For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

ज्‍यादा सरसो के तेल को खाने से सेहत को पहुंच सकता है नुकसान, जानें क‍ौन रखें ध्‍यान

|

सरसों के तेल के फायदे तो हम सभी जानते है। सदियों से हमारे देश में सरसों के तेल का इस्‍तेमाल क‍िया जा रहा है। सब्‍जी से लेकर बालों की मालिश करने में सरसो के तेल का खूब इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। हालांकि, बहुत से लोग सरसों के तेल के हमारे शरीर, त्वचा और बालों पर होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में नहीं जानते हैं। सरसों के तेल में बड़ी मात्रा में एरिक एसिड होता है, जिसका ज्‍यादा इस्‍तेमाल करने से ये हमारे शरीर के लिए जहरीला साबित हो सकता है और गंभीर समस्‍याएं हो सकती है सकता है। सरसों के तेल के और भी कई नुकसान हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए।

एलर्जी का कारण बन सकता है

एलर्जी का कारण बन सकता है

सरसों के तेल के ज्‍यादा इस्‍तेमाल करने से एलर्जी हो सकती है। इसके वजह से इम्युनोग्लोबुलिन ई या आईजीई-मध्यस्थता वाली एलर्जी होती हैं, जैसे कि लालिमा, खुजली, सूखी और टूटी हुई त्वचा, आदि, और गंभीर नहीं हैं।

त्‍वचा को नुकसान पहुंचा सकता है

त्‍वचा को नुकसान पहुंचा सकता है

सरसों के तेल का लंबे समय तक इस्‍तेमाल से त्वचा को प्रभावित कर सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि यह त्वचा के कार्य में बाधा डालता है और एपिडर्मिस के माध्यम से पानी की कमी को बढ़ाता है, जिससे एपिडर्मल केराटिनोसाइट्स की संरचना में काफी बदलाव आता है। यह प्रमुख त्वचा फफोले को भी मध्यम कर सकता है।

हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित करता है

हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित करता है

सरसों के तेल के एरिटिक एसिड सामग्री का उच्च स्तर हमारे दिल के स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है और इसे काफी नुकसान पहुंचा सकता है। यह ज्यादातर मामलों में मायोकार्डिअल लिपिडोसिस, अध: पतन के रूप में एक निश्चित चिकित्सीय स्थिति पैदा करने के लिए जाना जाता है। जिसमें फाइब्रोटिक घावों का विकास मायोकार्डियल फाइबर या हृदय की मांसपेशियों में ट्राइग्लिसराइड्स के निर्माण या उनमें वसा की बूंदों के कारण होता है। यह हृदय की मांसपेशियों को बुरी तरह से नुकसान पहुंचा सकता है।

फेफड़ों के लिए है नुकसानदायक

फेफड़ों के लिए है नुकसानदायक

हृदय संबंधी जोखिमों को बढ़ाने के अलावा, सरसों के तेल में एरिटिक एसिड हमारे फेफड़ों को भी परेशान करता है। प्रारंभिक चरण में, यह हमारे श्वसन तंत्र के ऊपरी हिस्से (विशेष रूप से श्वसन पथ) को प्रभावित कर सकता है, जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है, लेकिन सरसों के तेल का लंबे समय तक सेवन हमें फेफड़ों के कैंसर का शिकार बना सकता है।

गर्भावस्था को प्रभावित करता है

गर्भावस्था को प्रभावित करता है

गर्भवती महिलाओं को सरसों के तेल के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें कुछ रासायनिक यौगिक होते हैं जो भ्रूण के साथ-साथ गर्भवती के ल‍िए भी हानिकारक हो सकते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार, इन रसायनों के परिणामस्वरूप गर्भपात हो सकता है।

English summary

Mustard Oil Disadvantages in Hindi: Serious Harm To Health Due To The Consumption Of Mustard Oil

Mustard Oil Side Effects in Hindi: There are many other disadvantages of mustard oil, which you should cause harm to health. Read on.