शोध में भी हुआ खुलासा पिता काे ज्‍यादा दुलारी होती है बेटियां

By Super Admin
Subscribe to Boldsky

माता-पिता के लिए हर बच्चा समान होता है, चाहे बेटा हो या बेटी। लेकिन हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि एक पिता अपनी बेटी को अपने बेटों से ज्‍यादा प्‍यार करता है।

इस शोध में यह ​साफ हुआ कि बच्चों के जेंडर के मुताबिक ​पिता के दिमाग कि प्रतिक्रिया बदलने के साथ ही उनका बर्ताव भी अपनी बेटी को लेकर काफी बदलता करता है। ऐसा शायद इसलिए भी क्योंकि पिता लड़कों की तुलना में लड़कियों की भावनाओं को ज्यादा अच्छे से स्वीकार करते हैं।

Boldsky

बेटियों के पिता होते है इमोशनल

इस रिसर्च में निकल कर आया कि बेटियों के पिता बेटों के पिता से ज्यादा सोशल होते हैं। जहां बेटी का पिता आराम से सबके सामने हर तरह के इमोशन को लेकर खुलकर बात करते है, तो वहीं बेटे के पिता रफ एंड टफ लाइफस्‍टाइल जीने के साथ खेलों में मशरुफ रहना ज्‍यादा पसंद करते हैं।

अच्‍छे से देते है जवाब

इस रिसर्च के अनुसार 'यदि बच्चा चिल्लाता है या पिता के लिए पूछता है, तो ऐसे में पिता बेटो की तुलना में बेटियों को अधिक जल्दी जवाब देते हैं।' साथ ही, लड़कियों के पिता ज्यादा विश्लेषणात्मक भाषा (जैसे सभी, नीचे और बहुत कुछ शब्दों) का उपयोग करते है, जबकि बेटों के पिता उनके साथ उपलब्धि वाली भाषा और शब्द का उपयोग करते है जैसे कि गर्व, जीत और शीर्ष।

ब्रेन स्केनिंग में मिला प्रूफ

इस शोध के लिए जब पिताओं के ब्रेन स्केनिंग की गई तो सामने आया कि, जिन फादर्स के बेटियां है, उनके दिमाग में बेटियों के हैप्पी एक्सप्रेशन से पिता ने बहुत जल्द रेस्पॉन्स दिया। हालांकि एमोरी युनिवर्सिटी के एंट्रोपॉ​लोजिस्ट जेम्स रिलिंग का मानना है कि इस जेंडर बेस्ड बिहेवियर का अर्थ यह नहीं है कि पिता अपने बच्चों में भेदभाव करते है। क्योंकि हो सकता है कि पिता का बेटी और बेटे के प्रति अलग अलग बर्ताव सोसाइटी की वजह से भी हो। क्योंकि दोनों बच्चों कि परवरिश सामाजिक अपेक्षाओं को ध्यान में रख कर की जाती है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    शोध में भी हुआ खुलासा पिता काे ज्‍यादा दुलारी होती है बेटियां | Study proves what we always knew. Fathers pay more attention to daughters

    The findings showed that fathers of toddler daughters sang more often and spoke openly about emotions, whereas those with toddler sons engaged in more rough-and-tumble play.
    Story first published: Monday, June 5, 2017, 9:10 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more