क्‍या पीरियड आने से पहले आपका वजन बढ़ जाता है, जानिए क्‍यूं ?

Posted By:
Subscribe to Boldsky

गर्ल्‍स को पीरियड्स के दिनों कई तरह की समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। पेट दर्द, कमर दर्द और कमजोरी होना। लेकिन क्‍या आपने एक बात नोटिस की है। कई लड़कियों का इस दौरान एकदम से वजन बढ़ जाता है। और पीरियड खत्‍म होते ही उनका वजन सामान्‍य दिनों वाला हो जाता है।

भूल कर भी ना खाएं ये 7 चीजें अपने पीरियड में

कई लड़किया ये भी शिकायत करती है कि पीरियड के दौरान या आसपास के दिनों में उनके ब्रेस्‍ट में भी भारीपन आ जाता है। जी हां कई लड़कियों को पीरियड के दौरान वजन बढ़ने जैसी समस्‍याओं से गुजरना पड़ता है।

इस आर्टिकल में बता रहे है कि आखिर क्‍यूं पीरियड में अचानक से वजन बढ़ जाता है?

पेट में अगर हो बिल्‍कुल पीरियड जैसा पेन, तो जरुर पढे़ इसके कारणों को

 bloating या water retention की समस्‍या

bloating या water retention की समस्‍या

पीरियड के दौरान या आने से पहले अचानक से वेट गेन की समस्‍या को , ब्लोटिंग या वॉटर रिटेंशन कहते है। बहुत सी महिलाओं को पीरियड शुरु होने से हफ्तेभर या दो हफ्ते पहले ऐसा महसूस होता है। दरअसल पीरियड्स से पहले शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से शरीर में तरल पदार्थ जमा होने लगते हैं। यही वजह है कि बहुत सी महिलाओं को पीरियड्स से पहले उनका वज़न बढ़ा हुआ महसूस होता है। साथ ही उन्हें इस समय ब्रेस्ट टेंडरनेस (breast tenderness) जैसी अन्य असुविधाएं भी महसूस होती हैं। प्रेगनेंसी के अलावा पीरियड्स लेट होने के कारण भी यह समस्‍याएं होती हैं।

गैस और डायरिया होने की वजह से भी

गैस और डायरिया होने की वजह से भी

पीरियड के दौरान लड़कियों का मूड ब‍हुत जल्‍दी स्विंग होता है। तो मीठा या नमकीन खाने की इच्‍छा होनी लाजमी सी है। अधिक नमकवाली चीज़ें ज़्यादा खाने से आपके शरीर में तरल पदार्थ जमा होने लगते हैं, और आपका शरीर फूला हुआ या वज़न बढ़ा हुआ महसूस होने लगता है। यह तरल पदार्थ आपके दिमाग और पेट की रक्त धमनियों पर भी दबाव बनाता है, और उन्हें परेशानी बढ़ाता है। पेट में बनी गैस और डायरिया की वजह से आपका शरीर और फुला हुआ दिखायी पड़ता है। इस दौरान इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने से आपके शरीर में और अधिक हार्मोनल बदलाव और ब्लोटिंग का कारण बनते हैं। पीरियड्स देरी से आने के लिए गोलियां खाने से पहले जान लें उनके बारे में।

कम खाएं नमक

कम खाएं नमक

शरीर में वॉटर रिटेंशन को कम करने के लिए आपको खाने में नमक की मात्रा कम करनी होगी। अचार, ब्रेड, सोडियम से भरपूर चीज़ें और सोडा जैसी चीज़ों से बचें जो ब्लोटिंग को कम करने में मददगार साबित होगा। संतुलित आहार खाएं, जिसमें ढेर सारी सब्ज़ियां और फल शामिल हों और आपको हाइड्रेट रखने में मदद करें। खान-पान से जुड़े छोटे-मोटे बदलाव करने से आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगी।

Story first published: Monday, April 10, 2017, 10:00 [IST]
English summary

Do You Suffer From Period Bloating

Bloating during a woman’s menstrual cycle is a fairly common occurrence, but why and when does it happen? When does bloating go away after period?
Please Wait while comments are loading...