For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

क्‍या है स्‍क्रीम थेरेपी, जानें कैसे हॉरर मूवी आपका मेंटेली फिट रखती है

|

हम में से कई लोग हॉरर फिल्म के फैन होते हैं। बढ़ता सस्पेंस, डर के मारे कूदना, अचानक तेज आवाज और अप्रत्याशित छवियां आपको मूवी देखते हुए सबसे मजेदार तरीके से डरा देती हैं। सारी मस्ती और डर के अलावा, आपको जानकर हैरानी होगी क‍ि एक हॉरर फिल्म देखने से आपके मानसिक स्वास्थ्य को फायदा भी हो सकता है, जी हां आपने सही पढ़ा।

इसे स्‍क्रीम थेरेपी भी कहा जाता है, स्‍क्रीम थेरेपी को कई लोग प्राइमल स्क्रीम थेरेपी के नाम से भी जानते हैं। इसमें योद्धा की मुद्रा में खड़े होने से लेकर फेफड़ों के ऊपरी ह‍िस्‍सों पर चीखना शामिल है। इस थेरेपी के फायदा पाने के ल‍िए डरावनी फिल्में देखना सबसे अच्छा तरीका है।

कुछ अध्ययनों के अनुसार, एक डरावनी फिल्म देखने से तनाव और चिंता को दूर करने में मदद मिल सकती है। आइए देखें कि कैसे एक डरावनी फिल्म देखना आपके मानसिक स्वास्थ्य में मदद कर सकता है।

क्‍या है स्‍क्रीम थैरेपी?

क्‍या है स्‍क्रीम थैरेपी?

ये थेरेपी आपके अंदर छिपे दुःख, निराशा और क्रोध को सक्रिय रूप से बाहर निकालने की कोशिश करती हैं। अगर आप दर्पण के सामने चिल्‍लाकर अपने अंदर के दर्द को कम करते हैं तो ये सबसे अच्‍छा तरीका है। एक्‍सपर्ट की मानें तो विशेषज्ञों के अनुसार, स्‍क्रीम थेरेपी व्यक्ति को क्रोध और निराशा को दूर करने या चिंता की भावनाओं के निर्माण से किनारा करने का एक तरीका बताती है।

कैसे काम करती है?

कैसे काम करती है?

नकारात्मक भावना (चिंता की) से जोड़कर, और इसे चिल्‍लाने के माध्यम से मुक्त क‍िया जाता है, इसमें शारीरिक कंपन संवेदनाएं (चिल्लाने के कारण) व्यक्ति के तंत्रिका तंत्र और अवचेतन को सचेत करती हैं - मूल रूप से मन को बताती हैं कि निर्वहन (चिल्‍लाना) एक सचेत है व्यक्ति द्वारा किया गया चुनाव है।

स्‍क्रीम थेरेपी और हॉरर मूवी

स्‍क्रीम थेरेपी और हॉरर मूवी

स्‍क्रीम थेरेपी या अपनी निराशा को दूर करने के लिए चिल्लाना समकालीन दुनिया का चलन नहीं है, बल्कि प्राचीन चीनी उपचार दृष्टिकोणों का एक हिस्सा रहा है। पारंपरिक चिकित्सा के एक भाग के रूप में, चीनी लोगों ने पीढ़ी से पीढ़ी तक इस प्रथा को आगे लेकर चलते रहें है। पारंपरिक चीनी चिकित्सा (टीएमसी) मानव शरीर और उसके अंगों की ऊर्जा और लय पर ध्यान केंद्रित करती है और कहती है कि चीखना यकृत और फेफड़ों के लिए एक अच्छा व्यायाम है। यदि आपने कभी किसी पर चिल्लाया या चिल्लाया है, तो यह आपको बहुत अच्छा लग सकता है, लेकिन ध्यान रखें कि आपका चिल्‍लाना सुनने वाले लोगों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। इसके अलावा, अध्ययनों से पता चला है कि मानव चीखों की खुरदरी आवाजें सुनने वाले लोगों के मन में गहरी भय प्रतिक्रियाओं को सक्रिय करती हैं। तो, यह बेहतर और सुरक्षित है (दूसरों के लिए) कि आप अपने घर या किसी सुरक्षित स्थान पर स्‍क्रीम थेरेपी लें। इसके अलावा, रिसर्च से पता चलता है कि चिल्लाने या चीखने से एंडोर्फिन का उत्पादन शुरू हो सकता है, जिससे व्यक्ति बेहतर महसूस कर सकता है।

क्या आप जानते हैं क्या होती है Active और Passive Immunity, कैसे करती है Body पर React | Boldsky
तो, डरावनी मूवी ही क्‍यों?

तो, डरावनी मूवी ही क्‍यों?

आपको आश्चर्य हो सकता है! जैसा कि विशेषज्ञ बताते हैं, जब आप ऐसी चीजों से जुड़ते हैं जो आपको (डरावनी फिल्में) डराती हैं, तो निहित एड्रेनालाईन कुछ दर्शकों के दिमाग के लिए अच्छा साबित हो सकता है। जब आप अपने आप को एक सुरक्षित और सुरक्षित वातावरण में ट्रिगर करने की अनुमति देते हैं, तो यह चिकित्सा के रूप में काम कर सकता है - चिंता जैसे मामूली मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि नियमित हॉरर फिल्म पारखी सक्रिय रूप से फिल्मों और उनकी डरावनी रणनीति पर प्रतिक्रिया देते हैं, जिससे बदले में उनकी चिंता के स्तर को प्रबंधित करने में मदद मिली।

विशेषज्ञ सरोगेसी सिद्धांत के माध्यम से डरावनी फिल्मों और मानसिक स्वास्थ्य के बीच की कड़ी की व्याख्या करते हैं - जिसमें कहा गया है कि डर किसी को डर को नियंत्रित करने की अनुमति देता है। यानी, एक डरावनी फिल्म देखने से आपको अपने डर और चिंता को नियंत्रित करने में मदद मिलती है, क्योंकि आपको यह सुनिश्चित करता है कि आप एक सुरक्षित स्थान पर हैं और एक तरह से एक्सपोज़र थेरेपी से जुड़े हैं (जहां एक व्यक्ति को नियंत्रित वातावरण में तनाव कम करने के लिए एक्‍सपोज किया जाता है।

English summary

What Is Scream Therapy? Read About How Horror Movies Can Benefit Your Mental Health in Hindi!

Scream therapy, also called primal scream therapy involves standing in a warrior pose and screaming at the top of your lungs. And horror movies are the best way to do this.