ को बिलकुल ना पियें।

6. चाय

आप कहीं पर भी पी सकते हैं फिर चाहे वहां गंदगी ही क्यों ना हो। ऐसा इस लिए है क्योंकि चाय में पड़ने वाला पानी, दूध, चीनी सब कुछ गर्म किया जाता है। और इस उसमें किसी भी तरह के बैक्टीरिया नहीं होते हैं।

7. सफाई देखें

क्या वो दुकानदार गंदा पुराना चाक़ू इस्तेमाल कर रहा है या चोप्पिंग में दरारे हैं। तो ऐसी जगह पर खाना ना खाएं। क्यों ऐसी जगह खाना खाने से आप बीमार पड़ सकते हैं। तो किसी साफ़ जगह को ढूढ़े और वह खाएं।

8. वहीँ खाएं जहाँ स्थानीय लोग खाते हैं

अगर आप सड़क पर घूम रहें हैं और किसी दूकान पर कोई भी स्थानीय ग्राहक खाना नहीं खा रहें है तो इसका मतलब है यहाँ कुछ गड़बड़ है। अगर आप किसी नए शहर में स्ट्रीट फ़ूड ढूढ़ रहें हैं तो हमेशा ऐसी जगह जाएँ। जहाँ स्थानीय लोग ज्यादा हों। इसका एक मतलब तो यह कि यहाँ का खाना अच्छा है और दूसरा कि हो सकता है यहाँ आपको खाने के पैसे कम देने पड़े।

9. सॉस खाने से बचे

तो अगर आप बाहर खाना खा रहें हैं तो चटनी और सॉस आपको मिल रहा है तो उसे ना खाएं। चटनी और सॉस ज्यादातर समोसे, चोमिने और मोमोज़ के साथ मिलते हैं। जिन्हें कैसे बनाया गया है यह आपको भी नहीं पता होगा। इसलिए उसे खाने से पहले इस बात का ध्यान जरूर रखें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Shocking News: How Unhygienic is the Street Food We Love To Eat?

    Always, always look at the utensils you're being served in. If you see traces of oil or dirt then ask for a fresh one. Or at least take a disinfectant wipe or tissue and wipe the plate clean.
    Story first published: Tuesday, November 14, 2017, 15:27 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more