जानें, शंख बजाने से हमारे शरीर को होते हैं कौन से स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

भारतीय हिंदू परिवार में शंख बजाना एक सुंदर प्राकृतिक कला का प्रतीक है और यह भगवान कृष्ण के साथ जुड़ा हुआ है। इसकी आवाज पर्यावरण में हानिकारक तत्वों को नष्ट करने और सकारात्मक ऊर्जा लाने में मदद करती है।

कोई भी पूजा एक शंख के बिना बिना अधूरी है। शंख के आध्यात्मिक महत्व के साथ-साथ इसके कई अन्य स्वास्थ्य लाभ भी हैं। हम आपको बता रहे हैं कि आपको रोजाना शंख क्यों बजाना चाहिए।

Boldsky

गुदाशय की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं

शंख बजाने से मूत्र पथ, मूत्राशय, निचले पेट, डायाफ्राम, छाती और गर्दन की मांसपेशियों के लिए बेहतर है, इससे इन अंगों की एक्सरसाइज होती है। सबसे बड़ी बात कि इससे आपके गुदे की मांसपेशियों एक्सरसाइज़ होती है। यानि इससे गुदाशय की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं आपको कई समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है, जो गुदा की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण हो सकती हैं।

प्रोस्टेट स्वास्थ्य

चूंकि यह प्रोस्टेट क्षेत्र पर दबाव डालता है, यह प्रोस्टेट स्वास्थ्य में सुधार करता है और प्रोस्टेट वृद्धि को रोकने में मदद करता है। जब आप शंख बजाते हैं, तो आपके फेफड़े की मांसपेशियों का विस्तार होता है, उनकी हवाई क्षमता में सुधार होता है।

थायरॉयड ग्रंथियों में सुधार

शंख बजाने से आपकी थायरॉयड ग्रंथियों और वोकल कोड्स की एक्सरसाइज होती है और किसी भी स्पीच की समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है।

चेहरे की झुर्रियां दूर होती हैं

जब आप एक शंख बजाते हैं, तो आपका चेहरे की मांसपेशियां में खिंचाव आता है, इसलिए आपको शंख बजाने से फाइन लाइन्स को अपनेआप दूर करने में मदद मिलती है।

स्‍किन के रोग दूर होते हैं

रात में शंख में पानी भरकर रखें और सुबह उसे अपनी त्वचा पर मालिश करें। इससे त्वचा संबंधी रोग दूर हो जाएंगे।

तनाव दूर करे

जिन लोगों को किसी वजह से तनाव रहता है, उन्हें भी शंख बजाना चाहिए। शंख बजाते समय दिमाग से सारे विचार चले जाते हैं। इससे तनाव काम करने में मदद मिलती है।

नकारात्मकता दूर रहती है

जिन घरों में शंख बताया जाता है, वहां कभी नकारात्मकता नहीं आती है। कहते हैं कि जब शंख बजाया जाता है तो ओम की ध्वनि निकलती है।

दिल के दौरे से रहेंगे हमेशा दूर

नियमित शंख बजाने वाले को कभी हार्ट अटैक नहीं आएगा। शंख बजाने से सारे ब्लॉकेज खुल जाते हैं। इसी तरह बार-बार श्वास भरकर छोड़ने से फेंफड़े भी स्वस्थ्य रहते हैं। हकलाने वाले बच्चों से शंख बजवाया जाए, तो उनकी हकलाहट दूर हो सकती है।

इन बातों का रखें ध्यान

1) सुनिश्चित करें कि आप एक विशेषज्ञ से शंख बजाना सीखें क्योंकि लापरवाह से बजाने से कभी कभी आपके कान और आंख की मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है और आपका डायाफ्राम भी टूट सकता है।

2) एक आम गलती जो कि अधिकांश लोग करते हैं, यह है कि वे अपने नाक के बजाय उनके मुंह से श्वास डालते हैं। जब आप अपने मुंह से श्वास डालते हैं जो हवा को बरकरार रखने के लिए नहीं है, तो पेट पेट में जाता है। तो सुनिश्चित करें कि शंख बजाते समय आप हमेशा अपने नाक से श्वास डालें।

ध्‍यान रखें

3) यदि आप उच्च रक्तचाप, हर्निया या मोतियाबिंद से पीड़ित हैं, तो शंख आपको शंख बजाने से बचना चाहिए क्योंकि यह अंगों पर दबाव डाल सकता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    जानें, शंख बजाने से हमारे शरीर को होते हैं कौन से स्‍वास्‍थ्‍य लाभ | Health benefits of blowing a shankh or a conch shell

    Conch blowing can provide a great exercise for, urinary tract, bladder, lower abdomen, diaphragm, chest and neck muscles. Here’s why you should blow the shankh or the conch shell every single day.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more