For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

ये पौधा फेफड़ों में जमा कफ निकाल देगा बाहर, दमा और खांसी का है अचूक

|

अडूसा, जिसे मालाबार नट के नाम से भी जाना जाता है, पूरे भारत में प्रसिद्ध है। इस पौधे में कई गुना औषधीय गुण होते हैं और यह सांस लेने में परेशानी, खांसी और सर्दी, नाक की भीड़, गले में खराश, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, अन्य ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण, रक्तस्राव विकार आदि जैसी कई स्वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के लिए एक अंतिम उपचारात्मक उपाय है। इसकी पत्ती में वेसिन नामक तत्‍व पाया जाता है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की दवाइयों के रूप में किया जाता है। आज हम आपको अडूसा के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं-

खांसी और जुकाम के उपाय

खांसी और जुकाम के उपाय

सर्दियों में बार-बार होने वाली खांसी और कंजस्टेड गला बहुत असुविधा पैदा कर सकता है, जिसकी वजह से अन्‍य समस्‍याएं भी होती है। एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और एक्सपेक्टोरेंट गुणों से भरपूर होने के कारण, अडूसा सामान्य सर्दी, खांसी और फ्लू के लक्षणों के इलाज में अत्यधिक महत्व रखता है। यह छाती और नाक की जकड़न को भी कम करता है। यह अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, साइनसाइटिस और सांस की अन्य बीमारियों के इलाज में भी अत्यधिक प्रभावी है। अडूसा के पत्तों को पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। श्वसन संक्रमण से बचाव के लिए इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर रोजाना इस काढ़े का सेवन करें।

रक्त शुद्ध करता है

रक्त शुद्ध करता है

एक शक्तिशाली हृदय टॉनिक होने के नाते, रक्त को शुद्ध करने के लिए जड़ी बूटी अत्यंत आवश्यक है। यह प्रभावी रूप से रक्त गणना में सुधार करता है, रक्तचाप का प्रबंधन करता है और इसलिए हृदय ताल से जुड़ी समस्‍याओं को रोकता है। एंटी-कौयगुलांट और एंटी-फाइब्रिनोलिटिक गुणों की उपस्थिति हृदय ब्लॉक के कारण धमनियों में रुकावट और थक्कों के गठन को भी रोकती है।

दमा

दमा

दमा के रोगी यदि अनंतमूल की जड़ों और अडूसा के पत्तियों की समान मात्रा (3-3 ग्राम) लेकर दूध में उबालकर पीते है तो फ़ायदा होता है। ऐसा कम से कम एक सप्ताह तक किया जाना जरूरी है।

सांस संबंधी रोगों से छुटकारा

सांस संबंधी रोगों से छुटकारा

अडूसा के पत्तों के रस को शहद में मिलाकर चाटने से खांसी और सांस संबंधी समस्याएं ठीक हो जाती हैं। सूखी खांसी दूर करने के लिए अडूसा के पत्ते, मुनक्का और मिश्री का काढ़ा बनाकर पीना चाहिए।

छालों का इलाज करता है अडूसा

छालों का इलाज करता है अडूसा

अगर आप मुंह के छालों से परेशान हैं तो अडूसा के दो से तीन पत्तों को चबाएं। इसके अलावा अगर आप अडूसा का रस पीते है या इसकी पत्तियों से रस चूसने से आपको जल्द ही मुंह के छालों से मुक्ति मिलेगी। याद रखें कि इन पत्तियों को चबाकर फेंक दें।

English summary

Ayurvedic Benefits of Adusa plant for Asthma and Cough Problem in Hindi

Adusa uses include treating respiratory conditions like asthma and Cough. Read on, to find out the amazing Adusa plant benefits in Hindi.
Story first published: Wednesday, November 3, 2021, 9:25 [IST]