धतूरे से कीजिये अपने सारे रोंगो की छुट्टी, ऐसे करें प्रयोग

Posted By:
Subscribe to Boldsky

धतूरे का महत्‍व हम तभी समझते हैं जब शिवरात्री होती है। पर क्‍या आप जानते हैं कि धतूरे के कई ढेर सारे स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी हैं? धतूरे की जड़, फल, फूल और पत्‍ते आदि सभी में औषधि गुण छुपे हुए हैं।

अगर आपको जोड़ो का दर्द है तो इसके पत्‍ते काफी लाभदायक हो सकते हैं। आयुर्वेद के ग्रथों में इसे विष वर्ग में रखा गया है। धतूरे की हर चीज को आयुर्वेद में इस्‍तमाल करने को बोला गया है।

यहां तक कि इसका इस्‍तमाल आज की दवाइयों में भी किया जाता है। धतूरे की जड सूंघे तो मृगीरोग शाँत हो जाता है। आइये अब नीचे दी हुई स्‍लाइड्स को देख कर जानते हैं धतूरे के औषधीय गुणों के बारे में...

 बाल झड़ना रोके

बाल झड़ना रोके

क्‍या आपके बाल झड़ रहे हैं? धतूरे के रस को सिर पर मलें और फिर देंखे कि आपका गंजापन कैसे दूर होता है। इसके पत्‍तों का लेप सिर पर लगा सकते हैं।

बालों से जुएं हटाने के लिये

बालों से जुएं हटाने के लिये

सिर में अगर जुएं हैं तो आधा लीटर सरसों के तेल में ढाई सौ ग्राम धतूरे के पत्तों का रस निकालकर धीमी आंच पर पकाएं। जब केवल तेल बच जाए तब इसे बोतल में भर दें और सिर पर नियमित लगाएं।

दर्द-निवारक गुण

दर्द-निवारक गुण

धतूरे की पत्‍तियों, फूलों व बीज़ों को पीस कर पेस्‍ट बनाइये और दर्द वाली जगह पर लगाइये। ऐसा करने पर आपको राहत मिलेगी। इस पेस्‍ट को सरसों या तिल के तेल में पकाइये और फिर लगाइये।

कान का दर्द

कान का दर्द

यदि आपके कान में दर्द हो रहा हो तो, सरसों के तेल में गंधक और 500 ग्राम धतूरे के पत्‍तों का रस मिला कर धीमी आंच में पका कर कान में डालें। इसकी दो बूंदे डालनी हैं।

गठिया दर्द दूर करे

गठिया दर्द दूर करे

दर्द दूर करने के लिये धतूरे के पंचांग का रस निकालकर उसको तिल के तेल में पकायें, जब तेल शेष रह जाये तो इस तेल को मालिश करके ऊपर धतूरा के के पत्‍ते बांध देने से गठिया दूर होता है।

गर्भधारण के लिए करे मदद

गर्भधारण के लिए करे मदद

धतूरे के फलों का चूर्ण 2.5 ग्राम की मात्रा में बनाकर इसमें आधा चम्मच गाय का घी और शहद मिलकर रोजाना चटाने से स्त्रियों को जल्द गर्भधारण करने में भी मदद मिलती है।

English summary

Amazing Health Benefits of Datura

in Ayurveda, Datura is used as medicine and ritual as well as prayers has also place this. Even being a poisonous plant, datura has been using since the ancient times by ayurveda physicians, spiritual purposes, holy men and its use in modern medicine drugs.
Story first published: Wednesday, September 20, 2017, 13:00 [IST]
Please Wait while comments are loading...